अंग्रेजों के पाखाने का टोकरा हिन्दुस्तानी कब तक ढोएंगे.?

अंग्रेजों के पाखाने का टोकरा हिन्दुस्तानी कब तक ढोएंगे.?

-सुनील कुमार॥ इलाहाबाद हाईकोर्ट में अभी दो जजों, प्रीतिंकर दिवाकर और आशुतोष श्रीवास्तव, की अदालत में एक वकील बिना गाऊन (लबादा) पहने पेश हुआ तो जजों ने उसकी आलोचना की, और इसे दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने कहा कि वे ऐसी हरकत पर बार काउंसिल को लिख सकते हैं लेकिन वकील के नौजवान होने की वजह से वे ऐसा नहीं कर रहे हैं। जजों ने इस वकील को भविष्य में इसका ख्याल रखने की चेतावनी भी दी है। भारत के हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में वकीलों को काले कोट के ऊपर एक काला लबादा भी पहनना पड़ता है जो कि एक...

बस्तर में बेकसूर आदिवासियों के कत्ल पर सरकार किसी भी पार्टी की रहे, रूख एक सा..

बस्तर में बेकसूर आदिवासियों के कत्ल पर सरकार किसी भी पार्टी की रहे, रूख एक सा..

-सुनील कुमार॥ छत्तीसगढ़ के बस्तर में बेकसूर और निहत्थे आदिवासियों की सुरक्षा बलों के हाथों मौत एक आम बात है। हर बरस कई ऐसे कत्ल होते हैं लेकिन चूंकि कातिल सरकारी वर्दीधारी रहते हैं, और वे लोकतंत्र को बचाने के नाम पर लोगों का कत्ल करते हैं इसलिए उस कत्ल को हत्या न कहकर नक्सल-संदेह में हुई मौत कह दिया जाता है, या कभी यह कह दिया जाता है कि सुरक्षा बलों ने आत्मरक्षा में गोलियां चलाईं जिनमें ये मौतें हो गईं, या नक्सलियों के साथ क्रॉस फायरिंग में ये ग्रामीण मारे गए। सबसे अधिक तो यही होता है कि...

“द कश्मीर फाइल्स” फिल्म की खासियत और इसकी विसंगतियां..

“द कश्मीर फाइल्स” फिल्म की खासियत और इसकी विसंगतियां..

-ऋषिकेश राजोरिया॥ “कश्मीर फाइल्स” फिल्म देखी। इस फिल्म का बहुत प्रचार हो रहा है और जयपुर में रविवार को यह अधिकांश सिनेमाघरों में हाउसफुल थी। इस फिल्म में दिखाया गया है कि 1989-90 में कश्मीर में कश्मीरी पंडितों का नरसंहार किया गया था और वह मुसलमान आतंकी संगठनों ने किया था। यह फिल्म प्रतिभाशाली फिल्मकार विवेक अग्निहोत्री ने बनाई है और उन्होंने बहुत ही कलाकारी से अनेक महत्वपूर्ण तथ्यों को छिपाते हुए पूरी फिल्म को एक ही विषय पर केंद्रित करते हुए हिंदू-मुस्लिम नफरत को बढ़ाने का काम किया है। कश्मीर से पंडितों को खदेड़ा गया, उन पर अत्चाचार हुए,...

पंजाब में जीतना तो आप के लिए छोटी चुनौती थी, बड़ी चुनौती पंजाब को चलाना है…

पंजाब में जीतना तो आप के लिए छोटी चुनौती थी, बड़ी चुनौती पंजाब को चलाना है…

-सुनील कुमार॥ पंजाब में आम आदमी पार्टी की ऐतिहासिक जीत और जनता द्वारा कांग्रेस सरकार की बुरी तरह बर्खास्तगी लोगों को हैरान कर गई है। इसके साथ-साथ जिस तरह वहां अकाली दल और भाजपा किनारे कर दिए गए हैं, इन तीनों पार्टियों के सारे के सारे बड़े नेता जनता ने हरा दिए हैं, वह भी चौंकाने वाली नौबत है। बहुत से लोगों को आम आदमी पार्टी की सरकार आते दिख रही थी, लेकिन वह ऐसे अभूतपूर्व और ऐतिहासिक बहुमत के साथ आएगी इसका अंदाज कई लोगों को नहीं था, या बेहतर यह कहना होगा कि शायद किसी को नहीं था।...

चुनावी भविष्यवाणियों को नतीजों से मिलाकर कल देखें, और सवाल करें…

चुनावी भविष्यवाणियों को नतीजों से मिलाकर कल देखें, और सवाल करें…

-सुनील कुमार॥ पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव का मतदान पूरा हुआ, और उसके तुरंत बाद एक्जिट पोल के नतीजे आने लगे। बहुत से बड़े टीवी चैनलों ने अलग-अलग सर्वे एजेंसियों के साथ मिलकर मतदान के दिनों पर जो सर्वे किया था उसके नतीजे आखिरी मतदान के बाद ही रखे जा सकते थे, और तकरीबन तमाम चैनलों ने अपने और दूसरे चैनलों के सर्वे मिलाकर भी पेश किए। पिछले कुछ दशकों में हिन्दुस्तान में एक्जिट पोल का सिलसिला बढ़ते चले गया है, और कुछ मौकों पर ये अनुमान गलत भी निकले हैं, लेकिन अधिक बार ये सच के करीब रहते हैं।...

तनाव इतना बढऩे क्यों दिया जाए कि हथियारबंद जवान साथियों को ही मार डालें…

तनाव इतना बढऩे क्यों दिया जाए कि हथियारबंद जवान साथियों को ही मार डालें…

-सुनील कुमार॥ पाकिस्तान सरहद के करीब हिन्दुस्तान के अमृतसर में बीएसएफ के मुख्यालय में एक जवान ने अपने साथियों पर गोलियां चला दीं जिनमें चार लोग मारे गए, और बाद में इसी गोलीबारी में वह जवान खुद की या किसी और की गोली से मारा गया। सशस्त्र बलों के बीच हिन्दुस्तान में हर बरस ऐसी कई वारदातें होती हैं, और ऐसी तनावपूर्ण हिंसा का निशाना साथी ही बनते हैं। हर बरस छत्तीसगढ़ के बस्तर के नक्सल मोर्चे पर तैनात सशस्त्र बलों के बीच ऐसी हिंसा सामने आती है, और जांच के बाद जिंदा बचे हमलावर पर शायद कोई कार्रवाई होती...

कुदरत का हर पहलू होता है इंसानों के लिए बेहतर शिक्षक..

कुदरत का हर पहलू होता है इंसानों के लिए बेहतर शिक्षक..

-सुनील कुमार॥ इंटरनेट और सोशल मीडिया पर जानवरों के कुछ दिलचस्प वीडियो देखें तो लगता है कि किस तरह वे एक दूसरे की जिंदगी बचाने के काम आते हैं। कहीं कोई कुतिया बिल्ली के बच्चों को दूध पिलाकर बचा रही है, तो आज ही एक वीडियो ऐसा पोस्ट हुआ है जिसमें पानी में डूब रही गिलहरी को बचाने के लिए एक कुत्ता पानी में कूदा, और उसे अपने सिर पर बिठाकर किनारे ले आया। इंसान को छोडक़र धरती, पानी और आसमान के कोई भी जीव-जंतु इंसान जितना सोचने वाले नहीं होते हैं, ऐसा माना जाता है। लेकिन जब पशु-पक्षियों के...

क्या हमारा भारत एक ज़िंदा देश है.?

क्या हमारा भारत एक ज़िंदा देश है.?

रूस और यू क्रेन के बीच छिड़ी जंग का तनाव भारत में भी महसूस किया जा रहा है। जिन अभिभावकों के बच्चे युद्धग्रस्त क्षेत्रों में फंसे हुए हैं, उनके लिए तो ये दिन नर्क की यातना भोगने समान ही हैं और जिनका इन बच्चों से कोई सीधा नाता नहीं है, वे संवेदनशील लोग भी उनकी दशा देखकर चिंता में हैं। दो-तीन दिन पहले सुमी में फंसे छात्रों का एक वीडियो आया था, जिसमें वे भारत सरकार से मदद की गुहार लगाते हुए कह रहे हैं कि उनके पास अब खाने-पीने का भी इंतजाम नहीं है और बाहर जाने की हालत...

एक्टिंग में जल्दी काम न मिलने की वजह बता रहे हैं, अभिनेता पंकज कुमार 

एक्टिंग में जल्दी काम न मिलने की वजह बता रहे हैं, अभिनेता पंकज कुमार 

किसी ने सच ही कहा है,कि जब आप अपने डर के आगे अपने सपने को ज्यादा महत्व देंगे तो चमत्कार हो सकता है, सपना देखना आवश्यक है,लेकिन यह केवल तभी हो सकता है, जब आप अपने पूरे दिल से बड़ा  सपना देखें तभी आप सपने को हासिल करने मैं सक्षम होंगे. ऐसे ही सपने लिए जिला करौली,राजस्थान के रहने वाले पंकज कुमार अपने सपनों की दुनिया में सपनों के पंख लगा कर उड़ान भरते हुए, साकार करते नजर आ रहे है. राजस्थान के करौली जिले के पास एक छोटा सा गांव है,कैमला. वहां से निकल कर देहरादून, उत्तराखंड से वैज्ञानिक...

यूक्रेन पर रूसी हमले पर हिन्दुस्तान की तटस्थता, या चुप्पी से ऊपर कुछ नहीं?

यूक्रेन पर रूसी हमले पर हिन्दुस्तान की तटस्थता, या चुप्पी से ऊपर कुछ नहीं?

-सुनील कुमार॥ हिन्दुस्तानी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उस भाजपा के नेता हैं जो कि विदेश नीति के मामले में अमरीका के अधिक करीब मानी जाती है। इसकी वजह भी बहुत साफ है कि सोवियत संघ के वक्त से लेकर आज के रूस के वक्त तक रूसी नीतियां भारत में वामपंथी दलों के करीब है, दूसरी तरफ चीन के साथ सरहदी टकराव और ऐतिहासिक जंग के तजुर्बे से परे भी भारत का एक वामपंथी दल चीन की नीतियों के करीब माना जाता है, और इसलिए भाजपा का इन दोनों देशों से परहेज समझ आता है। इसलिए जब नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बने और...

दो बरस में हिंदुस्तान में दर्ज हुई, दो ऑपरेशन घर वापिसी…

दो बरस में हिंदुस्तान में दर्ज हुई, दो ऑपरेशन घर वापिसी…

-सुनील कुमार॥ यूक्रेन में फंसे हुए हिंदुस्तानी छात्र-छात्राओं को वापस लाने के लिए भारत सरकार ने कई विमान भेजे हैं, और उनमें भारतीय वायुसेना के विमान भी शामिल हैं। इसके अलावा केंद्र सरकार ने 4 मंत्रियों को तैनात किया है जो कि इन्हें वापस लाने के लिए यूक्रेन के अगल-बगल के देशों तक जाकर वहां से उन्हें विमान में चला रहे हैं। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के वीडियो कल से तैर रहे हैं जिनमें वे छात्र-छात्राओं को मदद करते दिख रहे हैं, और एक जख्मी छात्रा को सहारा देकर विमान पर चढ़ा रहे हैं। भारत सरकार ने यह घोषणा भी...

जिंदगी के आखिरी पलों में आता है यादों का सैलाब..

जिंदगी के आखिरी पलों में आता है यादों का सैलाब..

-सुनील कुमार॥ अभी अनायास एक ऐसा वैज्ञानिक संयोग हुआ जिसने यह अंदाज लगाने का मौका दिया है कि इंसान अपने आखिरी कुछ पलों में क्या करते हो सकते हैं? अमरीका की एक यूनिवर्सिटी, लुईसविले, में न्यूरोसर्जन एक ऐसे व्यक्ति की दिमागी हलचलों को रिकॉर्ड कर रहे थे जो कि मिर्गी के दौरों का शिकार था। उसके दिमाग की तरंगें दर्ज हो ही रही थीं कि वह अचानक दिल के दौरे से मर गया। अब मौत के कुछ पल पहले, और दिल की धडक़न बंद हो जाने के बाद के कुछ पलों तक उसके दिमाग में जो हलचल चल रही थी...