कांकेर में क्यों हुआ कमल शुक्ला पर हमला.?

Desk

–अनिल मिश्रा।।

कांकेर में यह हुआ है।
फोन पर कई साथी पूछ रहे कि क्या हुआ। जो जानकारी जुटा पाया हूँ उसके मुताबिक वहां प्रशासन, पुलिस, कांग्रेसी व गुंडे एक तरफ हो गए हैं और दूसरी तरफ मीडिया है। इसकी शुरुआत कुछ दिन पहले हुई। एक पत्रकार रिंकू ठाकुर ने व्हाट्सअप ग्रुप में कलेक्टर से कांकेर में लाकडाउन की मांग की। कलेक्टर ने लिख दिया कि गरीबों को खाना क्या तुम्हारा बाप खिलायेगा। इससे मीडिया व प्रशासन में ठन गई।

पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को लेकर मुहिम चलाने वाले वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला इस लड़ाई में कूद गए। उन्होंने कांकेर में हो रहे अवैध रेत उत्खनन के खिलाफ मुहिम शुरू कर दी। यह तो जगजाहिर ही है ऐसे कुकृत्य सत्ताधारी दल के लोग ही करते हैं। इससे कांग्रेसजनों को तकलीफ तो हुई ही, पुलिस के लिए भी मुसीबत खड़ी हो गई। इसी बीच एक पत्रकार सतीश यादव ने पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष जितेंद्र सिंह ठाकुर के खिलाफ सोशल मीडिया में कोई टिप्पणी की।

इधर एक और किरदार गणेश तिवारी का है। यह व्यक्ति सजायाफ्ता व जिलाबदर रह चुका बताया जा रहा है। खुद को इंटक का नेता बताता है। एक अन्य साहब अमर कोमरे हैं जो पहले कांकेर के टीआई थे पर अनेक पत्नियां रखने व थ्री स्टार होटल खड़ा करने के मामले में फिलहाल निलंबित हैं। गणेश तिवारी इन्हीं कोमरे जी का गुर्गा है।

कमल शुक्ला इन दिनों इन सबकी करतूत लिख रहे हैं। शनिवार को पत्रकार सतीश यादव एक होटल में चाय पी रहा था। वहीं पालिका के पूर्व अध्यक्ष जितेंद्र ठाकुर कांग्रेस पार्षदों व गुंडों को लेकर पहुंच गए। यादव को पीटते हुए थाने ले गए। इसके बाद कमल शुक्ला प्रेस क्लब के दो दर्जन पत्रकारों को लेकर थाने पहुंचे। फिर क्या था। थाने में विधायक प्रतिनिधि गफ्फार मेनन समेत सैकड़ों कांग्रेसी जुट गए। जितेंद्र, गणेश व मेनन ने शुक्ला को घसीटकर मारा। अन्य पत्रकारों को भी चोट आई। मेनन पिस्टल लहराकर गोली मारने की धमकी देते रहे। अब सत्ताधारी गुंडों पर कार्रवाई करने में पुलिस के हाथ पांव फूल रहे हैं।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

सुशांत मामले में NCB ड्रग्स की जांच कर रही है या गुमराह कर रही है..

–पूनमचंद भंडारी।। एक डेढ़ महीने से एनसीबी ड्रग लेने के आरोप में लगातार फिल्मी हीरोइनों को जांच के लिए बुला रहा है और मीडिया इनकी सनसनीखेज खबर बनाकर दिनभर यह समाचार दिखा रहा है।कोई एनसीबी से ये नहीं पूछ रहा है कि वे उल्टी जांच क्यों कर रहे हैं पहले […]
Facebook
%d bloggers like this: