हिन्दुस्तानी सुप्रीम कोर्ट में आम और खास के बीच इतना फर्क कभी न था..

Desk

-सुनील कुमार॥हाल के बरसों में हिन्दुस्तानी की सबसे बड़ी अदालत, सुप्रीम कोर्ट ने अनगिनत मामलों में एक ऐसा रूख दिखाया है जो कि देश की सत्ता सम्हाल रहे लोगों की पसंद की फिक्र करते दिखता है। सरकारी एजेंसियों या सरकार के तर्क मानने के लिए अदालत कुछ उत्साही दिखती है, […]

मुंबई में क्यों न हुए सौमित्र ?

-अनिल शुक्ल॥ अपनी फिल्म रचना के संसार का उल्लेख करते हुए सौमित्र चटर्जी के बारे में महान फ़िल्मकार सत्यजीत रे लिखते हैं “वह ‘अच्छा’ अभिनेता है या नहीं क्या पता, लेकिन वह इतना ‘बड़ा’ अभिनेता है कि मैं उसे अपनी फिल्मों में लेने से ख़ुद को रोक नहीं पाता हूँ […]

गाय-मंत्रीमंडल और लवजिहाद विरोधी कानून..

Desk

-सुनील कुमार॥मध्यप्रदेश में उपचुनाव में दो तिहाई सीटें जीतकर अपनी सरकार बचाने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आधा दर्जन मंत्रालयों को मिलाकर एक गाय-मंत्रिमंडल बनाया है। पशुपालन, वन, पंचायत, ग्रामीण विकास, गृह, और किसान कल्याण विभागों का गाय के मुद्दे से कुछ न कुछ लेना-देना रहता है, इसलिए […]

घर का चूल्हा सुलगाने जिनके सामने देह का ही ईंधन बाकी रह गया..

Desk

-सुनील कुमार॥दुनिया को पिछली एक सदी में सबसे अधिक तहस-नहस करने वाले कोरोना और उससे जुड़े लॉकडाउन ने न सिर्फ जिंदगी खत्म की है, जीने के तरीके खत्म किए हैं, बल्कि लोगों पर एक बहुत बड़ा सांस्कृतिक हमला भी किया है। आज दुनिया के बहुत से देशों में लड़कियां और […]

सुशासन बनाम जंगलराज..

Desk

पिछले महीने भर से बिहार चुनाव का शोर देश में इस कदर छाया था कि बाकी सारी बातें गैरजरूरी बना दी गईं। और ऐसा क्यों न होता, आखिर देश के प्रधानमंत्री से लेकर केन्द्रीय केबिनेट के कई चेहरे और कई बड़े नेता इसी जुगाड़ में लगे थे कि किसी तरह […]

आत्म सम्मान से समझौता !

Desk

-आरके जैन॥ जब भी मैं इस फ़ोटो को देखता हूँ तो मन में अजीब सी वितृष्णा सी होने लगती है क्योंकि हमारे प्रधानमंत्री महोदय के साथ जो व्यक्ति घुलमिल कर बात कर रहा है वह हमारा दोस्त नहीं बल्कि दुश्मन रहा है। इस शख़्स ने हमें बर्बाद करने के लिये […]

अधिकारों का ऐसा दुरुपयोग हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के अधिकारों को चुनौती मिलने लगी..

-संजय कुमार सिंह॥ सुप्रीम कोर्ट की अवमानना के मामले में कॉमेडियन कुणाल कामरा का स्टैंड न सिर्फ बड़ी खबर है बल्कि उन वकीलों और वकालत के छात्रों के लिए सीख भी है जो कतिपय कम महत्वपूर्ण मुद्दों पर मुकदमा चलाने की अनुमति मांगते हैं। यह ठीक हो सकता है कि […]

महत्वपूर्ण मामलों को समय देने से क्या आकाश गिर पड़ेगा.?

-संजय कुमार सिंह॥यह संयोग ही है सुप्रीम कोर्ट ने छुट्टियों के दौरान जिस विशेष मामले पर सुनवाई कर व्यक्ति की आजादी का बचाव किया वही आजादी अगले दिन तार-तार होती नजर आई। बेशक, एक दूसरे व्यक्ति के मामले में। वैसे तो कानून के नजर में हर कोई बराबर है लेकिन […]

आखिर रिजर्व बैंक ने भी माना कि मंदी आ गई..

Desk

मोदी है तो मुमकिन है, यह जुमला मोदी सरकार में बार-बार सच हो रहा है, लेकिन केवल नकारात्मक अर्थों में। ताजा उदाहरण देश की अर्थव्यवस्था का है जिसमें लगातार गिरावट देखी जा रही थी और आरबीआई समेत देश-विदेश की तमाम वित्तीय संस्थाएं, अर्थशास्त्री इस बात की चेतावनी दे रहे थे […]

मिठाई और सजावट के इस मौके पर कचरे की कुछ अटपटी चर्चा

Desk

-सुनील कुमार||देश की अर्थव्यवस्था कितनी ही खराब क्यों न हों, महीनों बाद ठीक से खुले बाजार, और दीवाली जैसा बड़ा त्यौहार, इन दोनों के चलते कुछ खरीददारी होते दिख रही है। और इसके साथ ही लोगों के घरों में तरह-तरह से पैकिंग पहुंच रही है। संपन्न तबका ऑनलाईन खरीदी कर […]

बीती शाम हिन्दुस्तान और बाकी दुनिया के राहत की

Desk

-सुनील कुमार॥ अमरीका का राष्ट्रपति चुनाव वैसे तो हर बार ही दुनिया की सबसे बड़ी चुनावी-खबरें गढ़ता है क्योंकि बाकी दुनिया की जिंदगी में अमरीका का जितना अहम किरदार है, उतना किसी और देश का नहीं। फिर हकीकत हो, या फसाना, यह माना जाता है कि अमरीकी राष्ट्रपति दुनिया का […]

कपिल मिश्रा को कुछ घंटे बारूद के धुएं वाले चेम्बर में बंद करके फिर पूछें…

Desk

-सुनील कुमार॥ भारत की राजधानी दिल्ली एक बार फिर बुरे प्रदूषण से घिर गई है। और ऐसे में दिल्ली सरकार ने पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया है। आज 7 नवंबर से 30 नवंबर तक लगाए गए इस प्रतिबंध के खिलाफ दिल्ली के एक चर्चित और विवादास्पद भाजपा नेता कपिल मिश्रा […]

Fb-Button
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu