पान साम्राज्य का पतन और गुटखा साम्राज्य का उदय..

Desk
0 0
Read Time:7 Minute, 14 Second

-विष्णु नागर||

एक राजा था। उसे पान खाने का शौक पागलपन की हद तक था। उसके मुँह में एक पान ठूँसते ही सेवक दूसरा पान तश्तरी में लिए उसके सामने हाजिर न हो जाए तो उसे फाँँसी की सजा तक दे देता था। वह गिड़गिड़ाए और राजा को दया आ जाए तो सजा आजीवन कारावास में बदल जाया करती थी। इसके आगे कोई रियायत नहीं थी।

उसके कई सेवक थे। एक सेवक का काम उसके लिए छाँट- छाँटकर पान के एवन पत्ते खरीद कर लाना था। दूसरे का उन्हें मिनरल वाटर से अच्छी तरह दस बार धोना था। तीसरे का चूना घोलना और पत्ते लगाना था। चौथे का कत्था तैयार करना था। पाँचवे का उस कत्थे को पान पर खूब अच्छी तरह मलना था। छठे का सुपारी खरीद कर लाना और सातवें का उसके बारीक टुकड़े काटना था। आठवें का लौंग-इलायची आदि बाजार से खरीद कर लाना और नवें का बीड़ा बनाना था। दसवेंं का उस पर वर्क चढ़ाना था। ग्यारहवेेंं का उसे राजा के सामने पेश करके खड़े रहना था। बारहवें का तश्तरी से उठाकर उसके मुँह में पहुँचाना था। चबाने की तकलीफ़ वह खुद कर लिया करता था। इसके लिए किसी को कष्ट नहीं देता था। इतना अच्छा राजा था वह। ऐसे राजा सदियों में कभी होते हैं।

प्रजा का एक हिस्सा उससे खुश था क्योंकि राजा के पान के कारण बहुतों को रोजगार मिला हुआ था। पान की खेती करनेवाले खुश थे। व्यापारी खुश थे। पनवाड़ी खुश थे। जो खुश नहीं थे,चुप थे,इसलिए उन्हें भी खुश माना जाता था।

राजा इतना उदार था कि उसने सारे पनवाड़ियों को यह छूट दे रखी थी कि जो चाहे लिखे-‘राजाजी की पसंद की एकमात्र असली दूकान’। उसने सारे पनवाड़ियों के हाथ से बीड़ा ग्रहण करते हुए फोटो खिंचवा रखे थे, जिन्हें वे अपनी दूकान पर लगा सकते थे। उसने उन्हीं पनवाड़ी के कपड़ों पर उनका बनाया हुआ पान का बीड़ा थूकते हुए भी तस्वीरें खिंचवा रखी थी,जो उसके पास सुरक्षित रहती थी। किसी ने जरा चूँ -चपड़ की कि राजा उसकी यह तस्वीर जारी करवा देता था। इसके अलावा जिसे आजकल ईडी, सीबीआई, इनकम टैक्स आदि कहते हैं,उन विभागों के जरिए उसकी बोलती बंद करवा देता था,उसे अंदर करवा देता था। आजकल जिन्हें अरबन नक्सलाइट कहते हैं, कुछ को वह भी घोषित करवा देता था। इस प्रकार राज्य में सर्वत्र शांति और अनुशासन का वातावरण निर्मित रहता था।

राजा को खुश रखने के लिए उसकी उन रानियों ने भी पान खाने शुरु कर दिया था,जिन्हें सिर्फ़ जर्दा खाने का शौक था और जिन्हें साड़ियाँ और गहने पहनने का शौक था,उन्होंने भी। दरबारियों ने पान खाना, रानियों से पहले ही शुरू कर दिया था,जो अमूमन रानियों से भी ज्यादा समझदार होते हैं। जो भी राजदरबार में फरियाद लेकर आता था, उसका आधार कार्ड उसके पान से रचे होंठ और दाँत थे। इस प्रकार पान खाना राजभक्ति या राष्ट्रभक्ति का प्रतीक बन चुका था। राजा का नाम पान- राजा पड़ चुका था। उसके राज्य का नाम हो गया था- पान साम्राज्य।

इधर कुछ समय से पान की दूकानें ही नहीं बल्कि पान के मॉल भी खुल गए थे,जहाँ एक से एक बढ़िया पान मिलते थे। पान की इतनी खेती होने लगी थी कि अनाज, दालें, सब्जियों की जगह पान की खेती ने ले ली थी। राजा हर साल पान का बढ़ा हुआ खरीद मूल्य काफी पहले घोषित कर देता था। इस प्रकार हर साल पान उत्पादकों को लाभदायक मूल्य मिलने लगा था। प्रजा भूख लगने पर पान खाने को मजबूर थी,चोरी से कुछ और बनाया और खाया और किसी को खबर लग गई और राजा तक पहुँच गई तो छह साल की जेल की सजा थी। कपड़े भी पान के बनने लगे थे,जूते भी। पान का नाश्ता, खाना, मिठाइयाँ, समोसे सब मिलने लगे थे। पान की झोपड़ियों से लेकर महल तक बनने लगे थे। सड़केंं पान की बनने लगी थीं। ‘पान राजा जिंदाबाद- जिंदाबाद’ के नारों से धरा गुंजायमान रहने लगी थी।

एक दिन राजा को मरना ही था मगर यह बात उसे मालूम नहीं थी। किसी में हिम्मत भी नहीं थी कि राजा की भी मृत्यु होती है,इसकी चर्चा उससे क्या, आपस में भी कर सके,फिर भी राजा मर गया। उसका बेटा गद्दी पर बैठा। प्रजा को उम्मीद थी कि राजा का बेटा, राजा की परंपरा को आगे बढ़ाएगा। सच यह था कि उसे अपने बाप की पान खाने की आदत से बहुत चिढ़ थी। वह पिता के रहते ही पान-द्रोही हो चुका था।

उसने सोचा कि एकदम से वह उलटफेर कर देगा तो पता नहीं,उसका अपना क्या हश्र हो। उसने पान उत्पादन को प्रोत्साहन देना धीरे -धीरे और फिर तेजी से बंद कर दिया। गुटखे को प्रोत्साहन देने लगा। पान के विकास की तरह गुटखे का भी चतुर्मुखी विकास हुआ और थूक का भी उतनी ही तेजी से विकास हुआ बल्कि उससे भी अधिक तीव्रता से विकास हुआ। शासन की शैली वही थी,माल नया था,राजा नया था।

इस प्रकार पान- साम्राज्य का पतन उसकी ही संतान के हाथों हुआ और गुटखा साम्राज्य का उदय हुआ। उसके बाद जितने भी राजा हुए, गुटखा वंश के राजा कहलाए। इतिहासकार अवश्य इसे पान- गुटखा साम्राज्य कहते हैं। कहते हैं कि गुटखा किंग अभी भी हैंं। गुटखा किंग प्रधम की यह भविष्यवाणी थी कि वह भले मर जाए मगर उसके द्वारा स्थापित गुटखा साम्राज्य अमर रहेगा। विश्लेषक बताते हैंं कि वह सही साबित हो रही है। उसकी दूरदृष्टि के बारे में इधर कुछ कविताएँ भी सामने आई हैं।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments
No tags for this post.

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

ऐक्टू समेत अन्य ट्रेड यूनियन संगठनों ने किया दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन..

ऐक्टू समेत देश की अन्य ट्रेड यूनियन संगठनों व फेडरेशनों ने आज देशभर में प्रदर्शन किया. ज्ञात हो कि ये प्रदर्शन मोदी सरकार की मजदूर-विरोधी, जन-विरोधी और विभाजनकारी नीतियों के साथ-साथ, तेजी से किए जा रहे निजीकरण के खिलाफ आयोजित किए गए. केन्द्रीय ट्रेड यूनियनों ने देश भर में 9 […]
Facebook
%d bloggers like this: