ठाकुर का कुआं, ठाकुरों का श्मशान..

admin
Read Time:6 Minute, 36 Second


कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद के जन्म को 140 साल पूरे हो रहे हैं और यह विडम्बना ही है कि अपनी कहानियों में उन्होंने समाज की जिन विसंगतियों और विद्रूपताओं का चित्रण किया है, वे आज भी कायम हैं। उनकी एक कहानी है- ‘ठाकुर का कुआं’, जिसके मुख्य पात्र हैं जोखू और गंगी। वे जिस कुएं पर आश्रित थे, उसमें किसी जानवर के गिरकर मर जाने से उसका पानी मटमैला और बदबूदार हो जाता है।

बहुत सोच-विचार कर और हिम्मत जुटाकर गंगी शाम के धुंधलके में बचते- छिपते गांव के ठाकुर के कुएं पर पहुंचती है। वह अभी पानी निकालने का जतन कर ही रही है कि अचानक ठाकुर के घर का दरवाजा खुलता है और गंगी घबराहट में अपनी रस्सी और घड़ा छोड़ वहां से भाग निकलती है। घर पहुंचकर वह देखती है कि जोखू लोटा मुंह से लगाये वही मैला-गंदा पानी पी रहा है।

हाल ही में यह कहानी उत्तर प्रदेश के काकरपुरा गांव में दोहराई गई। फर्क ये रहा कि इस बार कुएं की जगह श्मशान था। आगरा से महज 20 किमी दूर इस गांव में गर्भाशय के संक्रमण के कारण पूजा नामक 26 वर्षीया एक महिला की मृत्य हो गई। इस महिला के ताल्लुक अनुसूचित जातियों में शामिल नट समुदाय से था।

एक श्मशान भूमि में उसका शव चिता पर रखा जा चुका था। इससे पहले कि चिता सुलग पाती, ठाकुरों का एक समूह वहां आ धमका और अपनी जमीन पर एक दलित के अंतिम संस्कार पर उन्होंने कड़ा ऐतराज जताया। पूजा के परिजनों को मजबूरन उसका शव चिता से उतारना पड़ा और वहां से चार किमी दूर दूसरी जगह पर उन्होंने अंतिम संस्कार किया।

यह घटना 19 जुलाई को घटी लेकिन पुलिस में इसकी रिपोर्ट दर्ज नहीं करवाई गई, क्योंकि मृतक के परिजनों ने लिखित शिकायत नहीं की। हो सकता है कि टकराव या प्रताड़ना के भय से उन्होंने रिपोर्ट न करने में ही भलाई समझी हो। किसी तरह यह खबर मीडिया तक पहुंची तो पता चला कि संबंधित ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले चार गांवों में 11 श्मशान भूमियां हैं जो अलग-अलग समुदायों के लिए चिन्हित हैं। जो जगह नट समुदाय के लिए आरक्षित है वहां कथित तौर पर ब्राह्मणों ने कब्जा किया हुआ है। कुल मिलाकर नट समुदाय के लिए यह इधर कुआं, उधर खाई वाली स्थिति है। आगरा प्रशासन इस पर कोई कार्रवाई करता है या नहीं, यह आने वाले समय में पता चलेगा।

इस प्रसंग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वह बहुचर्चित भाषण याद आता है कि ‘गांव में अगर कब्रिस्तान बनता है तो श्मशान भी बनना चाहिए, रमजान में बिजली मिलती है तो दीवाली में भी मिलनी चाहिए, ईद में बिजली आती है तो होली पर भी आनी चाहिए।’ उन्होंने कहा कि सरकार का काम है कि वह भेदभाव मुक्त शासन चलाए। तीन साल पहले यह भाषण उन्होंने उसी उत्तर प्रदेश की चुनावी रैली में दिया था, जहां अब अनुसूचित जाति के एक परिवार को अंतिम संस्कार करने से रोका गया।

मोदी जी के उस भाषण के निहितार्थ कुछ और थे, लेकिन उसे यदि शाब्दिक अर्थ में ही लिया जाए तो सवाल उठता है कि किसी श्मशान पर हर उस जाति या समुदाय- जो वृहद हिन्दू समाज का ही हिस्सा हो, का अधिकार क्यों नहीं होना चाहिए?
यह महज संयोग नहीं था कि उत्तर प्रदेश में मोदी जी के चुनाव प्रचार के लगभग साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी सामाजिक समरसता अभियान शुरू किया था। यह अभियान खास तौर पर दलित, आदिवासी और अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणियों के हिंदुओं को आकर्षित करने के लिए था। हालांकि जाहिर तौर पर इसका उद्देश्य समाज से ऊंच-नीच का भाव मिटाना बताया गया था, दलितों का जीवन स्तर उठाने की बातें भी की गईं।

इस अभियान के नतीजे तो अब तक देखने को नहीं मिले हैं, लेकिन यह जरूर देखा गया है कि संघ की राजनीतिक शाखा यानि भाजपा का शासन जिन प्रदेशों में रहा या अभी है, वहां दलितों, आदिवासियों और अल्पसंख्यकों की प्रताड़ना के मामले ज़्यादा हुए हैं।

कहना न होगा कि भेदभाव मुक्त शासन, सामाजिक समरसता और सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास जैसी बातों पर जब तक संघ और सरकार खुद अमल नहीं करते, तब तक उनका कोई अर्थ नहीं रह जाता। वास्तव में वंचित और शोषित तबकों को तो सामाजिक समरसता से ज़्यादा सामाजिक न्याय की जरूरत है।

यह हर हाल में सुनिश्चित किया जाए कि कोई गंगी किसी ठाकुर के कुएं से उलटे पैर न लौटे, कोई जोखू गंदा-बदबूदार पानी पीने को मजबूर न हो और किसी पूजा की मृत देह को भटकना न पड़े। उम्मीद की जानी चाहिए कि हमारे नीति नियंता राजस्थान, राम मंदिर और रफाएल से फुरसत पाकर इस मुद्दे पर भी ध्यान देंगे।

(देशबंधु)

0 0

About Post Author

admin

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

लापरवाह लोगों के साथ सरकारी नरमी किसलिए?

-सुनील कुमार||हिन्दुस्तान में कोरोना का जो हाल चल रहा है, वह बहुत फिक्र पैदा करता है। कई प्रदेशों में अस्पतालों में जगह नहीं बची है, तो बड़े-बड़े स्टेडियमों में पलंग लगाकर कोरोना वार्ड बना दिए गए हैं। मौतें बहुत रफ्तार से इस देश में आगे नहीं बढ़ रही हैं, इसलिए […]
Facebook
%d bloggers like this: