क्या फिर साथ आएंगे शिवसेना-भाजपा..

महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार में तीनों प्रमुख घटक दलों यानी शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के बीच सब कुछ ठीक चल रहा है, सरकार अपना

Read More

क्या बर्फ पिघलने का वक्त आ गया है

मोदी सरकार क्या जम्मू-कश्मीर में फिर कुछ बड़ा करने जा रही है, इस सवाल का जवाब जानने के लिए इस वक्त देश उत्सुक है। दरअसल

Read More

सवाल अब कांग्रेस छोड़ने का नहीं बल्कि उसमें बने रहने का है

-सुनील कुमार॥ उत्तर प्रदेश से सांसद रहे और यूपीए सरकार में मंत्री रहे जतिन प्रसाद आज कांग्रेस छोडक़र भाजपा में चले गए। यह दलबदल उत्तर

Read More

सल्तनत की जंग: मोदी बनाम योगी..

बतौर मुख्यमंत्री, योगी आदित्यनाथ ने अपनी ऐसी छवि बना ली है, जिसके सामने चार साल पहले के उनके कई प्रतिद्वंद्वी काफ़ी पीछे नजर आते हैं। राज्य में योगीजी ने ख़ुद को वैसे ही बना लिया है जैसे प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी की छवि है। बल्कि धार्मिक कट्टरता और एकतरफा फैसले लेने जैसी कई बातों में वो उनसे कई गुना आगे दिखते हैं।

Read More

लाशें विपक्ष की तरह खूब बोली, विपक्ष लाशों की तरह रहा ख़ामोश

सियासत के सरताज अपनी मस्ती में मस्त हैं.. -तौसीफ़ क़ुरैशी॥ दुनिया कोरोना वायरस कोविड-19 के क़हर से कराह रही हैं लेकिन सियासत के सरताज अपनी

Read More

प. बंगाल की हिंसा के लिए कौन है ज़िम्मेदार.?

प. बंगाल में ममता बनर्जी ने तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। महामारी के इस दौर में कार्यकर्ताओं को जश्न न मनाने की नसीहत

Read More

कांग्रेस का कद आज भी ऊँचा है..

– सर्वमित्रा सुरजन वैसे चुनावों में हार से कांग्रेस के अस्तित्व पर सवाल उठाना गलत होगा। इस महामारी के वक्त जिस तरह राहुल गांधी लगातार मशविरे

Read More

दो मई ने जगाई उम्मीद नई

पिछले दो महीनों से देश में चुनावी लहर और कोरोना का कहर, एक साथ चल रहे थे। केंद्र की सत्ता पर बैठी मोदी सरकार ने

Read More

बंगाल की शेरनी के जख्मी पंजे ने भी दिल्ली का मुंह नोच लिया

पश्चिम बंगाल से बाहर आकर देखें तो तमिलनाडु भी भाजपा के लिए बड़ी शिकस्त के नतीजे लेकर आया है भाजपा ने वहां पर सत्तारूढ़ एआईएडीएमके के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था और यह गठबंधन मीलों पीछे चल रहा है, वहां पर डीएमके और कांग्रेस पार्टी का गठबंधन सरकार बनाने के एकदम करीब है। हालांकि इस वक्त ये तमाम बातें रुझान के आधार पर की जा रही हैं, लेकिन ये रुझान बदलने वाले नहीं हैं। तीसरा प्रदेश केरल, वहां पर सत्तारूढ़ वाम मोर्चे ने पिछले 1 बरस में कोरोना के फ्रंट पर इतना शानदार काम किया था कि आज वह विपक्षी गठबंधन के मुकाबले दोगुनी अधिक सीटें लेकर सरकार में वापस लौट रहा है।

Read More

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram