Home एड्स के रोगी ने सौतेली बेटी से दुष्कर्म कर उसे भी एड्स से ग्रसित किया

एड्स के रोगी ने सौतेली बेटी से दुष्कर्म कर उसे भी एड्स से ग्रसित किया

सौतेली बेटी से बलात्‍कार करने के आरोपी और एड्स से ग्रसित एक व्‍यक्ति पर दिल्‍ली की एक अदालत ने दुष्‍कर्म और जबरन गर्भपात कराने के आरोपों के अलावा उस पर हत्‍या के प्रयास का आरोप भी लगाया है। 

अपर सत्र जज कामिनी ला ने मुकदमे की सुनवाई के दौरान कहा कि उसने जानबूझ कर इस जानलेवा बीमारी का संक्रमण 15 साल की पीडि़ता में किया। वह जानता था कि इससे लड़की की मौत हो सकती है।
अदालत ने कहा कि हालांकि ऐसे मामलों को देखने के लिए किसी विशेष कानून नहीं हैं। अदालत की राय है कि मौजूदा हालात में ऐसे व्‍यक्ति पर आईपीसी की धारा 307( हत्‍या के प्रयास) का मुकदमा चलाया जाना चाहिये।

अदालत ने उस पर धारा 313( स्‍त्री की अनुमति के बगैर गर्भपात कराना) के तहत भी आरोप तय किये। आरोपी व्‍यक्ति ने पिछले साल पांच अगस्‍त को अपनी नाबालिग सौतेली पुत्री को पांच गोलियां खाने को दी थीं जिससे उसका गर्भपात हो गया था।

अदालत ने कहा कि यह स्‍पष्‍ट है कि आरोपी इस बात से अच्‍छी तरह वाकिफ था कि वह एचआईवी पॉजिटिव है। इसके बावजूद उसने सौतेली बेटी के साथ बलात्‍कार किया। उसने इस नाबालिग लड़की को भी वही बीमारी दे दी जिसका वह खुद शिकार है। इन हालातों में अगर पीडि़ता की मौत हो जाती है तो उसपर हत्‍या का दोषी माना जाएगा।

जज कामिनी ला ने आरोपी व्‍यक्ति पर हत्‍या के प्रयास का आरोप लगाते हुए कहा कि उसे मालूम था कि उसके इस कृत्‍य से उसकी बेटी मर सकती है।

Facebook Comments
(Visited 1 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.