।। हिसाब – किताब बराबर ।।

kumarajnish 3
Read Time:4 Minute, 38 Second

– कुमार रजनीश-

आज सुबह  दिल्ली मेट्रो में एक बुजुर्ग व्यक्ति से बात हो रही थी. वो अपने अनुभवों को बता रहे थे – कैसे पूरा जीवन उन्होंने नौकरी , परिवार की देखभाल में गुज़ार दी. अब उनकी इच्छा है कि वो रिटायरमेंट के बाद अपने गाँव चले जाए और एक इत्मीनान की जिंदगी जियें. वहां फिर से शांत वातावरण में चार दोस्तों के साथ गप्प-शप्प करने को मिलेगा. वृक्षों के नीचे बैठ कर ‘छन’ कर आती हुई ताज़ी हवाओं को अपने अंदर समेटने की कोशिश करेंगे और साथ ही मित्रों के साथ चाय कि चुस्कियों का आनंद लेंगे. वहां गाँव  में चाय पीने का अलग ही मज़ा होगा क्योंकि वो ‘कुल्हड़’ में सर्व की जाएँगी. मिट्टी की खुशबू मुफ्त मिलेगी. आँगन में खाट लगाकर और औंधे लेट कर फिर से ‘प्रेम आधारित’ कविताओं की रचना करेंगे. उनकी यह एक बहुत सुदृढ़ रूचि रही थी कुछ लिखने की. जब वो जवान थे, तब घूमते- फिरते एक-दो कविता लिख लेते थे और अपने दोस्तों के बीच ‘गर्व’ महसूस करते थे, जब वाह-वाही होती थी. मैं राजीव चौक पहुँचने वाला था इसलिए जल्दी मैं मैंने उनसे सिर्फ यही कह पाया कि ‘सर आपकी बातों में बहुत वज़न है..और इश्वर से यही प्रार्थना करता हूँ कि आप अपने रिटायरमेंट के बाद कि जीवन की सुखद अनुभूति करें’.

मेरे साथ ही एक और बुजुर्ग बैठे थे, वो भी मेरे साथ राजीव चौक से उतर ‘सेंट्रल सेक्रेटेरियेट’ वाली मेट्रो में अंदर आ पास में ही खड़े हो गए. वो हमारी पिछले सारी बातो को सुन रहे थे. उन्होंने तुनक मिजाजी से कहा कि साहब ऐसा है कि उन ‘महानुभाव’ ने कहा था कि गाँव में जाकर जिंदगी के मज़े लेंगे – सब इच्छाएं धरी की धरी रह जाएँगी. मैं भी ऐसा ही सोचता था परन्तु हक़ीकत से रु-ब-रु होते ही मैं यहाँ दिल्ली महानगर में अपने बेटे के पास आ गया. उस व्यक्ति की अविव्यक्ति को देख कर सहज ही समझा जा सकता था की वो एक ‘कटु-अनुभव’ को दर्शा रहा था. मैं सिर्फ उनकी बातो में ‘सेंटेंस कनेक्टर’ का काम कर रहा था. फिर से उस व्यक्ति ने कहा की – अभी गाँव में जाकर देखो न ही शुद्ध दूध है और न ही मिट्टी के कुल्हड़. वहां तो अब पावडर वाला दूध का पाउच उपलब्ध है और ‘डिस्पोसल’ में चाय पीते हैं. शायद वो यहाँ ‘डिस्पोसल’ का मतलब ‘डिस्पोसेबल कप’ की बात कर रहे थे. साहब बिजली आँख- मिचौली खेलती रहती है और इसके चलते जेनेरेटर का धुआं पुरे वातावरण को प्रदूषित कर रहा है. गन्दगी और मच्छर के प्रकोप से अनेक तरह की बिमारियों ने घर कर रखा है. इलाज के लिए एक भी अस्पताल नहीं और न ही बच्चो को पढ़ने के लिए अच्छे स्कूल. अच्छे टीचर तो हैं पर पैसे के लिए वो भी शहर की ओर रुख कर रहे हैं और करें भी क्यों नहीं ? सब लोग बढ़ना चाहते हैं .. कमाना चाहते हैं.

मैं सिर्फ इतना ही कहकर इस ‘टॉपिक’ को विराम देना चाहा कि गाँव में दूध नहीं .. बिजली नहीं.. अच्छे स्कूल नहीं.. और अच्छे अस्पताल नहीं और इस शहर में दूध पैकेट में हर समय मौजूद … बिजली की कोई समस्या नहीं.. पैसे और पैरवी के बल पे अच्छे स्कूल की कमी नहीं..बिमारियों के लिए अस्पताल तो होटलों की तरह सजी हुई हैं, जैसी सुविधा एवं इलाज चाहिए उसी तरह से पैसे खर्च करने होंगे. इस शहर में कमी है तो सिर्फ ‘अपनों के लिए समय की’. शहर और गाँव का हिसाब -किताब बराबर.

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments
No tags for this post.

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

3 thoughts on “।। हिसाब – किताब बराबर ।।

  1. बिलकुल सही…
    जीवन शैली मैं बदलाव की एक जबरदस्त आवश्यकता है ! शहर मैं रहने वाले लोग जीवन के ताने बाने में ही उलझे रह जाते हैं और प्रकृति की याद तब आती है जब उनके पास और कोई काम नहीं रहता ! गाँव के लोगों से रिश्ते, वहाँ की गलियां, खेत खलिहान सभी से जुड़ने का मन करता है परन्तु कहीं न कहीं इसके लिए देर कर देते हैं ! इसके विपरीत विदेशी लोग काम से अधिक आपसी रिश्तों व् दुनिया देखने को तो महत्व देते हैं परन्तु इसके लिए कर्म के प्रति कहीं न कहीं लापरवाह हो जाते हैं.. इस सब के बीच में सही तालमेल बैठा पाने से ही तो होगा सब ‘हिसाब-किताब बराबर’ !

    1. माननिये श्री रवि जी, नमस्कार!
      ज़िन्दगी के ताने – बाने में हम इतने उलझ चुके हैं कि इस प्रकृति के सौंदर्य का, इसके अलौकिक गुणों का हम आनंद भी नहीं उठा पाते. सामाजिक कार्य शैली के जाल कुछ इस तरह से हमने अपने चारो ओर घेर रखा हैं कि साँस लेने की भी फुर्सत नहीं मिलती. ज़िन्दगी को सरलता से जिए और इसके लिए औरो को भी प्रेरित करें. हँसे और जग को हंसाये. जीवन इसी का नाम है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

हो रही है जिस्म-2 के लॉन्च की तैयारी, इसीलिए सरक रही है सनी लियोन की साड़ी

      आखिरकार वही हुआ जो सनी लियोन और पूजा भट्ट चाहती थीं। सनी की बिंदास साड़ी लपेटने की अदा पर मीडिया में बहस शुरु हो गई। ताज़ा चर्चा शुरु हुई है एफएचएम मैगज़ीन के कवर को लेकर। इस मैगज़ीन के लिए खिंचाई गई तस्वीरों में कनाडाई पोर्न स्टार […]
Facebook
%d bloggers like this: