रिहन्ना को 18 करोड़ दिए जाने की ‘खबर’ कैसे उड़ी..

Sanjaya Kumar Singh
Page Visited: 416
0 0
Read Time:8 Minute, 49 Second

-संजय कुमार सिंह॥
भक्तजन बहुत जोर-शोर से फैला रहे हैं कि आंतरिक मामले में हस्तक्षेप करने वाला ट्वीट करने के लिए पॉप स्टार रिहन्ना को 2.5 मिलियन डॉलर दिए गए थे। ढाई मिलियन डॉलर कोई छोटी-मोटी रकम नहीं है जो ऐसे ही दे दी जाएगी। और देने वाला भी नफा नुकसान समझ कर देगा। फिर भी इससे तकलीफ उनको है जो ट्रोल सेना रखते हैं और ट्रोल सेना पर पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी की एक पूरी किताब है, आई ऐम अ ट्रोल। इसमें लगाए गए आरोपों का तो कोई जवाब नहीं दिखा पर एक साथ एक ही मैटर ट्वीट किए जाने के मामले दिखते रहे हैं। इससे पैसे देकर ट्वीट करवाने के आरोपों को दम मिलता है। इसके बावजूद एक ट्वीट के लिए इतनी भारी राशि दिए देने की खबर और उसपर यकीन करना मुश्किल है। ट्वीट भी बहुत मामूली सा था, “हम इसकी चर्चा क्यों नहीं कर रहे हैं।“


इसके साथ उन्होंने सीएनएन की एक खबर का हवाला दिया था जिसका शीर्षक था, भारत ने नई दिल्ली के आस-पास इंटरनेट काटा क्योंकि प्रदर्शनकारी किसान पुलिस से भिड़े। मुझे लगता है कि इंटरनेट बंद किया जाना गंभीर मामला है। मेरे ख्याल से यह एक सामान्य सा ट्वीट था जो मुख्य रूप से इंटरनेट काटने से संबंधित है। आज के जमाने में इंटरनेट काटने का मतलब रिहन्ना ने जैसा समझा होगा वैसा भारत में आम लोगों के लिए शायद नहीं है। इसीलिए यहां उसका विरोध नहीं है। और भक्तों को परेशानी का अंदाजा ही नहीं है। दूसरी ओर, रिहन्ना को अटपटा लगा है क्योंकि आज के समय में इंटरनेट काटना बिजली-पानी काटने से बर्बर है। बिजली-पानी कट जाए तो टैंकर में आ सकता है, जेनरेटर / इनवर्टर से काम चल सकता है। पर किसी इलाके में इंटरनेट काट दिया जाए तो आज की तारीख में उसका विकल्प नहीं है। इंटरनेट पर ‘रिहन्ना’ गूगल करने वाले अभी रिहन्ना को नहीं समझेंगे। भारत में तो अभी मीडिया को ही समझ में नहीं आ रही है – खबर सीएनएन ने की है।


इस साधारण ट्वीट से सरकार मानो हिल गई। नुकसान की भरपाई के लिए सारे घोड़े खोल दिए गए। तमाम नामुमकिन मुमकिन हुए। और इसी में यह भी रिहन्ना को 18 करोड़ रुपए दिए गए थे। अव्वल तो यह सरकार का पैसा नहीं है और जो लोग सरकारी पैसे की बर्बादी से परेशान नहीं होते हैं वे इस ट्वीट या उसके लिए दिए गए पैसे से परेशान हो गए जबकि ट्वीट सीएनएन की खबर को किया गया था और विदेशों में बदनामी से बचना हो तो विदेशी रिपोर्टर्स को देश निकाला दे दिया जाना चाहिए या उनकी खबरें सेंसर की जानी चाहिए। इमरजेंसी का विरोध करने वाले लोगों को सबकुछ इमरजेंसी जैसा लगता है, व्यवहार भी वैसा ही है पर स्वीकार नहीं करना है। पर वह दूसरा मुद्दा है। जहां तक आम लोगों या सरकार समर्थकों के परेशान होने की बात है, यह वाजिब है। वे तो यहां दो रुपए ट्वीट का ही दर जानते हैं। फिर भी मैं यह जानने में लगा था कि आखिर कोई इतने पैसे एक ट्वीट के लिए क्यों देगा। इतने पैसे से बहुत सारे काम हो सकते थे।


सत्य तलाशने की कोशिश में मुझे साकेत गोखले का एक ट्वीट मिला जिसमें आरोप लगाया गया है कि यह ‘खबर’ द प्रिंट इंडिया ने फैलाई है। मुझे एक भक्त मित्र ने घनघोर सरकार समर्थक एक साइट की खबर का लिंक भेजा था पर मैंने उसे देखा ही नहीं क्योंकि वहां कुछ रहता है। उसका नाम लिखकर मैं उसे प्रचार नहीं देना चाहता। वैसे भी, मुझे यकीन थी कि इतने बड़े पैमाने पर दुष्प्रचार उस एक वेबसाइट के बूते का नहीं है। लिहाजा मैंने आज द प्रिंट इंडिया की खबर पढ़ी। साकेत गोखले ने भी लिखा है कि पूरी खबर अनाम सूत्रों के हवाले से है और भाजपा के लिए शेखर गुप्ता (संपादक) कुछ भी करेंगे। लिंक शेयर करते हुए साकेत ने लिखा है, आत्मसम्मान वाला कोई भी संपादक इसे कूड़े में फेंकेगा। कहने की जरूरत नहीं है कि साकेत गोखले का ट्वीट और खबर अंग्रेजी में है और अनुवाद मैंने किया है। सूत्रों के हवाले से खबर लिखने का रिवाज पुराना है और बालाकोट हमले में 300 लोगों के मरने की खबर भी सूत्रों के हवाले से ही थी। बाद में अर्नब गोस्वामी के चैट से उसका मकसद आप जान ही चुके हैं।

द प्रिंट की खबर का शीर्षक है, “ग्रेटा थनबर्ग ने किसानों का जो टूलकिट ट्वीट किया था उसके लिए कनाडा की फर्म, सांसद, जनसंपर्क का व्यक्ति संदिग्ध”। मुझे नहीं लगता कि विदेश में, वहां रहने वालों ने ऐसा कुछ किया तो वह भारतीय कानून के तहत अपराध है (हालांकि, इसके खिलाफ राष्ट्रद्रोह की एफआईआर लिखी गई थी) और नहीं है तो यहां उसपर परेशान होने की जरूरत है। अगर आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए तो यह भी जरूरी है कि हम भी आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करें। पर तब समस्या होगी कि आंतरिक मामले को पारिभाषित कौन करेगा और कैसे करेगा। और अगर विवाद ही पैदा करना हो तो अभी पत्रकार भी ढंग से परिभाषित नहीं हैं और कई तरह के पत्रकार देश में मिल जाएंगे। पर वह दूसरा मुद्दा है। वैसे तो द प्रिंट की पूरी ‘खबर’ दिलचस्प है लेकिन मैं सिर्फ रिहन्ना को 2.5 मिलियन दिए जाने वाले अंश को उद्धृत कर रहा हूं।


“सूत्रों के अनुसार, कानाडा आधार वाले संगठन पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन (पीजेएफ) ने कनाडा आधार वाले राजनीतिक नेताओं और ऐक्टिविस्टों के समर्थन से वैश्विक अभियान शुरू करने में अहम भूमिका निभाई”। जो लोग भारतीय एजेंसियों के रडार पर है उनमें पीजेएफ के संस्थापक एमओ धालीवाल, पीआर (जनसंपर्क) फर्म स्काईरॉकेट की निदेशक मैरिना पैटरसन शामिल हैं जो पीआर फर्मों के साथ रिलेशनशिप मैनेजर के रूप में काम कर चुके (चुकी) हैं। इनके साथ, कनाडा आधार वाले वर्ल्ड सिख ऑर्गनाइजेशन और पीजेएफ के सह संस्थापक तथा कनाडा के सांसद जगमीत सिंह भी शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार कथित रूप से स्काईरॉकेट ने पॉप स्टार रिहाना को भारत में किसानों के विरोध में ट्वीट करने के लिए 2.5 मिलियन डॉलर का भुगतान किया। सूत्रों ने कहा कि धालीवाल कनाडा आधार वाले सिख हैं जो एक स्वघोषित सिख अलगाववादी हैं और जगमीत सिंह के भी करीब हैं।”

About Post Author

Sanjaya Kumar Singh

छपरा के संजय कुमार सिंह जमशेदपुर होते हुए एनसीआर में रहते हैं। 1987 से 2002 तक जनसत्ता में रहे और अब भिन्न भाषाओं में अनुवाद करने वाली फर्म, अनुवाद कम्युनिकेशन (www.anuvaadcommunication.com) के संस्थापक हैं। संजय की दो किताबें हैं, ‘पत्रकारिता : जो मैंने देखा जाना समझा’ और ’जीएसटी – 100 झंझट’।
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

अंधे मोड़ पर पहुँचा दिया देश..

-सुब्रतो चटर्जी॥ आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक, हर मायने में देश आज एक अंधे मोड़ पर खड़ा है । आज़ादी के बाद […]
Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram