Home कोरोना टाइम्स

Category: कोरोना टाइम्स

Post

तीसरी लहर के खतरे के बीच स्कूल खोलने के खतरे

हिंदुस्तान के अलग-अलग प्रदेशों में राज्य सरकारों के फैसले से स्कूलें खुलना शुरू हो गया है। हर राज्य ने अपने-अपने हिसाब से तय किया है कि किसी एक दिन कितने फीसदी बच्चों को क्लास में बिठाया जाए, या कौन-कौन सी क्लास से शुरू की जाए, या क्लास रूम के बाहर खुले में बैठाया जाए। यह...

Post

कोरोना संक्रमण पर केंद्र की गलत राजनीति..

आसमान के नीचे मौजूद कुछ विषय बेशक आप सियासी नजरिये से देखते रहें, परन्तु कुछ मुद्दे तो निश्चित ही ऐसे होते हैं जिन्हें राजनीति से ऊपर उठकर देखना और उससे निपटना चाहिये। दुर्भाग्य से हमारे देश में सियासत की यह नई प्रवृत्ति है जिसमें बेहद संवेदनशील एवं राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को भी राजनीति की...

Post

धर्म और राजनीति से जीतेगा तभी तो विज्ञान कोरोना से लड़ेगा

-सुनील कुमार।। हिंदुस्तान में विज्ञान के साथ एक दूसरी दिक्कत आ खड़ी हुई है, एक तरफ तो उसे कोरोना जैसे जानलेवा संक्रमण की महामारी से जूझना पड़ रहा है, और दूसरी तरफ धर्म और राजनीति के एक जानलेवा घालमेल से भी। कई दिनों से लगातार खबरें आ रही हैं कि किस तरह पहले तो उत्तराखंड...

Post

सुप्रीम कोर्ट में इतनी बार घिरने के बाद भी सरकार की बेशर्मियाँ..

-सुनील कुमार कोरोना के मोर्चे पर एक बार फिर केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में बहुत बुरी तरह घिरी है। सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका लगाई गई थी कि कोरोना से मरने वालों के परिवारों को 4-4 लाख मुआवजा दिया जाए। इस पर केंद्र सरकार ने पहले तो सुप्रीम कोर्ट में कहा कि केंद्र और राज्य...

Post

पिछले का पता नहीं, अब एक और राहत पैकेज

कोरोना की दूसरी लहर ने जैसी तबाही देश में मचाई है, उससे उबरने में न जाने कितना वक्त लगेगा। दूसरी लहर के दौरान जब स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई थी, लोग इलाज के लिए तरस रहे थे, तब तो सरकार जनता की कुछ खास मदद नहीं कर पाई। लेकिन अब सरकार ने एक बार...

Post

नक्सलियों को भी तो इलाज का हक़..

-सुनील कुमार॥ बस्तर पुलिस की बार-बार एक अपील आ रही है कि माओवादी आत्मसमर्पण करें और कोरोना का इलाज कराएं, अपनी, अपने साथियों की, और ग्रामीणों की जान बचाएं। इसके साथ ही पुलिस यह भी बता रही है कि किस तरह आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा रही है। बात सही...

Post

आत्ममुग्धता के नशे से उबरो साहब..

मोदी सरकार की प्राथमिकता क्या है। जनता की भलाई करना या फिर नए-नए रिकार्ड बनाकर अपने लिए तालियों का इंतजाम करना। और कई बार तो ऐसा लगता है कि सरकार यह इंतजार भी नहीं करती कि कोई दूसरा उसके लिए ताली बजाए बल्कि वो खुद ही अपनी तारीफों के पोस्टर चिपकवा लेती है। पिछले दिनों...

Post

कोरोना अब वायरस नहीं रहा बल्कि कोरोना माता हो गया..

-सुनील कुमार॥ उत्तर प्रदेश में एक गांव में कोरोना से मौतें हुईं तो गांववालों ने वहां कोरोना माता का मंदिर बना लिया। बाद में प्रशासन को वहां पूजा के लिए जुटते हुए लोग दिखे तो वह मंदिर गिराया गया और उसका मलबा गांव के बाहर फिंकवाया गया। लेकिन उत्तर प्रदेश के इस गांव से परे...

Post

साँसों की मॉकड्रिल..

‘फिर मैंने कहा दिमाग मत लगाओ अब वो छांटो जिनकी ऑक्सीजन बंद हो सकती है। एक ट्रायल मार दो। पता चल जाएगा कि कौन मरेगा कौन नहीं। मॉकड्रिल सुबह 7 बजे की। जिरो कर दिए’ 22 मरीज छंट गए, 22 मरीज। नीले पड़ने लगे हाथ-पैर छटपटाने लगे, तुरंत खोल दिए। ये उस कथित वीडियो में...

Post

60 वर्ष से ऊपर के बुजुर्गों के जीवन का हक़..

-सुनील कुमार।। किसी एक से मिलते-जुलते मुद्दे पर लगातार लिखना ठीक नहीं रहता लेकिन इन दिनों हिंदुस्तान में कोरोना और कोर्ट का हाल कुछ ऐसा है कि उन पर लिखने के मौके तकरीबन रोज खड़े रहते हैं। कल ही हमने यह बात लिखी कि मद्रास हाई कोर्ट के जज ने समलैंगिकता के एक मुद्दे पर...

Post

केंद्र की वैक्सीन-नीति पर सुप्रीम कोर्ट का कड़ा रुख, फैसले तक कायम रहेगा ?

-सुनील कुमार॥ केंद्र सरकार की वैक्सीन पॉलिसी पर चल रही सुनवाई के दौरान आज सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार के लिए असुविधाजनक कई सवाल खड़े किए और सरकार से पूछा कि अलग-अलग राज्यों को विदेशी वैक्सीन खरीदने के लिए अलग-अलग ग्लोबल टेंडर निकालने पड़ रहे हैं, क्या यह केंद्र सरकार की नीति है? और सुप्रीम...

Post

चादरें हटाने से सच्चाई छिपनी नहीं, दिखनी है..

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ लोग गंगा किनारे रेत में दफनाई गई लाशों से लाल-पीली चादरें हटाते नजर आ रहे हैं। यह दृश्य दरअसल प्रयागराज के फाफामऊ और श्रृंग्वेरपुर घाट का है, जहां अफ़सरों की मौजदूगी में सफाईकर्मियों से यह काम करवाया गया है। हरेक शव के चारों तरफ...

  • 1
  • 2
  • 8