फड़नवीस यानि हिन्दी वाला पटवारी..

0 0
Read Time:4 Minute, 18 Second

-चन्द्र प्रकाश झा||

आज सुबह ही सोशल मीडिया एक्टिविस्ट मुकेश असीम ने पोस्ट लिखी थी कि “बोबड़े जी को तो सनद मिल गई है फड़नवीस से – इनका परिवार इतना महान था, स्वतंत्रता संघर्ष में उसका इतना भारी योगदान था कि खुद ‘महान स्वतंत्रता सेनानी वीर’ सावरकर उनके घर ठहरते थे! अतः वे कुछ गलत कर ही नहीं सकते।

अब फड़नवीस जी को भी तो सनद मिलना बनता है – नवीस यानी लिखने वाला अर्थात फड़ लेखक मतलब जमीन के कागजात लिखने वाला – हिन्दी वाला पटवारी। अब पटवारियों की महानता के किस्से गाँव में बुजुर्ग लोगों से सुन लीजिये तो इनके परिवार की महानता के ज्ञान से भी वंचित नहीं रहना पड़ेगा!

 

असल में महाराष्ट्र के भूतपूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के दो ट्वीट के अनुसार मुख्य न्यायाधीश शरद बोबड़े के परिवार की स्वतंत्रता संघर्ष में बड़ी भूमिका रही है, यहाँ तक कि ‘स्वातंत्रयवीर’ सावरकर भी उनके घर पर रुके थे। अतः फडनवीस के अनुसार शरद बोबड़े कुछ गलत कर ही नहीं सकते। पर फडनवीस इस बात को पचा गये कि ये ‘वीर’ अंग्रेजी हुकूमत की कैद से माफीनामा देकर रिहा हुये थे और बाद में उन्हें अंग्रेजी सरकार ने मासिक पेंशन भी दी थी जबकि भगत सिंह के क्रांतिकारी साथी शिव वर्मा (1904-1997) सेलुलर जेल में टॉर्चर के बावजूद माफी मांगने के बजाय आजादी के बाद वहाँ से रिहा होने वाले अंतिम जीवित कैदी थे.

गांधी के हत्यारे के बारे में एटूजेडऑफगांधीज किलर्स से मिली जानकारी के  अनुसार गाँधी का हत्यारा गोडसे भी नागपुर के ही एक घर में ठहरा था और वहाँ से उसे एक रिवॉल्वर भी मिला था। फडनवीस उस घर के बारे में बताना भी भूल गये कि वह भी यही घर तो नहीं था।

Former Maharashtra Chief Minister and the Bhartiya Janata Party leader Devendra Fadnavis has tweeted to tell glorious past of the Honorable Chief Justice of India Sharad Bobde.

These tweets are self explanatory. But they do hide a couple of facts , including that Savarkar wasn’t a ‘ Veer’ and had tendered apology letters to the British rulers to get his release from Cellular Jail in Andman & Nicobar Islands.

He was not like revolutionary Comrade Shiv Varma ( 1904- 1997 ) who despite his torture in the Cellular Jail refused to tender any apology letter to the British rulers for his release from the jail. Revolutionary Comrade Shiv Varma was in fact the last freedom warrior to come out of the Cellular Jail alive after India attained freedom from colonial rule.

The BJP leader has also hidden a fact that following Savarkar’s apology in written, he was granted pension.

Mr Fernandes apparently procured copies of all such archival records while holding the Chief Minister’s post.

We aren’t sure if he has breached oath of secrecy and violated Official Secrets Acts by disclosing informations procured as the Chief Minister.

Oath of secrecy puts restrictions on revealing such informations during and even after holding the official post.

He may be possessing documents showing reason for grant of pension to Savarkar.

Former CM apparently didn’t like to share a fact that Nathuram Godse , convicted and hanged killer of Mahatma Gandhi also stayed in a house in Nagpur. He didn’t tell whether it was also the same house.

The former CM, apparently in a tearing hurry to earn some brownie points from the ruling circle to facilitate him to occupy his lost post again says ,” CJI Sharad Bobde ji is an institution in himself. This family played a very important role during freedom struggle. Great freedom fighter like Veer Savarkar ji has stayed at his house in Nagpur. This family can never ever do anything wrong & that is why they honoured Savarkar ji!”

We are citing an uncontested information and clearly dated clipping from Nagpur dateline of a prestigious newspapee, published on the said facebook page:
We wish Mr. Fernandes to tell the world whose house was it from where a revolver was supplied to Godsey to kill Mahatma Gandhi .

About Post Author

चन्द्र प्रकाश झा

सीपी नाम से ज्यादा ज्ञात पत्रकार-लेखक फिलवक्त अपने गांव के आधार केंद्र से विभिन्न समाचारपत्र, पत्रिकाओं के लिए और सोशल मीडिया पर नियमित रूप से लिखते हैं.उन्होंने हाल में न्यू इंडिया में चुनाव, आज़ादी के मायने ,सुमन के किस्से और न्यू इंडिया में मंदी समेत कई ई-बुक लिखी हैं, जो प्रकाशक नोटनल के वेब पोर्टल http://NotNul.com पर उपलध हैं.लेखक से [email protected] पर सम्पर्क किया जा सकता है.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

'शाकिर उर्फ़…': दोयम दर्जे का दंश और पहचान छिपाने का संकट..

-कामेश्वर।। दलित लेखकों की मान्यता है कि उनकी पीड़ा और संघर्ष का सही चित्रण कोई सवर्ण लेखक नहीं कर सकता। उन्हें तो प्रेमचंद का भी दलित-चित्रण वास्तविकता से दूर लगता है। हालांकि महत्व, दूर से ही सही, दमदार वक़ालत की है, जो प्रेमचंद ने बखूबी की है। फिर भी, दलित-चेतना […]
Facebook
%d bloggers like this: