Home गौरतलब 1 दिन, 9 फसलें और किसानों से लूटे 15 करोड़

1 दिन, 9 फसलें और किसानों से लूटे 15 करोड़

देश भर के किसान के साथ कल (22 मार्च) 15 करोड़ की लूट हुई, जय किसान आंदोलन के एमएसपी लूट कैलकुलेटर में हुआ खुलासा..

● जय किसान आंदोलन ने आज खुलासा किया 9 प्रमुख फसलों में एक दिन में देश भर में किसान के साथ हो रही लूट का।

● किसान का सिर्फ 2 {09002dbf131a3dd638c766bc67f289d0640033338bee1ac2eb3568ad7ccae38d} बाजरा ही बिका एमएसपी पर।(Sold On MSP)

● कल चने की फसल में किसान के साथ 8 करोड़ से ज्यादा की लूट हुई।

केंद्र सरकार के एमएसपी को लेकर दावों का सच अब देश के सामने आता जा रहा हैं। आज जय किसान आंदोलन ने देश में 22 मार्च 2021 को बिकी 9 प्रमुख फसलों में हो रही लूट का सच सामने लाया। इसमें गेंहू, चना, मक्का, धान, बाजरा, ज्वार , हरा चना, रागी और कुसुम (safflower) शामिल हैं।

सिर्फ 1 दिन में यानी सिर्फ 22 मार्च के दिन किसान के साथ 15 करोड़ से ज्यादा की लूट हुई है। सबसे ज्यादा लूट चने की फसल में हुई। कल के दिन देश भर की मंडियों में 188615 क्विंटल चना आया जिसमे से 179998 क्विंटल चना बिका, चने का एमएसपी यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य सरकार ने ₹5100 निर्धारित किया था लेकिन देश की सभी मंडियों में 22 मार्च को किसान को औसतन ₹4622 ही मिल पाए। कुल चने फसल मे से सिर्फ 5 {09002dbf131a3dd638c766bc67f289d0640033338bee1ac2eb3568ad7ccae38d} फसल ही एमएसपी बिकी।

रागी और कुसुम की के किसान की पूरी की पूरी फसल एमएसपी के नीचे बिकी। इसमें किसान के साथ 14 लाख और 13 लाख का नुकसान सिर्फ कल के दिन में हुआ, और जिस गेंहू की फसल पर सरकार इतने बड़े बड़े दावे करती है उसका सिर्फ 15 {09002dbf131a3dd638c766bc67f289d0640033338bee1ac2eb3568ad7ccae38d} फसल एमएसपी पर बिका, गेंहू की फसल में किसान के साथ 22 मार्च को 3 करोड़ से ज्यादा की लूट हुई।

जय किसान आंदोलन के संस्थापक और संयुक्त किसान मोर्चा के सात सदस्यीय कमेटी के मेम्बर योगेंद्र यादव ने कहा कि सच यह है कि किसान की सारी फसल एमएसपी पर खरीदने की सरकार की ना तो नीति है, न नीयत। अधिकांश इलाकों में एमएसपी किस चिड़िया का नाम है, यही किसान को पता नहीं है। मोदी जी ने एमएसपी के नाम पर किसानों को एक और जुमला दिया है।

MSPLootCalculator

स्रोत: AGMARKNET

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.