पान साम्राज्य का पतन और गुटखा साम्राज्य का उदय..

-विष्णु नागर|| एक राजा था। उसे पान खाने का शौक पागलपन की हद तक था। उसके मुँह में एक पान ठूँसते ही सेवक दूसरा पान

Read More

मोदी जी के अच्छे कामों पर आलोचकों की नज़र नहीं जाती.?

-विष्णु नागर|| प्रधानमंत्री बीच- बीच में कुछ अच्छे काम भी करते रहते हैं।, जिन पर उनके आलोचकों की दृष्टि नहीं जाती। कोरोना की वजह से

Read More

बेचने-खरीदने वाले का धंधा कोरोना काल में भी जोरों पर..

=विष्णु नागर|| हमारे देश में बेचने-खरीदने वाले का धंधा कोरोना काल में भी जोरों पर है। इसमें इतना उछाल आया हुआ है कि कामधंधे भले

Read More

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram