मंत्रियों की संभावित सूची पर मंथन शुरू

Desk
0 0
Read Time:2 Minute, 38 Second

डॉ. जितेंद्र सिंह, हेमाराम और गजेंद्र बन सकते है मंत्री

-महेश झालानी।।

यद्यपि फिलहाल मंत्रिमंडल का विस्तार कुछ समय के लिए टल गया है । लेकिन दिल्ली में उच्चस्तर पर 13 व्यक्तियों के नाम पर चर्चा की जा रही है । पायलट गुट की ओर से विश्वेन्द्र सिंह, हेमाराम चौधरी, गजेंद्र सिंह शक्तावत तथा वेदप्रकाश सोलंकी को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है । जबकि प्रतापसिंह खाचरियावास की मंत्री पद से छुट्टी हो सकती है तथा रघु शर्मा का विभाग बदला जा सकता है । उप सचेतक महेंद्र चौधरी की पदोन्नति सुनिश्चित मानी जा रही है ।

कभी अशोक गहलोत के खास सिपहसालार रहे दीपेंद्र सिंह को मंत्री का पद मिलेगा, इसकी संभावना बहुत नगण्य है । सचिन पायलट को मंत्री बनाया जाए अथवा नही, इस पर बाद में निर्णय होने की संभावना है । निर्दलीय में संयम लोढ़ा का नाम सबसे अव्वल है ।

पता चला है कि अजय माकन एक सूची अपने साथ लेगये है जिस पर दिल्ली में शीर्ष नेतृत्व विचार कर रहा है । संभावित मंत्रियों में बाबूलाल नागर, डॉ राजकुमार शर्मा, डॉ जितेंद्र सिंह, राजेन्द्र सिंह गुढ़ा, रामनारायण मीणा, महेंद्र चौधरी, राजेन्द्र पारीक, महादेव सिंह खंडेला, परसराम मोरदिया, हरीश मीणा, दयाराम परमार, गजेंद्र सिंह शेखावत
बलजीत यादव अथवा शकुंतला रावत । टीकाराम जूली या ममता भूपेश में से किसी एक की छुट्टी होने के कयास लगाए जा रहे है ।

सबसे ज्यादा घमासान शेखावटी में मच सकता है । यहां से परसराम मोरदिया, राजेन्द्र पारीक, महादेव सिंह खंडेला तथा डॉ जितेन्द्रसिंह जैसे दिग्गज मंत्री पद के पक्के दावेदार है । गोविंदसिंह डोटासरा भी शेखावाटी से ताल्लुक रखते है । इनका मंत्री पद छोड़ना सुनिश्चित माना जा रहा है ।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

प्रश्नकाल को मज़ाक़ न बनाएं..

कोविड काल में मोदी सरकार ने कई ऐसे फैसले लिए, जो अंतत: देशहित और जनहित के साबित नहीं हुए। यानी सरकार की मनमानी का खामियाजा देश की आम जनता को भुगतना पड़ा। स्वास्थ्य आपदा के मद्देनजर या गिरती अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए त्वरित फैसले लेने की जरूरत थी, ऐसा […]
Facebook
%d bloggers like this: