Home Vikas K Sinha

Author: Vikas K Sinha (Vikas K Sinha )

Post

नारी का एक पर्यायवाची शब्द दामिनी

-विकास सिन्हा|| आज दामिनी शब्द का इतेमाल सिर्फ एक लड़की के लिए किया जा रहा है जबकि सच तो यही है कि हमारे देश में नारी जाती हमेशा ही दामिनी रही है. दामिनी का मतलब होता है ऐसी नारी जिसका दमन किया गया हो, जिस पर जोर-जुल्म और अत्याचार हुआ हो. हम आज जिस दामिनी...

Post

धिक्कार है ऐसी पुलिस पर…

ये है हमारे तिरंगे की इज्जत हमारे समाज के रक्षक कहलाने वाले पुलिस की नजर में. जिस तिरंगे के लिए न जाने कितने ही वीर सपूतों ने अपने प्राणों की कुर्बानी दी, न जाने कितनी ही माँओं के गोद उजड़ गए, न जाने कितने ही सुहागनों के मांग का सिंदूर मिट गया. जिस तिरगे की...

Post

क्यों रोज हो रहा बलात्कार..?

दिल्ली में एक के बाद एक रोज बलात्कार जैसे कुकृत्य सामने आ रहे है|पिछले दिनों चलती बस में मेडिकल की छात्रा के साथ हुए अमानवीय घटना के बाद दिल्ली ही नहीं पुरे देश विशाल जनाक्रोश देखा गया|उसके बाद भी दक्षिणी-पश्चिमी दिल्ली के द्वारका साउथ थानाक्षेत्र में घरेलू नौकरानी का काम करने वाली 19 वर्षीय युवती को...

Post

भारत की एक अनोखी करेंसी

क्या आपको पता है हमारे देश एक बहुत ही अनोखे किस्म की कर्रेंसी प्रचलन में है? आज मैं आप लोगो को भारत  की एक अजीब कर्रेंसी के बारे में बताना चाहूँगा । यूँ तो देश में में चलने वाले कर्रेंसी आप सभी अवगत है । हम सभी जानते है की भारत में चलने वाले कर्रेंसी रिजर्व बैंक ऑफ़...

Post

जल ही जीवन है…… इसे खूब बर्बाद करो…..!!

-विकास सिन्हा|| हम बचपन से पढते आये है कि “जल ही जीवन है” “Save water, Save life” हमारी सरकार भी पानी बचाने के लिए तरह तरह के उपाए करने का वादा करती है. लेकिन सच्चाई यह है कि सरकार के इन वादों का और प्रयासों का मजाक भी बड़े – बड़े सरकारी और शिक्षा संसथान...

Post

बेकार हो गयी भगत सिंह की कुर्बानी……

आज हमारे देश की जो हालत है या यूँ कहे की हमने आज जो अपने देश की हालत कर दी है उससे ये यकीन नहीं होता की इसी देश के  लाल  ने कहा होगा “माँ , मेरी लाश लेने आप मत आना , कुलबीर को भेज देना , वरना आपको रोता देख लोग कहंगे ,...

Post

“आग लगाने के लिए एक चिंगारी ही काफी है, बशर्ते हवा मिलती रहे”

कौन कहता है सपने सच नहीं होते, सपने सच होते वैसे सपने सच नहीं होते जो सोते हुए देखे जाये और कुछ पलो के बाद हम भूल जाये. बल्कि वैसे सपने सच होते हैं जो हमारी नींद उड़ा दें. ऐसा ही एक सपना आज से लगभग 3 साल पहले मैंने देखा था. वो सुबह मुझे...