अधिकारों का ऐसा दुरुपयोग हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के अधिकारों को चुनौती मिलने लगी..

-संजय कुमार सिंह॥ सुप्रीम कोर्ट की अवमानना के मामले में कॉमेडियन कुणाल कामरा का स्टैंड न सिर्फ बड़ी खबर है बल्कि उन वकीलों और वकालत के छात्रों के लिए सीख भी है जो कतिपय कम महत्वपूर्ण मुद्दों पर मुकदमा चलाने की अनुमति मांगते हैं। यह ठीक हो सकता है कि […]

महत्वपूर्ण मामलों को समय देने से क्या आकाश गिर पड़ेगा.?

-संजय कुमार सिंह॥यह संयोग ही है सुप्रीम कोर्ट ने छुट्टियों के दौरान जिस विशेष मामले पर सुनवाई कर व्यक्ति की आजादी का बचाव किया वही आजादी अगले दिन तार-तार होती नजर आई। बेशक, एक दूसरे व्यक्ति के मामले में। वैसे तो कानून के नजर में हर कोई बराबर है लेकिन […]

अर्नब की तरफ से तर्क और हाथरस मामले में बंद पत्रकार का दर्द

-संजय कुमार सिंह॥बार एंड बेंच डॉट कॉम के अनुसार अर्नब गोस्वामी की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने अदालत में कहा, मेरा स्पष्ट आरोप है कि जो मामला बंद हो चुका था उसे गलत इरादे से फिर खोला गया है। यह सत्ता में बैठे लोगों के खिलाफ कवरेज के […]

जनता के पैसे से आमजन का विरोध..

बात सरकारी वकीलों की, सरकारी पैसों से जनता का विरोध हो तो जनहित का क्या होगा.. -संजय कुमार सिंह।। इंडियन एक्सप्रेस में आज प्रकाशित एक खबर के अनुसार दिल्ली दंगे के मामले में गिरफ्तार जेएनयू के छात्र उमर खालिद को गिरफ्तारी का कारण तक नहीं बताया गया है और सरकारी […]

अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट की फटकार..

बांबे हाईकोर्ट ने रिपब्लिक टीवी से कहा – आपको अपनी सीमाएं मालूम होनी चाहिए, सीमा पार मत कीजिएपीठ ने अधिवक्ता से कहा, अगर आपको सच्चाई का पता लगाने में इतनी ही दिलचस्पी है तो आपको अपराध प्रक्रिया संहिता को भी जानना चाहिए। कानून की जानकारी न होना कोई बहाना नहीं […]

शिकायत करने वालों के खिलाफ एफआईआर का पैटर्न

-संजय कुमार सिंह।।चिन्मयानंद के खिलाफ आरोप लगाने वाली पीड़िता अगर मुकर नहीं जाती तो क्या उसे न्याय मिलने की उम्मीद थी? इन मामलों को याद कीजिए। क्या यह एक पैटर्न नहीं है? अखलाक की हत्या हुई। घर के फ्रीज में गोमांस रखने की एफआईआर हुई। हत्या के अभियुक्तों को जो […]

लोयालुहान देश में फिर अचंभित हुआ अभियोजन..

-संजय कुमार सिंह।।पूर्व गृह – राज्यमंत्री और भाजपा नेता, चिन्मयानंद पर बलात्कार का लगाने वाली एलएलएम की छात्रा अपने आरोपों से मुकर गई है। 23 साल की छात्रा लखनऊ की विशेष अदालत में अपने सभी आरोपों से मुकर गई। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर लखनऊ के विशेष कोर्ट में इस […]

अब जब चिराग के हवाले बिहार साथियों..

बहुदलीय, बहुकोणीय और बहुस्तरीय मुकाबला.. -संजय कुमार सिंह।। बिहार विधानसभा चुनाव में कौन किसके साथ और कौन किसके खिलाफ यह सब समझना आसान नहीं है। पहले सरकारों को समर्थन अंदर से और बाहर से भी दिया जाता रहा है। अब विरोध भी अंदर से ही हो रहा है, बाकायदा। और […]

दंगे, सांप्रदायिकता और भाजपा

ये जो योगी आदित्यनाथ हैं, इन्हें समझिए.. मोदी के शिष्य ऐसे ही नहीं कहे जाते हैं.. -संजय कुमार सिंह।।आज के अखबारों में खबर है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस की घटना के विरोध को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने साजिश कहा है और उत्तर प्रदेश में 20 से ज्यादा एफआईआर […]

अब किस जांच एजेंसी पर भरोसा करेंगे आप?

भाजपा की घटिया राजनीति और राहुल गांधी की राजनीति पर एक नजर -संजय कुमार सिंह।।इसमें कोई दो राय नहीं है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच की मांग राजनीतिक थी। भले ही सुशांत के प्रशंसक होने के नाते दुनिया भर के लोगों ने इस मांग का समर्थन किया […]

प्रचारकों की सरकार और पीआर एजेंसी का सहारा !!

-संजय कुमार सिंह।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ उर्फ अजय मोहन बिष्ट के बारे में आज द टेलीग्राफ ने संकर्षण ठाकर की यह खबर लीड के रूप में छापी है। इस खबर में अन्य तमाम सूचनाओं, जानकारियों, घटनाओं के अलावा यह भी कहा गया है कि, …. संकेत मिलने […]

हम कैसे समाज में रह रहे हैं

-संजय कुमार सिंह|| एक बुजुर्ग या सीनियर आईपीएस अफसर एक युवा महिला एंकर के घर पहुंच जाते हैं। उनकी खतरनाक या सतर्क पत्नी पीछा करती हुई एंकर के घर पहुंचती है। दोनों लड़ते हैं। आईपीएस जो करना है करो, कहकर पत्नी को एंकर के साथ छोड़कर चले जाते हैं। महिला […]

Fb-Button
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu