डॉ. हरी सिंह मीणा की शानदार शुरुआत..

Desk

श्याम मीरा सिंह

ये हैं डॉक्टर हरी सिंह मीणा. हम सबके बेहद अज़ीज़ दोस्त डॉ. हरी सिंह भाई ने गांव-गांव में सुपर स्पेशीऐलिटी मेडिकल सुविधाएं देने के लिए Doctor on Door नाम से इनिशटिव शुरू किया है. हरी सिंह मीणा जी की मदद से न जाने कितने जरूरतमंदों को इलाज दिलवाया है. कितनों के लिए ही वेंटिलेटर, ब्लड, एडमिट करने जैसे काम Covid जैसे आपातकाल में करवाएँ हैं. मैं खुद किसी आदमी की मदद इतनी जल्दी नहीं करता पर हरी भाई का ये है कि जब भी इनको फ़ोन करो तुरंत मदद के लिए तैयार. जबकि डॉक्टर कितने व्यस्त रहते हैं आप अनुमान लगा सकते हैं. पर हरी जी का व्यस्त होना किसी की मदद करने से बचने का कारण न रहा. हरी जी की इस शुरुआत से जरूरतमंदों को तो इलाज मिलेगा ही लेकिन ग़रीबों और बुजुर्गों के लिए मुफ़्त में कंसलटेंसी दी जाएगी. जबकि हम सब जानते हैं डॉक्टर हाथ पकड़ने और बीपी चेक करने के ही 1 हज़ार रुपए रखवा लेते हैं.

मैं यहाँ लिखकर हरी भाई का क़र्ज़ कम नहीं कर रहा. उनका अहसान चुकाने के लिए उनके जैसे बनना पड़ेगा. जो मेरे बस की बात नहीं लगती मुझे. पर ये सोचकर लिख रहा हूँ कि ऐसे लोगों पर लिखा जाना चाहिए ताकि मदद करने वाले हाथ कभी हतोत्साहित न हों. मैं देखता हूँ बहुत से लोग आपसे कभी टकराते नहीं, पीठ पीछे आपको बुरा कहते हैं सो अलग, कभी आपके बारे में अच्छा कहने के लिए उनके पास शब्द नहीं होते, न आप उनको किसी की मदद करते देख सकते हैं, न कभी facebook या अपने निजी सम्पर्कों का उपयोग किसी दूसरे आदमी के हित के लिए खर्च नहीं करते, लेकिन जैसे ही उन्हें आपकी मदद की ज़रूरत होती है वे तुरंत आ जाते हैं और मदद के बाद भी उनके व्यवहार में आपके प्रति कभी नरमी नहीं आती.

ऐसी चीजें हतोत्साहित करती हैं. इसलिए यहाँ लिख रहा हूँ ताकि हरी भाई जैसा कर रहे हैं उससे बाक़ी किसी एक आदमी को भी करने का मन हो आया तो अपना लिखना सार्थक हो जाएगा. हरी भाई डिज़र्व करते हैं कि उनके लिए लिखा जाए, लंबा सा लिखा जाए. पर शब्दों को अधिक खींचने का भी कोई अर्थ नहीं. आप कम में ही समझ जाएँगे. मैं आपसे पर्सनली रिक्वेस्ट करता हूँ कि आप सभी हरी जी से, उनके Doctor on door पेज से जुड़ें. यह इनके Youtube का लिंक है. क्या करना है आप जानते ही हैं.
(लेखक आजतक के पत्रकार हैं)

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

किसानों के प्रति सरकार की असंवेदनशीलता न जाने कितनी जानें लेगी..

– एआईकेएससीसी ने कहा कि सरकार गैर गम्भीर; अन्य किसान संगठनों से वार्ता और ‘कई संशोधनों’ पर जोर दिखाता है कि वह वार्ता में दिये गये ‘आपकी रिपील की बात समझ ली है’, ‘आपस में चर्चा करेंगे’ से पीछे हटी है। – भाजपा नेताओं द्वारा किसानों की मांग की आलोचना, […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: