जो आज लापरवाह हैं वे दूसरों की बेकसूर मौत के जिम्मेदार भी हैं..

Desk

-सुनील कुमार।।
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से लगे हुए अभनपुर नाम के कस्बे में तीन सैलून मालिक कोरोना पॉजिटिव मिले जो खुद लोगों के बाल काटते थे, हजामत बनाते थे। अब सैलून के बाकी कर्मचारियों और उनके परिवारों की भी कोरोना जांच हो रही है, लेकिन इन्होंने अपने ग्राहकों के रजिस्टर नहीं रखे थे, इसलिए जिन सैकड़ों लोगों ने लॉकडाऊन खत्म होने के बाद बाल कटाने और हजामत बनवाने के लिए दौड़ लगाई थी, वे लोग भी अब खतरे में होंगे। यह बात सही है कि लॉकडाऊन के चलते हुए लोगों के रोजगार बुरी तरह से खत्म हुए थे, जिनमें सैलून और पार्लर चलाने वाले लोग भी थे। जब उन्हें काम करने की छूट मिली, तो जाहिर है कि भूखों मरने के बजाय उन्होंने खतरा उठाकर भी काम शुरू किया। सैलून और पार्लर के काम करने के तरीके सबके देखे हुए हैं, और शारीरिक संपर्क के बिना, चेहरे को छुए बिना, उन्हीं सामानों को अधिक लोगों पर इस्तेमाल किए बिना इनका काम नहीं चल सकता। सरकार के नियम कागजों पर रहते हैं, और अधिकतर नियमों पर अमल करवाना खुद सरकार के बस में नहीं रहता। लागू न करवाए जा सकने वाले नियमों के आधार पर जिंदगी को खतरे में डालना सरकार की बहुत बड़ी चूक थी, और आज भी है। यह जरूर है कि हर पेशे के लोग काम पर लौटने के लिए बेसब्र हैं ताकि घर पर चूल्हा जल सके, लेकिन पंक्चर बनाने वाले और मालिश करने वाले से लोगों को हो सकने वाले खतरे में बड़ा फर्क है, और इसे ध्यान में रखते हुए ही सरकार को भी छूट देनी थी, और लोगों को भी इन जगहों पर जाना था।

दरअसल हिन्दुस्तानियों के बीच से कोरोना का डर खत्म हो गया है। सरकारी शराब दुकानों पर जिस तरह की भीड़ और धक्का-मुक्की दिखती है उससे भी लोगों को लगता है कि अब सरकार ने ही धक्का-मुक्की की छूट दे दी है, तो फिर किसी भी काम को क्यों छोड़ा जाए? हम सैलून और पार्लर की बेरोजगारी के साथ पूरी हमदर्दी रखते हुए भी यह कहना चाहते हैं कि जिनकी जिंदगी इनके बिना चल ही नहीं सकती थी, उनका तो वहां जाना ठीक था, लेकिन इनके बिना किसकी जिंदगी नहीं चल सकती थी? क्यों खतरा उठाकर बाल कटाना या हजामत बनवाना जरूरी था? जाहिर तौर पर जो आम लोगों के लिए ऐसी जगहें रहती हैं, वहां पर साफ-सफाई की हिफाजत बड़ी सीमित ही रहती है, और सैलून-पार्लर चलाने वालों का तो काम से पेट जुड़ा हुआ था, जिनके सिर या चेहरों पर बाल इक_ा हो गए थे, वे तो भूख से नहीं मर रहे थे? जिसका रोजगार छिन गया है, वह तो काम ढूंढेंगे ही, ग्राहक ढूंढेंगे, लेकिन जिन्हें जरूरत नहीं है, वे तो ऐसे खतरे के बिना काम चला लें!

कुल मिलाकर हाल यह दिख रहा है कि लोग बेफिक्र हो गए हैं। कल जिस तरह सुप्रीम कोर्ट में केन्द्र सरकार ने एक ऐसी नौबत खड़ी कर दी कि ओडिशा सरकार को भी अनमने ढंग से केन्द्र की हां में हां मिलाकर रथयात्रा को अदालती मंजूरी दिलवाने पर मजबूर होना पड़ा। वरना ओडिशा का प्रारंभिक रूप रथयात्रा के पक्ष में नहीं दिख रहा था। पिछले महीने जब लॉकडाऊन से केन्द्र सरकार ने शराब कारोबार को छूट दी, तो राज्य सरकारों ने भी आनन-फानन दारू बेचना या बिकवाना शुरू कर दिया। जब तक केन्द्र की बंदिश थी, दारूबंदी रही, और बिना दारू के लोग कोई मर नहीं गए। देश भर में इक्का-दुक्का लोगों ने कहीं खुदकुशी कर ली, तो उससे सौ गुना अधिक शराबी नशे में रोज हत्या-आत्महत्या करते हैं। एक बार केन्द्र सरकार ढीली हुई, तो राज्य सरकारों से लेकर नाई तक, और शराबियों से लेकर पार्लर जाने वालों तक, किसी को भी रोकना, किसी को भी सावधानी की उम्मीद करना पानी में बह जाता है। आज दुनिया और देश कोरोना के जिस तरह के खतरे से गुजर रहे हैं, उसमें लॉकडाऊन को इस तरह के कामों के लिए तो बिल्कुल ही नहीं खोलना था जिनसे कोरोना फैलने का खतरा खड़ा होना ही था। आज दारू की दुकानों पर जैसी धक्का-मुक्की दिखती है, वहां से कोरोना फैलने के आंकड़े आसानी से सामने नहीं आएंगे, लेकिन यह मानना ही नासमझी होगी कि दारू दुकानों के बाहर कोरोना खुशी से नाच नहीं रहा होगा। अभी भी वक्त है कि राज्य सरकारों को केन्द्र से मिली छूट के बाद भी अपनी अक्ल का इस्तेमाल करते हुए कुछ काम-धंधों पर रोक लगानी चाहिए क्योंकि वहां सावधानी बरतना मुमकिन ही नहीं है। यह जरूर है कि हमारी यह सलाह ऐसे कारोबारियों के साथ बहुत बड़ी बेइंसाफी होगी अगर सरकार इन्हें काम न करने के एवज में कोई मुआवजा न दे। सरकार के लिए ऐसा इंतजाम करना भारी पड़ेगा लेकिन ऐसी किसी सैलून या पार्लर से अगर कोरोना फैलेगा, तो वैसे भी पूरे इलाके को क्वारंटीन करने में धंधा बंद ही हो जाएगा, और सरकार-समाज के पास दर्जनों या सैकड़ों कोरोनाग्रस्त लोग रह जाएंगे। छत्तीसगढ़ में ही राजनांदगांव शहर की एक छोटी सी बस्ती में कोरोनाग्रस्त लोग एक से बढ़कर पचास हो चुके हैं, और मौत भी एक से बढ़कर आगे पहुंच चुकी है। यह नौबत दूसरे शहरों के दूसरे इलाकों में न आए वही बेहतर होगा।

आखिर में यह कड़वी सलाह देना जरूरी है कि सैलून या पार्लर के बिना किसी का काम नहीं रूकता, और अगले कुछ महीने घर में गुजार लें। बाहर सड़कों पर या दूसरी जगहों पर खाए बिना किसी का काम नहीं रूकता, और घर पर खा लें। दारू पिए बिना तो देश में एक महीने से ज्यादा वक्त सबके लिए बहुत सेहतमंद था, और दारू दुकान के बाहर एक-दूसरे से कोरोना लेने-देने के बजाय उन पैसों से अपने बच्चों के लिए कुछ बेहतर सामान खाने-पीने को खरीदें, तो यह सबको बचाना होगा। तरह-तरह की लापरवाही, और तरह-तरह का रोमांच करने के लिए याद रखें कि डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मी, पुलिस और सफाईकर्मी, एम्बुलेंस ड्राइवर और मेडिकल स्टोर वाले आपकी जिंदगी को बचाने के लिए अपने आपको खतरे में डालकर काम कर रहे हैं। आप न सिर्फ खुद को, अपने घर-दफ्तर, कारोबार-कारखाने को खतरे में डालते हैं, बल्कि समर्पित जीवनरक्षकों की जिंदगी की खतरे में डाल रहे हैं। अकेले दिल्ली शहर में 2200 से अधिक स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। जो लोग आज लापरवाह हैं वे बेकसूर मौतों के जिम्मेदार भी रहेंगे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

ठंडे लद्दाख पर गर्मागर्म सियासत..

खून जमा देने वाला लद्दाख का ठंडा इलाका इस वक्त भारतीय राजनीति का सबसे गर्म मुद्दा बना हुआ है और सरकार समर्थकों का खून खौला रहा है। यह समझना कठिन है कि सरकार समर्थकों का खून किस बात पर अधिक खौल रहा है। बीस जवानों की शहादत पर या इस […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: