एचआर तोताराम के चलते टाईम्स समूह का प्रस्ताव ठुकरा दिया..

Desk

-ओम थानवी।।

1984 की बात है। राजेंद्र माथुर नवभारत टाइम्स का संस्करण शुरू करने के इरादे से जयपुर आए। पहली, महज़ परिचय वाली, मुलाक़ात में कहा: “जानता हूँ आप इतवारी का काम देखते हैं। “फिर अगले ही वाक्य में, “और अच्छा देखते हैं”। कुछ रोज़ बाद में उन्होंने मुझे नवभारत टाइम्स में आने को कहा। बड़े ज़िम्मे का प्रस्ताव था। फिर दिल्ली बुलाया नियुक्ति की अंतिम कार्रवाई के लिए।

बहादुरशाह ज़फ़र मार्ग स्थित टाइम्स हाउस में मैं दूसरी बार दाखिल हुआ। (पहले अज्ञेय जब संपादक थे तब गया था; संभवतः 1978 में)। माथुर साहब अपनी परिचित गरमाई के साथ मिले। लंच में अपने घर ले गए। जमुना पार, स्वास्थ्य विहार। अपनी ऐम्बैसडर ख़ुद ड्राइव करते हुए। रास्ते में बोले, टाइम्स वाले इतना पैसा नहीं देते कि ड्राइवर रख सकूँ। यह बात मुझे हमेशा याद रही। मैं टाइम्स वालों पर तरस खाता रहा।

घर पर उन्होंने अनौपचारिक रूप से मेरा इम्तिहान ले डाला। वैसे रास्ते में भी ज़्यादा बात जयपुर के प्रस्तावित संस्करण को लक्ष्य कर ही हुई। श्रीमती माथुर का आतिथ्य आत्मीय था। घर पर किताबों का पहाड़ देखकर पिताजी का जुनून याद आया (जो बाद में मुझ पर भी छाया)।

मुझे सुनकर हैरानी हुई, जब माथुर साहब के मुँह से बरबस निकला: मैं जनसत्ता जैसा अख़बार निकालना चाहता हूँ। आज कुछ मित्रों को यह जानकर अजीब ही लग सकता है। पर सचाई यह है कि जनसत्ता नया अख़बार था, नई टीम थी, नया तेवर था। भाषा में भी ताज़गी थी। नभाटा की टीम काफ़ी पुरानी थी। शायद अकारण नहीं थी कि जनसत्ता से कुछ पत्रकार (ख़ास कर रामबहादुर राय, श्याम आचार्य, व्यंग्यचित्रकार काक आदि) नभाटा में लाए भी गए।

दफ़्तर लौटकर माथुर साहब मुझे ऊपर की मंज़िल में बैठने वाले कम्पनी के कार्यकारी निदेशक रमेशचंद्र जैन के पास ले गए। जैन उस वक्त समूह के मालिक अशोक जैन से बात कर रहे थे, जो इलाज के लिए विदेश जाने की तैयारी में थे। हमारे सामने ही रमेशजी ने उस यात्रा के प्रबंध के सिलसिले में एक पत्र डिक्टेट करवाया। फिर हमसे मुख़ातिब हुए। सवाल-जवाब करने लगे।

रमेशजी को ठीक से अंदाज़ा नहीं था कि मुझे क्या ज़िम्मा सौंपा जाने वाला है। साप्ताहिक के अनुभव के बारे में सुन अपने पठन-पाठन की बात करने लगे। बीच-बीच में भावी योजना के बारे में मेरे विचार जान लेते। उनकी हिंदी अच्छी थी।

मुझे उनके सामने जाना अजीब लगा। जब प्रधान सम्पादक ने किसी को चुन लिया, हर तरह की बात तय हो चुकी, तब यह दख़ल कैसा। पत्रिका में तो ऐसा नहीं देखा था (बाद में जनसत्ता में भी नहीं)। सम्पादक ने चुन लिया, बात वहीं ख़त्म। हालाँकि राजस्थान पत्रिका के सम्पादक अख़बार के संस्थापक ही थे। पर जनसत्ता में प्रभाषजी ने चुना। किसी से नहीं मिलवाया। कार में (उनके पास भी सफ़ेद ऐम्बैसडर थी) दिल्ली से चंडीगढ़ छोड़ कर आए। मैंने भी जनसत्ता और उससे पहले पत्रिका में जिन-जिन को अपने साथ लिया, मेरा निर्णय अंतिम था। आगे कोई मिलना-मिलाना नहीं।

बहरहाल, टाइम्स हाउस में प्रबंधन से मेरी मुठभेड़ ऊपर की मंज़िल पर ही नहीं थमी। कैबिन में लौटने के बाद माथुर साहब ने कहा कि नीचे पर्सोनेल (अब एचआर) में हो आओ। इमारत से बाहर निकलने के रास्ते से पहले दाईं ओर छोटे-से कैबिन में एक झक्की आदमी मिले। नाम था तोताराम। उन्होंने काम की बात करने की जगह मेरा इंटरव्यू-सा शुरू कर दिया। माथुर साहब से जो वेतन तय हुआ, उससे भी वे मुकर गए। एक सयाने की मुद्रा में बनावटी नम्रता में पता नहीं क्या-क्या समझाने लगे।

उनकी एक दलील पर मेरा धीरज जवाब दे गया। उन्होंने कहा, यह सोचिए कि आप कहाँ आ रहे हैं। एक छोटी-सी दुकान से निकल कर कितने बड़े संसार में। टाइम्स कितना बड़ा एंपायर है, इसे समझिए। इस ज्ञान से मेरा मन और उखड़ गया। इस साम्राज्य में सम्पादक बड़ा है या मैनेजर?

मैंने उन्हें एक ही बात कही: मैं जानता हूँ कि यह एक विराट एम्पायर है। मगर राजस्थान में जहाँ मैं काम करता हूँ, उसकी तूती बोलती है। आपके अख़बार का अभी वहाँ कोई निशान तक नहीं; बल्कि आप उसे वहाँ हमारे सहयोग से शुरू करने की सोच रहे हैं।

इतना कहकर मैंने विदा का ऊँचे हाथों का नमस्कार किया और उठ गया। वे भाँप गए कि बात बिगड़ गई है। तुरंत पलटने लगे। कि आपकी तो सारी बात तय हो ही चुकी है। फ़िक्र न करें। बैठें। पर मेरा मन डगमग रहा। शांत मुद्रा में बाहर निकल आया। फिर मुख्य इमारत से भी। वहाँ से सीधे बीकानेर हाउस पहुँचा, जहाँ से जयपुर को बसें जाती थीं। और लौट के सीधे घर को।

रास्ते में ख़याल आया कि अब पत्रिका की नौकरी भी गई। गई तो गई। असल में शहर में पहले ही बहुत हल्ला हो चुका था नभाटा के बुलावे का।

दो रोज़ बाद कुलिशजी ने घर बुलाया। पहले भी जाता रहा था। उनके साथ बैठकर ध्रुपद के दर्जनों कैसेट कापी किए थे। तेईस साल की उम्र में उन्होंने बड़ा ज़िम्मा मुझे सौंपा था। लग रहा था कि आज यह क़िस्स तमाम हुआ।

उन्होंने पूछा, नभाटा जयपुर आ रहा है? मैंने कहा, सही बात है। सुना, तुम जा रहे हो? मैंने कहा, अब नहीं। बोले, जाओ भी तो इसमें संकोच कैसा? मैं भी तो राष्ट्रदूत छोड़कर आया था। मैंने उन्हें सारी दास्तान सुनाई। कि बुलावा था। दिल्ली भी होकर आया हूँ। पर मन नहीं माना। नहीं जा रहा।

उनकी आँखों में चमक आ गई। बोले, तुम्हारे जाने की बात जय क्लब में डॉ गौरीशंकर से सुनी थी। उन्हें भी मैंने राष्ट्रदूत वाली बात कही। पर अब नहीं जा रहे हो तब और भी अच्छा। तुम्हारा घर है। और देखते-देखते पत्रिका छूटने की जो आशंका थी, वह उलटे पदोन्नति में बदल गई। इतना ही नहीं, शायद पत्रिका में मैं पहला पत्रकार था जिसे अख़बार की तरफ़ से घर मिला। यानी घर का पूरा किराया।

बहरहाल, माथुर साहब का स्नेह मुझे हासिल हुआ। उन्होंने इज़्ज़त बख़्शी। प्रेरणा दी। बस तोताराम के कारण उनके साथ काम करने से वंचित रह गया। शायद दुबारा मिलता तो बात बन जाती।

पाँच साल बाद कुलिशजी ने पत्रिका से निवृत्ति ले ली। तब प्रभाषजी ने बुलाया और जनसत्ता से जुड़ गया। छब्बीस साल उनके अख़बार में रहा। सम्पादक की आज़ादी प्रधान सम्पादक के नाते कुलिशजी ने भी भरपूर दी और प्रभाषजी ने भी। उसे लेकर दिया। वही लेकर जिया।

हाँ, एक बात ज़रूर कभी न समझ सका कि माथुर साहब ने दीनानाथ मिश्र को नभाटा सँभालने के लिए क्या सोचकर भेजा? क्या इस मामले वे प्रबंधन के कहने में आ गए थे?

अंत में एक दिलचस्प मोड़। टाइम्स में अपना दाय पूरा कर तोताराम इंडियन एक्सप्रेस में आ गए। वहीं नोएडा में, जहाँ जनसत्ता में मेरा दफ़्तर था। कोई बीस बरस बीत चुके थे। उन्होंने मुझे नहीं पहचाना। मैंने बख़ूबी पहचान लिया था। पर उन्हें कभी याद नहीं दिलाया। शायद इसलिए भी कि उन्हें बिना समय लिए मिलने आने की आदत थी। मैं व्यस्त होता और तुरंत मिल नहीं पाता था। उन्हें एंपायर वाला क़िस्सा सुना देता तो वे समझते शायद बदला ले रहा हूँ!

इंडियन एक्सप्रेस टाइम्स से इस मायने में तो बहुत अलग था ही कि वहाँ संपादकों की क़द्र ज़्यादा थी। शहर के सबसे अभिजात इलाक़े में घर और शोफ़र वाली गाड़ी। मैनेजर संपादकों से रश्क करते थे। वे जब-तब किसी विज्ञापनदाता की या जगराते की ख़बर छपवाने की कोशिश भी करते तो विफल हो जाते। ख़बरों का दबाव होने पर या विज्ञापन देर से आने पर अंतिम अधिकार संपादक को था कि एक अटल ना कहकर संस्करण छोड़ने को कह दे।

सबसे अहम बात: रामनाथ गोयनका तो कुछ समय बाद नहीं रहे; छब्बीस साल में उनके दत्तक पुत्र विवेक गोयनका से मैं सिर्फ़ एक बार मिला!

(वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के उपकुलपति हैं)


Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

पत्रकारों के हक, उनकी जिंदगी की बात करना भी बेमानी..

-सत्येंद्र पीएस।। छत्तीसगढ़ के कांकेर में एक पत्रकार सतीश यादव को रेत माफिया ने पीट दिया और उन्हें पीटते हुए थाने पर ले गए। इसकी सूचना जब वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ल को मिली तो वह कुछ और पत्रकारों को लेकर थाने पर पहुंच गए। वहां पुलिस के सामने ही कमल […]
Facebook
%d bloggers like this: