फर्ज़ी गनर आदेश मामले में ललित भारद्वाज के खिलाफ़ जांच के आदेश गायब?

admin 9
  • क्या पत्रकारों को पकड़ाया था प्रशासन ने झुनझुना? 
  • साल भर बाद मीडिया दरबार में खुला राज़!

यह दास्तान है एक ऐसे पत्रकार की जो खुलेआम मचा रहा है अंधेरगर्दी और जेब मे रख कर घूम रहा है राजनीति, पुलिस और प्रशासन को। उसने मचाया उत्पात थाने में, अधिकारियों के दफ्तरों पर और खुलेआम धूल झोंका सूबे के पुलिस महकमे के मुखिया की आंखों में, लेकिन आज तक कोई भी न कर पाया उसका बाल भी बांका। उसकी पहुंच इतनी ऊंची है कि डीआईजी के आदेश और प्रशासनिक अधिकारियों के निर्देश के बावज़ूद उसके खिलाफ कोई मामला तक नहीं दर्ज़ हो पाया। ये शख्स कोई और नहीं बल्कि खुद को पत्रकार और राजनेता बताने वाला पश्चिमी उत्तर प्रदेश का सबसे शातिर दिमाग जालसाज़ ललित भारद्वाज है।

वैसे तो इस शख्स पर पत्रकारिता से लेकर राजनीति तक को बदनाम करने के कई आरोप लग चुके हैं, लेकिन सबसे पहले चर्चा उस किस्से की जो अभी तक मेरठ और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के पत्रकारों के लिए पहेली बना हुआ है। पिछले साल मेरठ रेंज के डीआईजी अखिल कुमार को राज्य के उप सचिव मदन किशोर श्रीवास्तव का 20 अप्रैल को जारी एक आदेश मिला जिसमें शास्त्री नगर के ललित भारद्वाज को सुरक्षा गार्ड यानि गनर प्रदान करने की अनुशंसा की की गई थी। सारी कानूनी औपचारिकताओं के बाद ललित को 1 मई से एक सरकारी गनर दे दिया गया।
यहां तक तो सब कुछ ठीक रहा, लेकिन अखिल कुमार को इस आदेश पर कुछ शक़ हो गया। उन्होंने आदेश का पालन तो करवा दिया लेकिन एलआईयू से उसकी जांच भी करवा दी, क्योंकि नियमों के मुताबिक जिला स्तर से जांच और संस्तुति के बिना इस तरह के आदेश जारी नहीं किए जाते। पता चला कि उप सचिव का आदेश फर्ज़ी था। यह जानकारी आते ही हंगामा मच गया। पुलिस ने अपना गनर तो वापस ले लिया, लेकिन शायद दबाव वश ललित को गिरफ्तार नहीं किया गया। डीआई जी ने पूरे मामले की प्रशासन से सीबी यानि क्राइम ब्रांच की सीआईडी शाखा से जांच करवाने की सिफारिश भी कर दी। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हर छोटे अखबार में यह खबर हेडलाइन बन गई।
इस वारदात के करीब साल भर बाद जब पत्रकारों ने सीबी सीआईडी से जांच की तरक्की की जानकारी मांगी तो उन्हें बताया गया कि मेरठ में सीबी सीआईडी के उच्च अधिकारी का पद खाली पड़ा है इसलिए ललित की फाइल की जांच सीधे लखनऊ स्थित अतिरिक्त अधीक्षक के कार्यालय से हो रही है। लेकिन जब मीडिया दरबार ने मामले की पड़ताल की तो बेहद चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अरविंद सेन के मुताबिक सीबी सीआईडी कार्यालय में इस फर्ज़ीवाड़े की जांच की फाइल है ही नहीं।

पुलिस के इस जवाब से कई सवाल उठ खड़े होते हैं

  • पहला सवाल यह है कि क्या ललित भारद्वाज के खिलाफ सीबी सीआईडी की जांच का आदेश कभी जारी ही नहीं हुआ था..?
  • सवाल यह भी है कि अगर डीआईजी की संस्तुति को भी दरकिनार किया गया तो इसके पीछे क्या वजह रही होगी?
  • और अगर आदेश जारी नहीं हुआ तो इसकी घोषणा क्यों की गई? क्या उस वक्त प्रशासन ने किसी तरह अपना पल्ला छुड़ाया था?
  • क्या उत्तर प्रदेश सरकार और स्थानीय प्रशासन पर ऐसा करने के लिए कोई दबाव था?
  • और अगर यह मान लिया जाए कि सारे अधिकारी दबाव मुक्त थे और उन्होंने इस जालसाज़ के खिलाफ़ जांच के आदेश दिए भी थे तो आज वह आदेश कहां गायब हो गया?

इन सवालों का जवाब ढूंढने से पहले आइए डालते हैं ललित भारद्वाज की ‘बहुमुखी’ शख्शियत पर एक नज़र। मेरठ विश्वविद्यालय के कर्मचारी के पुत्र ललित ने अपना करीयर एक नामी चैनल के रिपोर्टर के शोहदे के तौर पर शुरु किया था। बाद में इसने किसी तरह नलिनी सिंह के कार्यक्रम आंखों-देखी में एंट्री बना ली। उसने आंखों-देखी के नाम पर मेरठ में एक फर्ज़ी मीडिया इंस्टीट्यूट भी शुरु कर दिया जहां कुछ दिन तक बीस-बीस हजार रुपए लेकर रिपोर्टर बनाने का खेल भी चला, लेकिन जब दिल्ली खबर पहुंची तो इसे फौरन गुडबाय कह दिया गया।
कहते हैं ललित बड़े लोगों को ‘खुश’ करने और उसी दम पर डराने तथा अपना काम करवाने का माहिर है। आंखों-देखी के एक पत्रकार के मित्र टोटल टीवी के एक उच्च अधिकारी थे जो रंगीन तबीयत के थे। उस अधिकारी की इस कमजोरी को अपना हथियार बना कर उसने मेरठ की स्ट्रिंगरशिप हासिल कर ली और उन्हें ‘खुश’ करना शुरु कर पश्चिमी उत्तर प्रदेश का प्रमुख बन बैठा। (अभी भी वह खुद को कई जगह इसी हैसियत से पेश करता है)।

बाद में उसने दिल्ली के एक मुस्लिम कांग्रेसी नेता को भी ‘खुश’ कर जिला स्तर पर मीडिया प्रभारी का पद ले लिया। इसके बाद तो मानों वह छोटा-मोटा मंत्री बन गया। हूटर वाली गाड़ी, बॉडीगार्ड और उत्पाती स्वभाव.. इस पर लालकुर्ती थाने में हंगामा करने का मुकद्दमा तो दर्ज़ है ही, अभी हाल ही मे एक गुमनाम शख्स ने इसकी अवैध हूटर वाली गाड़ी की शिकायत मेरठपुलिस के फेसबुक पर कर दी.. इसके बाद से वह गाड़ी कहीं नजर नहीं आती.. शिकायत करने वालों का कहना है कि करीब आठ-दस वर्षों से पुलिस, प्रशासन और आम आदमी सबको परेशान कर रखा है। अगर इससे कोई खुश है तो वे हैं अपराधी, भू-माफ़िया और दलाल, क्योकि इन्हें इसका खुलेआम संरक्षण प्राप्त है।

और अब फाइल गायब करने के इस ताज़ा प्रकरण ने ललित भारद्वाज की पहुंच और उसके तिकड़म का लोहा पत्रकारों और नेताओं दोनों से मनवा लिया है।

Facebook Comments

9 thoughts on “फर्ज़ी गनर आदेश मामले में ललित भारद्वाज के खिलाफ़ जांच के आदेश गायब?

  1. कुछ बहुरुपीये लोगों ने पत्रकारिता को नेताओं की रखेल बना के रख दिया है,यह वो लोग होते हैं जो पैसे के लिए कुछ भी कर सकते हैं,
    नेताओं को रंडियां सप्लाई कर सकते हैं , और रंडी का इन्तेजाम न होने पे नेताओं के आगे अपनी बहिन , बेटियों यहाँ तक की अपनी माँ को भी परोस देंगे,और उनसे भी ये ही कहेंग की :- कुछ देर की ही बात है, चली जा,मेरा कम बन जायेगा, तेरा क्या जायेगा……..

  2. ऐसे लोगों को चैनल अपना पत्रकार कैसे बना देते हैं. यह भारद्वाज तो कहा जाता है की प्रदेश अध्यक्षा के बेटे को अभी नेपाल घुमा के लाया था और भारद्वाज सबसे कहता है की मैने इनके घर मैं चार A.C. लगाये हैं, सारा नया फर्नीचर भी दिया और यह तो मेरे जेब मैं है.
    ऐसे लोग अगर विघान सभा का चुनाव लड़ेगें तो भगवान ही मालिक है.
    आप का धन्येवाद .

  3. ऐसे लोगों ने पत्रकारिता को अपनी रखेल बना के रख दिया है, पत्रकारिता जगत के लिए यह लोग कलंक हैं , साथ ही कुछ बेशर्म नेता अपनी एक रत रंगीन करने के बदले में ऐसे लोगों को अनावश्यक लाभ पहुंचा देते हैं , इनके खिलाफ सख्त कार्यवाई होनी चाहिए ,….

  4. अफ़सोस तब होता है जब बड़े नेता और वरिष्ठ पत्रकार भी ऐसे लोगों को पूरा संरक्षण देते हैं I

  5. ऐसे ही लोगों ने आज राजनीती और पत्रकारिता को बदनाम कर रखा है I न ही इन लोगों को राजनीती करनी होती है और न ही पत्रकारिता से कोई सम्बन्ध है , इनको तो सिर्फ दलाली करके पैसे कमाने होते हैं I उसके लिए चाहे किसी की CD बनानी पड़े I
    मैं मीडिया दरबार को बधाई देता हूँ की उन्होंने ऐसे ही एक शक्श का असली चेहरा सबके सामने ला दिया I

  6. ये पत्रकार नहीं चकला चलाने वाला लगता है. ऐसे लोगों ने पत्रकारिता जैसे बेहतरीन पेशे की वाट लगा दी है.

  7. मेरे को ऐसा लगता है कि शायद सारा ठेका ललित भाररद्वाज ने ही ले रखा है क्योकि जब पत्रकारो के साथ झगडा भी होता है तो ये माहशय ही लाइजनर के रुप मे सामने आते है जैसे कि वेंकेटेस मे हुआ था ओर बहुत सारे ऐसा मामले है जो कि हम लोग अपने मुंह से कुछ नही कह सकते लेकिन जब पोल पट्टी खोलने पर आएगे तो इतनी झडी लग जाएगी की कोई भी व्यक्ति अपनी औलाद को पत्रकार बनाना पसंद नही करेगा जय हो ललित दलाल देव की

  8. ये समाचार आपने प्रकाशित करके समाज के उन चेहरो को उजागर किया है जो पत्रकारिता के मुखेटे कि आड मे अवैध्र व्यापार कर रहे है मजेदार बात तो ये है कि जहां ऐसे लोगो को राजनैतिक संरक्षण मिला हुआ होता है वही इन्हेतो प्रदेश सरकार के कई बडे अधिकारियों का सरंक्षण प्राप्त है बताया जाता है कि अनेक अधिकारियों के अन्तरंग सम्बन्धो के चलते पिछले ६ माह से कोई कार्य वाही नही हुई है

  9. अरे भाई ये तो कविता चौधरी हत्या प्रकरण में भी लिप्त था , पर कुछ अधिकारियो के चलते बच गया था , मेरठ के कुछ डॉक्टर व् उधोग पतियों के लिए डिमांड & सप्लाई का कार्य करता है ये शोहदा …..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

CNEB में आने से हरीश गुप्ता का इंकार, अनुरंजन गए बारिश में गर्मी की छुट्टी मनाने, किशोर मालवीय ने संभाली कमान

कंप्लीट न्यूज एंड इंटरटेनमेंट ब्रॉडकास्ट यानि सीएनईबी से ये खबर है कि हरीश गुप्ता ने वहां जाने से इंकार कर दिया है। उधर मौजूदा सीओओ अनुरंजन झा के कांट्रैक्ट रिन्यू होने की कोई खबर नहीं है। हालांकि पहले बताया जा रहा था कि उन्हें एक महीने की मोहलत दी गई है, लेकिन खबर है […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: