Home देश जब सबसे बड़ी वैज्ञानिक संस्था विज्ञान छोड़ दे तो..

जब सबसे बड़ी वैज्ञानिक संस्था विज्ञान छोड़ दे तो..

-सुनील कुमार।।

इतिहास को मनचाहे तरीके से ढालने की ताकत जब आ जाती है, तो हसरत फिर वहीं नहीं थमती, वह आगे बढ़ते चलती है। हिन्दुस्तान में यह हसरत अब भविष्य को भी ढाल लेना चाहती है। भविष्य को गढ़ लेने तक तो बात ठीक थी, लेकिन भविष्य को ढाल लेने की हसरत खतरा खड़ा कर रही है। हिन्दुस्तान में इंडियन कौंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च, आईसीएमआर का काम पूरी तरह से वैज्ञानिक है। जैसा कि संस्था का नाम सुझाता है, यह भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय की संस्था है जो कि भारत में चिकित्सा शोध को नियंत्रित करती है। अभी 2 जुलाई को इसने देश की एक दवा कंपनी भारत बायोटेक को एक चिट्ठी लिखी है जिसमें कोरोना से बचाव के टीके के मानव-परीक्षण का जिक्र है। इसमें आईसीएमआर के डायरेक्टर ने लिखा है कि कोरोना की वैक्सीन के मानव परीक्षण के पूरे हो जाने के बाद 15 अगस्त तक इसे जनता के लिए उतार देने का अनुमान है। आपको इस क्लिनिकल ट्रॉयल के लिए चुना गया है, और जनता के स्वास्थ्य को देखते हुए कृपया यह सुनिश्चित करें कि 7 जुलाई तक परीक्षण के लिए मरीजों का पंजीयन हो जाए।

अब सवाल यह है कि जिस वैक्सीन के क्लिनिकल ट्रॉयल की अभी शुरूआत भी नहीं हुई है और 7 जुलाई तक लोगों को इसके लिए छांटना है, क्या उसके लिए कोई वैज्ञानिक संस्था 5 हफ्तों का समय तय कर सकती है कि उसे 15 अगस्त तक लोगों के लिए इस्तेमाल करना शुरू हो जाए? जिन्हें विज्ञान की जरा सी भी बुनियादी समझ होगी वे इस तरह की बात सोच भी नहीं सकते। इंसानों की जिंदगी को प्रभावित करने वाला कोई ऐसा टीका जिसे दुनिया के सभी विकसित देश बनाने की कोशिश कर रहे हैं, उसे हिन्दुस्तान में लोगों के बीच उतारने के लिए पांच हफ्तों की एक बंदिश दे दी जाए। दुनिया के बहुत से विकसित देशों का यह अंदाज है उनके टीके जनता के काम में लाने के पहले कई महीनों का वक्त लग सकता है। कुछ देशों में मानव-परीक्षण शुरू हुए हैं, लेकिन किसी भी देश ने ऐसा कोई अनुमान सामने नहीं रखा है।

यह दुनिया की सबसे अच्छी बात होगी कि हिन्दुस्तान सबसे पहले ऐसा कामयाब टीका बना सके। लेकिन देश के स्वतंत्रता दिवस पर इसे पेश करने की हड़बड़ी बहुत घातक हो सकती है, क्योंकि क्लिनिकल ट्रायल में डॉक्टर और बाकी विशेषज्ञ कर्मचारी लगते ही हैं, और अगर उनके मन में एक ऐसी राष्ट्रवादी भावना पैदा हो गई कि आजादी की सालगिरह पर देश को यह तोहफा देना ही है, और इस सोच ने अगर मेडिकल-परीक्षण को प्रभावित किया, तो देश एक बहुत बड़े खतरे में भी पड़ सकता है क्योंकि कोरोना का टीका मरीजों को नहीं लगना है, तमाम जनता को लगना है, और उतने बड़े पैमाने पर इस्तेमाल होने वाले इस टीके के किसी प्रयोग में कोई हड़बड़ी नहीं दिखाई जानी चाहिए। आईसीएमआर चिट्ठी को देखें तो यह बहुत खतरनाक अंदाज में लिखी गई है, और इसमें सामने रखा गया लक्ष्य किसी भी वैज्ञानिक परीक्षण को बर्बाद करने के लिए काफी दिखता है। हिन्दुस्तानियों को यह बात याद नहीं होगी कि अमरीका में गर्भवती महिलाओं के लिए बनाई गई एक दवा थेलिडामाइड को जब बाजार में उतारा गया, तो उसे जादुई करिश्मे जैसा माना गया था। लेकिन इस दवा को लेने वाली महिलाओं के जब बच्चे होना चालू हुए, तो वे बिना हाथ-पांव के थे। वह अमरीकी इतिहास का एक सबसे बुरा दु:स्वप्न था। लेकिन तब तक गर्भावस्था के दौरान ही सुबह होने वाली मितली रोकने के लिए लाखों महिलाएं यह दवा ले चुकी थीं। अमरीकी मेडिकल नियम भारत के मुकाबले अधिक कड़े हैं, उसके बावजूद वहां ऐसी चूक हुई थी। आज हिन्दुस्तान में पूरी आबादी को जो टीके लगने हैं, उन टीकों के मानव-परीक्षण के लिए पांच हफ्तों का वक्त तय किया जा रहा है, और चिकित्सा-वैज्ञानिकों को कह दिया जा रहा है कि 15 अगस्त को कामयाब टीका लेकर लालकिले पर पहुंच जाएं।

हिन्दुस्तान में प्रकाशित होने वाली इतिहास की कुछ किताबों में इतिहास बदल देना एक अलग बात है, उससे हकीकत की बुनियाद नहीं बदल रही, और आज की इमारत गिरने नहीं जा रही। लेकिन आज की मेडिकल-रिसर्च और आज उसके लिए जरूरी मानव-परीक्षण में ऐसी हड़बड़ी करना एक ऐसी उन्मादी राष्ट्रवादी सोच की उपज है जो प्रयोगशाला की कुर्सी पर तो बैठी है, लेकिन जिसने विज्ञान की बुनियादी समझ को पूरी तरह उतारकर कूड़े के ढेर पर फेंक दिया है।

किसी देश के लिए विज्ञान से खिलवाड़ बहुत बुरा होगा, और ऐसे व्यापक उपयोग के एक टीके को आजादी की सालगिरह की तारीख दे देना हिन्दुस्तान के इतिहास की सबसे बड़ी वैज्ञानिक चूक भी हो सकती है क्योंकि देश की पूरी आबादी इस टीके को लगवाने वाली रहेगी। इतनी बड़ी वैज्ञानिक संस्था की इतनी बड़ी अवैज्ञानिक चिट्ठी इतिहास में अच्छी तरह दर्ज रहेगी, और बाकी दुनिया के चिकित्सा विज्ञान में इस एक चिट्ठी से भारत की साख पर बट्टा लगेगा।

Facebook Comments
(Visited 1 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.