रंग लाया दीवानों का संघर्ष, गृह मंत्रालय को ठुकराना पड़ा दिल्ली सरकार का प्रस्ताव

 आखिरकार मीडियादरबार.कॉम की लगभग महीने भर चली मुहिम और उसमें मिले लाखों पाठकों  के सहयोग का नतीज़ा आ ही गया। गृह मंत्रालय को हारकर प्रधानमंत्री की अपील और दिल्ली सरकार के प्रस्ताव को मानने से मना करना पड़ गया। सोमवार देर शाम मंत्रालय ने विंडसर प्लेस प्रकरण से अपना हाथ वापस खींच लिया। गौरतलब है कि पिछले महीने दिल्ली सरकार ने प्रधानमंत्री की अपील पर गृह मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजा था जिसमें विंडसर प्लेस का नाम सन् 1920 के दशक के जाने-माने बिल्डर और लेखक खुशवंत सिंह के पिता सर शोभा सिंह के नाम पर रखने की सिफारिश की गई थी। प्रकरण की शुरुआत...

दिल्ली में “स्लटवॉक” हुआ पूरे कपड़ों में, “निराश” चैनलों ने लिया विदेशी फूटेज का सहारा

  कभी दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने पुलिस का बचाव करते हुए कहा था कि राजधानी की लड़कियों को भड़काऊ कपड़े नहीं पहनने चाहिए। रविवार को हुई स्लट रैली ने शायद शीला को करारा जवाब दिया जब पूरी दुनिया से कदम मिलाने के बावजूद लड़कियों ने शालीन कपड़े ही पहने। सुबह जब सैकड़ों महिलाएं सड़कों पर उतरीं तो उनका मकसद था महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा का विरोध।     हालांकि स्लटवॉक नाम से दुनिया भर में जारी इस आंदोलन का नाम सारी सुर्खियां ले उड़ा। अंग्रेजी शब्द स्लट को गाली के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. ऐसी...

बेशर्मी की हद पर उतरे खुशवंत सिंह: कहा, “मेरे पिता ने किया था सच बोलने का अपराध”

खुशवंत सिंह ने आखिरकार अपनी जुबान खोल ही दी। अपने साप्ताहिक कॉलम को अपनी सफाई का मंच बनाते हुए उन्होंने लिखा है कि उनके पिता एक “सच्चे इंसान” थे। खुशवंत सिह ने हालांकि मीडियादरबार.कॉम का नाम नहीं लिया है, लेकिन हमारे उठाए मुद्दो और सवालों को अपना निशाना बनाते हुए ऐतिहासिक तथ्यों को अपने शब्दजाल में उलझाने की कोशिश की है। लेख का शीर्षक है- “जब सच बोलना अपराध बन गया” और पूरा लेख कुछ इस प्रकार है:- “कुछ वक्त पहले मैंने नई दिल्ली बनाने वालों पर लिखा था। उनमें पांच लोग खास थे। मेरी शिकायत थी कि उनमें से किसी के नाम...

क्या आप सोचते हैं मीडिया है आपके लिए सही करीयर? जरा एक नज़र डालें इधर भी

फेसबुक पर एक ग्रुप है “ऑल इंडिया यंग जर्नलिस्ट एसोशिएशन“। करीब दो महीने पुराने इस ग्रुप में लगभग सवा पांच सौ युवा मीडियाकर्मी जुड़े हैं। कुबेरनाथ नाम के एक सदस्य ने वॉल पर लिखा- “एक मित्र ने बहस के दौरान कहा कि मीडिया दो तबके के ही लोगों के लिए है…एक तो आर्थिक रुप से बहुत कमजोर…और दूसरा जो आर्थिक तौर पर मजबूत है…और तीसरा तबका जो मध्यवर्गीय है..और मजबूर भी…वो मीडिया में आ तो जाता है…लेकिन अपने को भंवर में फंसा महसूस करता है…इस बात से आप कहां तक सहमत हैं. ”   हालांकि उस पोस्ट पर अभी बहुत ज्यादा टिप्पणियां ज्यादा नहीं...

जागरण के ब्यूरो चीफ को चाहिए गनर और पिस्तौल: पत्रकार पर लगाया सुपारी देने का आरोप

इन दिनों पूर्वांचल के चंदौली जिले में दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ की जान को खतरा हो गया है। चंदौली के ब्यूरोचीफ रत्नाकर दीक्षित ने एसपी को पत्र देकर अपनी हत्या की सुपारी दिए जाने का आरोप लगाया है। इसके बाद एसपी ने उन्हें एक गनर मुहैया करा दिया है। दूसरी तरफ बताया जा रहा है कि यह मामला पिस्तौल के लाइसेंस लेने से जुड़ा हुआ है। प्रभारी महोदय दूसरे के कंधे पर बंदूक रखकर अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं। रत्नादकर दीक्षित ने एसपी को जो पत्र दिया है, उसमें तो उन्होंने किसी का नाम नहीं लिखा है, परन्तु मौखिक...

आर्यन टीवी के मालिक पर इनकम टैक्स का छापा: अधिकारियों और मीडियाकर्मियों में झड़प

देर से मिली खबर के मुताबिक आर्यन टीवी के मालिक, एमडी अनिल कुमार के पाटलिपुत्रा बिल्‍डर्स प्राइवेट लिमिटेड के कई ठिकानों पर इनकम टैक्‍स ने छापेमारी की है और इस दौरान अधिकारियो व पत्रकारों के बीच जम कर झड़पें हुई। शुक्रवार से ही चल रही छापेमारी शनिवार तक जारी रही। सुबह साढ़े नौ बजे आईटी टीम ने बिल्‍डर्स के महाराजा कॉम्‍पलेक्‍स, एग्‍जीविशन रोड और आरके भट्टाचार्य रोड के ठिकानों पर छापा मारा। अपुष्ट खबरों के मुताबिक टीम को सूचना मिली थी कि बिल्‍डर अनिल कुमार सिंह ने करोड़ों रुपये की आयकर चोरी की है। जिसके बाद टीम एक साथ उनके...

“कविता कोष जयंती समारोह 2011” में पूनम तुषामड़ होंगी सम्मानित

यह तस्वीर देखकर आपको किसकी याद रही है? दिमाग पर जोर डाले बिना सोचिए। यह हिदी की कवियत्री पूनम तुषामड़ हैं। इन्हें कविता कोष की तरफ से “कविता कोष जयंती समारोह 2011” में 7 अगस्त 2011 को जयपुर में कविता के लिए सम्मानित किया जाएगा। इनका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है:- पूनम तुषामड़ का जन्म दिल्ली में हुआ। राजकीय विद्यालय से स्कूली शिक्षा हांसिल की। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक एवं जामिया मिल्लिया इस्लामिया से हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर की उपाधि हांसिल की। हाल ही में जामिलया मिल्लिया इस्लामिया में पी.एचडी की उपाधि हेतु “हिंदी दलित साहित्य में जनतांत्रिक मूल्यों...

कहीं नहीं जा रही ‘दागी’ बरखा दत्त: ‘बेशर्म’ NDTV ने बदले सिर्फ मैनेजर

एनडीटीवी ग्रुप में कई बड़े परिवर्तन होने जा रहे हैं, लेकिन पिछले दिनों विवादों के केंद्र में रही बरखा दत्त की ‘कुर्सी’ पर कोई खतरा नहीं है। विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि अभी बरखा अंग्रेजी न्यूज़ की ग्रुप एडिटर के तौर पर काम करती ही रहेंगी। ग्रुप के बोर्ड मीटिंग में शुक्रवार को दो महत्वपूर्ण पदों पर कंपनी के ही पुराने लोगों को बिठाया गया है। गौरतलब है कि 2G स्पेक्ट्रम घोटाले में बरखा का नाम खासा विवादों में आ गया था जब उनकी कॉर्पोरेट लॉबीस्ट नीरा राडिया के साथ बातचीत के टेप जारी हुए थे। मीडिया में बरखा दत्त की भारी...

अब डीडी डायरेक्ट पर दिखेंगे B4U, ज़ी स्माइल और 9X, सरकार ने कमाए 46 करोड़

देश के सबसे बड़े डीटीएच प्लेटफॉर्म डीडी डायरेक्‍ट प्‍लस ने अपने स्‍लॉटों की ई-नीलामी से भारी राजस्व इकट्ठा किया है। खबर है कि दूरदर्शन ने इस नीलामी में 46 करोड़ से भी अधिक का राजस्व इकट्ठा किया है। गौरतलब है कि डीडी डायरेकट  के किफायती इस्‍तेमाल और राजस्‍व बढ़ाने के उद्देश्‍य से प्रसार भारती ने डीटीएच प्‍लेट फार्म पर उपलब्‍ध स्‍लाटों की ई-नीलामी की थी। ई-‍नीलामी का उद्देश्‍य डीडी डायरेक्‍ट प्‍लस पर चैनलों के पारदर्शी और लक्षित तरीके से चुनाव करना था। ई-नि‍वि‍दा प्रक्रिया के जरिए मुंबई की मेजर्स एनसीडीईएक्‍स एसपीओटी एजेंसी को नीलामी प्रक्रिया पूरा करने के लिए चुना गया था। इस...

मीडिया पर छा गई, लेकिन कूटनीति पर कितनी खुशरंग रही हिना..

पाकिस्‍तान की नवनियुक्‍त विदेश मंत्री हिना रब्‍बानी खार ने भारत आकर करोड़ों हिन्‍दुस्‍तानियों का दिल जीत लिया। भारतीयों का दिल जीतने के पीछे सिर्फ उनका खूबसूरत चेहरा ही नहीं बल्कि वो मुद्दे भी हैं, जिन पर उन्‍होंने हमारे विदेश मंत्री एसएम कृष्‍णा से बात की। रब्‍बानी और कृष्‍णा के बीच वार्ता दोनों देशों के बीच समग्र वार्ता और बड़े हल निकालने की दिशा में सकारात्‍मक कदम थी, लेकिन अहम सवाल यह है कि क्‍या यह पहल सफल हो पाएंगी?   दिल्‍ली के हैदराबाद हाउस में हुई इस वार्ता के बाद हिना रब्‍बानी ने कहा कि दोनों देश इतिहास के झरोखे...

बिग बी और अमर सिंह के बीच बढ़ी: दूरियां दोनों ने छोड़ी एक दूसरे की कंपनी

ये दूरियां… बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और सपा से निकाले गए नेता अमर सिंह की दोस्ती के किस्से हाल-फिलहाल तक खासे मशहूर थे, लेकिन दोनों के कदमों से लग रहा है कि उनके बीच दूरियां बढ़ रही हैं। हाल ही में दोनों ने एक-दूसरे की कंपनियों से आधिकारिक तौर पर इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही इन दोनों हस्तियों के रिश्ते में दरार गहराने की अटकलें तेज हो गई हैं। खबर है कि अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन की बहुचर्चित कंपनी एबी कॉर्पोरेशन को अलविदा कह दिया है। इससे कुछ ही दिनों पहले बिग बी ने अमर सिंह द्वारा प्रमोटेड एनर्जी डेवलपमेंट कंपनी लि.(ईडीसीएल) से...

अधिकार ही नहीं हैं काफी, जानिए अपने कर्तव्यों को भी

।। वंदना गुप्ता  ।। आज जनता ने शोर तो बहुत मचाया हुआ है कि उसके साथ न्याय नहीं हो रहा मगर कभी अपने गिरेबान में झांक कर नहीं देखा कि उसके लिए जिम्मेदार कौन है। एक बार अपने गिरेबान में झांक कर देखे तो समझ आ जायेगा कि वो खुद इसके लिए जिम्मेदार है। अब प्रश्न ये आएगा कि कैसे ? तो उसका सीधा सा जवाब है कि जब तक जनता अपने वोट के अधिकार को नहीं समझेगी उस पर दूसरे ही अपना राज करेंगे और अपनी मर्ज़ी चलाएंगे क्यूँकि हमारे देश की मुश्किल से २५ प्रतिशत जनता ही वोट...