Home व्यंग्य

Category: व्यंग्य

Post
“तुम ही मेरे आठवें पुत्र हो नरेन्द्र” बापू..

“तुम ही मेरे आठवें पुत्र हो नरेन्द्र” बापू..

-भंगेड़ी लाल॥ मुझे याद है, बापू जोहानिसबर्ग से प्रिटोरिया जा रहे थे। मैं रेलवे स्टेशन पर चाय बेच रहा था।गांधी जी ने ट्रेन रुकवा दी और उतर कर मुझे गले से लगा लिया।बापू भारत लौटे, तब मैं एनसीसी का कैडेट था।बापू मुझे देखते ही पहचान गए, कहा – “तुम ही मेरे आठवें पुत्र हो नरेन्द्र”…“नरेन्द्र...