Home जे सरवा सिरि राम न बोली, पकड़ पकड़ लतियाएंगे..

जे सरवा सिरि राम न बोली, पकड़ पकड़ लतियाएंगे..

जगदीश सौरभ का गीत

रामलला हम आयेंगे, मंदिर वहीँ बनायेंगे
जे सरवा सिरि राम न बोली, पकड़ पकड़ लतियाएंगे
रामलला हम आयेंगे

पढ़े बदे इस्कूल ना रहै, घर चौका औ चूल्ह ना रहै
रोटी औ रोजगार ना रहै, कउनो कारोबार ना रहे
अपने खूब मलाई काटें, लम्बा-लम्बा भाषण छाँटैं
गाय-भईंस के नाम पे हरदम जनता को लड्वायेंगे
रामलला हम आयेंगे

अस्पताल, गोदाम अनाज के, एक्को नाही काम काज के
सरकारी स्कूल औ कॉलेज, उफरि परै सब नालेज-वालेज
दाल, तेल औ नून के कीमत, कोचिंग, टयूसन फीस के आफत
पइसा वालेन के का दिक्कत प्राइबेट में जायेंगे
रामलला हम आयेंगे

खाली हौवा ? झंडा लेला, हाथ में मोट के डंडा लेला
रोजगार के बात मत करा, सरऊ देसदरोही हउआ ?
आटा ना हौ, डाटा हौ नै, रोटी डाउनलोड कई लेहा
टच मोबाइल, टीबी, किरकेट, घर-घर में पहुचाएंगे
रामलला हम आयेंगे

गाँव गली में मंदिर होइहैं, चार ठे मोट पुजारी होइहैं
दुई ठे दिन भर रूपया गिनिहैं, औ दुई ठे रेचकारी बिनिहैं
ओही भब्य मंदिर के बहरे पच्चिस-तीस भिखारी होइहैं
तोहर कमाई खाइके बाबा तोहईं के गरियायेंगे
रामलला हम आयेंगे

पैदा चाहे कुछ ना करिहैं, नटई तक ले ठूँस के खइहें
जवन बची ऊ घर ले जईहैं, बेटवा अमरीका में पढ़इहैं
थोड़का दान औ पुन्न देखाई, बाकी पार्टी फंड में जाई
वो ही से हथियार खरीद के दंगा-मार करायेंगे.
रामलला हम आयेंगे

गंगा माई, देंय दोहाई, कइसे होई साफ़ सफाई
चार ठे नाला और गिरी तब नेता दीहैं बजट बढ़ाई
पंडन के गजबै लीला हौ, हमरे नाम पे करैं कमाई
लाखों टन लकड़ी रोज फूँकिहैं, मुर्दा वहीँ जलाएंगे
रामलला हम आयेंगे

कोका-कोला, पेप्सी माज़ा, जवन मिलै बस गटक जा राजा
पोखरी कूँआ, ताल-तलैया, सुखति हवे तो सुखे दा भइया
काहें हाहाकार ? बिकत बा, पानी खाली बीस रुपैया
हवा त अबहीं बकिये बाटे, उसको भी बेचवायेंगे
रामलला हम आयेंगे

जनरल डिब्बा में ठुंस-ठुंस के, आड़े तिरछे कइसौ घुस के
दिल्ली-बम्मई भाग के जइहैं, पूरी जिनगी बेचि के अइहें
ई बिकास के कइसन सीढ़ी, भै बरबाद पचीसन पीढ़ी
तोहरे खून पसीना से ऊ आपन महल बनायेंगे
रामलला हम आयेंगे

रोटी-बेटी, नात-हीत में जतिये एक कसौटी होलै
दुनिया में इंसान, इहाँ पे चमरौटी बभनौटी होलै
पाँड़े बोलैं ठाकुरसाहब ! तोहँऊ हिन्दू हमहू हिन्दू
देखिहा अब थोडके दिन में हम बिस्वगुरु बन जायेंगे
रामलला हम आएंगे

छोटजतिया सब पढ़ि लिख जइहैं, धरम करम के आँख देखइहें
बड़जातियन के खेत फैक्टरी फिर कब्भौं ना झांकें जइहैं
अपने काम क छाँट के रक्खा, बाकी सबके बाँट के रक्खा
एनके बस मजदूर बनावा, नहीं त सब बढ़ जायेंगे.
रामलला हम आयेंगे

एही देस में लाख-करोड़ों आधे पेट ले खाना खालैं
एही मुलुक में रोज हजारन टीबी कैंसर से मरि जालैं
मछरी माँस पे फाँसी होई, दुनियाँ भर में हाँसी होई
बीड़ी, सिगरेट, गुटखा दारू बंद नहीं करवाएंगे
रामलला हम आयेंगे

Facebook Comments
(Visited 4 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.