सोशल मीडिया पर सख्ती की तैयारी में सरकार

admin 2

-सुमेश ठाकुर||

अभिषेक मनु सिंघवी सीडी प्रकरण के बाद केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया पर सख्ती करने की तैयारी कर ली है। सोशल मीडिया पर नकेल कसने के लिए संसद में विचार विमर्श चल रहा है और इसके तकनीकी पहलुओं पर गंभीरता से फोकस किया जा रहा है।

शनिवार को बार काउंसिल ऑफ पंजाब एवं हरियाणा के गोल्डन जुबली कार्यक्रम में पहुंचे केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने यह संकेत दिए।
उन्होंने कहा कि देश में ज्यादातर सोशल नेटवर्किंग साइट्स का इस्तेमाल दूसरे की साख पर हमला करने के लिए हो रहा है।

सीडी प्रकरण और ब्लैकमेलिंग के सवाल पर खुर्शीद ने कहा कि यह सारा मामला मीडिया का है। उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का कुछ लोग गलत फायदा उठा रहे हैं। हालांकि उन्होंने सिंघवी सीडी प्रकरण पर कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया, लेकिन यह स्पष्ट किया कि ऐसे मीडिया हथकंडों का प्रयोग कभी भी और किसी के लिए भी हो सकता है।

साइबर क्राइम सेल में हररोज सैकड़ों ऐसे मामले सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इनका इस्तेमाल उचित है या अनुचित, यह लंबी बहस का मुद्दा है। मगर मीडिया से पैदा हो रही असुरक्षा की भावना ज्यादा चिंतनीय है। उन्होंने कहा कि संसद इस पर भी गंभीरता से ध्यान दे रही है कि अमेरिका, चीन, ब्रिटेन जैसे देशों की सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर क्या चल रहा है और वहां की सरकारें उन पर कैसे नियंत्रण रख रही हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले एक साल से देखा गया है कि इन साइट्स का इस्तेमाल प्रोपगेंडा करने के लिए अधिक हो रहा है। उन्होंने साफ किया कि इन नेटवर्किंग साइटों पर संसद में आम सहमति बनाने के बाद ही कोई कड़ा कदम उठाया जाएगा।

Facebook Comments

2 thoughts on “सोशल मीडिया पर सख्ती की तैयारी में सरकार

  1. IF SOCIAL MEDIA IS NOT PARTIAL IN ITS OWN GUIDE LINES , THERE IS NO.
    GOVERNMENT / COMMUNITY / GROUP OF LEADERS WHO CAN DEMOLISH IT.NO ONE CAN THROUGH THE DUST IN THE EYES OF INDIAN, IT IS TRUE.

  2. AB TO PARISTHIT SARKAR YE NIYANTARN SE BAHAR HAI IEN KE KUKAR SAB BAHAR AAJYENGE IES NAHI ROKA JA SAKTA HAI JANTA ROAD
    PAR AA JAYEGI

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

छात्र-छात्राओं द्वारा पंखे से लटककर जीवन समाप्त करने की बढती दर - Suicide: Part- 2

अभिभावकों से अनुरोध  बच्चों के परीक्षा-दवाव को ‘मित्र-वत’ बाटें  : चार साल में नौ हज़ार से अधिक जाने गयीं, पंखे से लटककर जीवन-अंत करने की प्रथा छात्र-छात्राओं में अधिक प्रचलित मेरा मानना है: जिस तरह एक्स्केलेटर अधिक भार को उठाने में अपनी असमर्थता दिखाता है और एक अलार्म के साथ उपभोक्ताओं को सचेत करता है  […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: