जनसरोकारी पत्रकारिता के मजबूत स्तम्भ ललित सुरजन का निधन..

admin

पचास साल से अधिक जनसरोकारी हिंदी पत्रकारिता में प्रमुख दस पत्रकारों में शामिल ललित सुरजन जोकि देशबंधु समाचार पत्र समूह के प्रधान संपादक और कवि भी थे, का दिल्ली के एक अस्पताल में ब्रेन हेमरेज होने से निधन हो गया है। इस दुखद निधन की खबर सबसे पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक ट्वीट के ज़रिये दी। जैसे ही ट्विटर पर यह दुःखद ट्वीट आया तो न सिर्फ पत्रकार जगत में बल्कि सोशल मीडिया में भी मातम पसर गया।

भूपेश बघेल ने अपने ट्वीट में लिखा कि “प्रगतिशील विचारक, लेखक, कवि और पत्रकार ललित सुरजन जी के निधन की सूचना ने स्तब्ध कर दिया है। आज छत्तीसगढ़ ने अपना एक सपूत खो दिया।

सांप्रदायिकता और कूपमंडूकता के ख़िलाफ़ देशबंधु के माध्यम से जो लौ मायाराम सुरजन जी ने जलाई थी, उसे ललित भैया ने बखूबी आगे बढ़ाया।

पूरी ज़िंदगी उन्होंने मूल्यों को लेकर कोई समझौता नहीं किया।

मैं ईश्वर से उनकी आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिवार को संबल देने की प्रार्थना करता हूं।

ललित भैया को मैं छात्र जीवन से ही जानता था और राजनीति में आने के बाद समय-समय पर मार्गदर्शन लेता रहता था।

वे राजनीति पर पैनी नज़र रखते थे और लोकतंत्र में उनकी गहरी आस्था थी। नेहरू जी के प्रति उनकी अगाध श्रद्धा मुझे बहुत प्रेरित करती थी।

उनके नेतृत्व में देशबंधु ने दर्जनों ऐसे पत्रकार दिए हैं, जिन पर छत्तीसगढ़ और मप्र दोनों को गर्व हो सकता है।”

ग़ौरतलब है कि ललित सुरजन लम्बे समय से कैंसर जैसी घातक बीमारी से भी पीड़ित थे। सुरजन ने हिंदी पत्रकारिता की लंबी पारी में कई नए पत्रकार तैयार किये।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

कला और हंसिया की जुगलबंदी

–अनिल शुक्ल|| भारत सहित सारी दुनिया में चर्चित पंजाबी के नामचीन गायकों और संगीतकारों ने इन दिनों दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर डेरा जमा लिया है। वहां मौजूद लाखों किसानों की मुश्क़िलों से भरी ज़िंदगी के पक्ष में बने गीतों को वे सब गा रहे हैं। कला और हंसिया की […]

आप यह खबरें भी पसंद करेंगे..

Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: