विनोद दुआ को सम्मान मिलना चाहिए न कि संत्रास..

Page Visited: 772
0 0
Read Time:14 Minute, 36 Second

राजेश बादल।।

इन दिनों विनोद दुआ के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी के एक प्रवक्ता की ओर से दर्ज कराई गई प्राथमिकी की चर्चा है। आरोप है कि अपनी तल्ख और बेबाक टिप्पणियों से उन्होंने इस पार्टी के नियंताओं को जानबूझ कर परेशान किया है। किसी भी सभ्य लोकतंत्र में असहमति के सुरों को दंडित करने की इस साजिश की अनुमति क्यों दी जानी चाहिए। इस मामले के बाद उनके बारे में मनगढ़ंत कथाओं की बाढ़ सी आ गई है। इस कारण मुझे यह टिप्पणी लिखने पर मजबूर होना पड़ा है। मैं मामले का पोस्ट मार्टम नहीं करना चाहता। अलबत्ता यह कह सकता हूं कि इस तरह के षड्यंत्र केवल परेशान करने के लिए ही रचे जाते हैं। उनका कोई सिर-पैर नहीं होता। समय के साथ वे कपूर की तरह उड़ जाते हैं।

मानसिक उत्पीड़न का यह सिलसिला यकीनन परेशान करता है। छोटे पर्दे पर उपलब्धियों का कीर्तिमान रचने वाले विनोद दुआ को अपने ही मुल्क में सम्मान की जगह संत्रास दिया जा रहा है, इसके लिए आने वाली नस्लें हमें माफ नहीं करेंगी। वैसे भी हम भारतीय किसी बेजोड़ शख्सियत के योगदान का उसके जीते जी मूल्यांकन नहीं करने के लिए कुख्यात हैं। जब वह नहीं रहता तब हमें उसके काम याद आते हैं।

दो दिन से उनके बारे में क्या-क्या नहीं कहा गया- वह कांग्रेसी हैं, वामपंथी हैं। अव्वल तो वह न कांग्रेसी हैं और न वामपंथी हैं। वैसे अगर होते भी तो बहुदलीय लोकतंत्र में यह कोई अपराध नहीं है। कहा गया कि उन्होंने अनाप-शनाप दौलत अनुचित तरीकों से कमाई है। भारत की जिम्मेदार जांच एजेंसियों के लिए यह खुली चुनौती हो सकती है। हमने तो फटेहाल नेताओं को पार्टी के सत्ता में आते ही घर भरते देखा है। इन पार्टियों के राज नेताओं की अनेक अंतर कथाएं मय सुबूतों के पिछले तैंतालीस बरस की पत्रकारिता में मेरे सामने आती रही हैं। उन पर आज तक ऊंगली नहीं उठाई गई। चालीस बरस तक देश की राजधानी में प्रथम श्रेणी के प्रसारक, प्रस्तोता और पत्रकार रहे ईमानदार भारतीय की जेब टटोलने वालों को अपने गिरेबां में भी झांकना चाहिए।

पहले उनके विरुद्ध मी टू अभियान चलाकर चरित्र हनन करके उनकी जबान पर ताला डालने की कोशिश की गई। वह भी फुस्स हो गया। अब इस तरह के मामलों से उन्हें परेशान करने का कुचक्र चलाया जा रहा है। लेकिन यहां आरोप-प्रत्यारोप की अदालत लगाकर मैं नहीं बैठा हूं। मैं सिर्फ यह बताना चाहता हूं कि विनोद दुआ क्या हैं?

इस देश में टेलिविजन ने 1959 में दस्तक दी, लेकिन सही मायनों में उसे अस्सी के दशक में पंख लगे। जाहिर है अकेला सरकारी दूरदर्शन था तो उसने उस जमाने में पक्ष और प्रतिपक्ष, दोनों की सशक्त भूमिका निभाई। आज तो यह सत्ता का प्रवक्ता बनकर रह गया है। इसीलिए संसार का सबसे बड़ा नेटवर्क होते हुए भी स्वतंत्र पहचान के लिए छटपटा रहा है। मगर उस दौर का डीडी ऐसा नहीं था। एक बेहद लोकप्रिय शो ‘जनवाणी’ आया करता था। उसके कर्ता-धर्ता विनोद दुआ ही थे। सरकार कांग्रेस की थी। उस कार्यक्रम में सरकार के मंत्रियों की ऐसी खबर ली जाती थी कि उनकी बोलती बंद हो जाती। अनेक दिग्गज मंत्रियों ने प्रधानमंत्री से शिकायत की कि विनोद दुआ तो संघी हैं। विपक्ष की तरह व्यवहार करते हैं। सरकार के दूरदर्शन पर यह नहीं दिखाया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री ने उन्हें ठंडा पानी पिलाकर चलता किया। उनसे कहा कि पहले अपना घर ठीक करो। फिर शिकायत लेकर आना। एक उदाहरण ही काफी होगा।

इन दिनों राजस्थान के मुख्यमंत्री किसी जमाने में देश के नागरिक उड्डयन मंत्री होते थे। एक बार वह जनवाणी में आए। उनका इस साक्षात्कार में इतना दयनीय प्रदर्शन था कि उन्हें पद से हटा दिया गया। आज भी निजी मुलाकात में अगर परख का जिक्र आ जाए तो वह यह घटना सुनाना नहीं भूलते।

उन दिनों चुनाव परिणाम हाथ से मतपत्रों की गिनती के बाद घोषित किए जाते थे। इस प्रक्रिया में दो-तीन दिन लग जाते थे। रात दिन दूरदर्शन पर खास प्रसारण चलता था। विनोद दुआ और डॉक्टर प्रणव रॉय की जोड़ी इन चुनाव परिणामों और रुझानों का चुटीले अंदाज में विश्लेषण करती थी। यह जोड़ी सार्थक और सकारात्मक पत्रकारिता करती थी। कांग्रेसी नेताओं की जमकर बखिया उधेड़ती तो बीजेपी के नेता भी पानी मांगते थे। कम्युनिस्ट दलों के प्रति भी उतनी ही निर्मम रहती थी। इसके बावजूद राजीव गांधी से लेकर अटल बिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी, सिकंदर बख्त, कुशाभाऊ ठाकरे, इंद्रजीत गुप्त, बसंत साठे, अर्जुनसिंह, शरद पवार, मधु दंडवते, बाल ठाकरे, जॉर्ज फर्नांडिस और ज्योति बसु जैसे धुरंधर इन दोनों के मुरीद थे।

लोगों को याद है कि 1989 और 1991 के चुनाव में राजीव गांधी, वीपी सिंह और चंद्रशेखर की आलोचना तिलमिलाने वाली होती थी। कभी उन पर किसी दल विशेष का पक्ष लेने या विरोध करने का आरोप नहीं लगा।

नरसिंह राव सरकार बनी तो विनोद दुआ को साप्ताहिक समाचार पत्रिका परख की जिम्मेदारी सौंपी गई। मैं स्वयं पहले एपिसोड से आखिरी एपिसोड तक परख की टीम में था। परख में उन दिनों संवाद उप शीर्षक से एक खंड होता था। इसमें भी देश के शिखर नेताओं और अलग-अलग क्षेत्रों के विशेषज्ञों के साक्षात्कार होते थे। कई बार इस कार्यक्रम में मंत्रियों के लगभग रोने की स्थिति बन जाती। उनके पास अपने मंत्रालयों की ही पुख्ता जानकारी नहीं होती थी। उन्होंने भी प्रधानमंत्री से विनोद दुआ की शिकायत की। कहा कि विनोद दुआ भाजपाई हैं, हिंदूवादी हैं। नरसिंह राव ने भी उन्हें वही उत्तर दिया, जो राजीव गांधी ने दिया था। उन्होंने कहा कि अपना काम और मंत्रालय का काम सुधारिए।

मंत्रियों के आगे कभी नहीं झुके 

परख की एक रिपोर्ट मैंने गुजरात जाकर सरदार सरोवर की ऊंचाई के मुद्दे पर की थी। उन दिनों विद्याचरण शुक्ल जैसे तेज तर्रार मंत्री प्रधानमंत्री के खास थे। उनके पास जल संसाधन विभाग था। उन तक पहले ही खबर पहुंच गई कि परख में ऐसी रिपोर्ट दिखाई जा रही है, जिससे विभाग की उलझन बढ़ जाएगी। उन्होंने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया, लेकिन मेरी वह रिपोर्ट नहीं रोक पाए। बाद में उस रिपोर्ट से संसद में बड़ा हंगामा हुआ। खुद विद्याचरण शुक्ल ने मुझे बरसों बाद यह बात बताई।

उन दिनों मध्य प्रदेश में डायन बताकर महिलाओं की हत्या करने के अनेक मामले आए। कांग्रेस सरकार थी। दिग्विजय सिंह मुख्यमंत्री थे। इस रिपोर्ट को रुकवाने के खूब प्रयास हुए, पर नाकाम रहे। जब रिपोर्ट प्रसारित हुई तो केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को फटकार लगाई।

विनोद दुआ के कार्यक्रम पर कोई असर नहीं पड़ा। मैंने एक रिपोर्ट महाराष्ट्र के जलगांव से की थी। एक सेक्स स्कैंडल हुआ था। उसमें राजनेता भी शामिल थे। उस रिपोर्ट का प्रसारण रुकवाने के जमकर प्रयास हुए लेकिन किसी की नहीं चली। परख की कामयाबी के बाद सरकार ने विनोद दुआ को न्यूज वेब नामक दैनिक बुलेटिन सौंपा। भारत का यह पहला निजी बुलेटिन था। इसके भी पहले से लेकर अंतिम बुलेटिन तक विनोद दुआ के साथ मैंने काम किया। क्या धारदार बुलेटिन था। सरकारें कांपती थीं। विनोद दुआ ने पत्रकारिता की निर्भीकता और निष्पक्षता से कभी समझौता नहीं किया। न्यूज वेब के साथ बाद में ब्यूरोक्रेसी ने कुछ कारोबारी शर्तें रखीं। विनोद नहीं झुके और बुलेटिन की चंद महीनों में ही हत्या हो गई।

इसके बाद भी विनोद दुआ की पारी स्वाभिमान और सरोकारों वाली पत्रकारिता की रही है। दशकों से एनडीटीवी के डॉक्टर प्रणव रॉय के वह खास दोस्त थे। एनडीटीवी पर अपना खास बुलेटिन करते थे। इसके अलावा ‘जायके का सफर’ भी उनकी बड़ी चर्चित श्रृंखला थी। उसमें भी उन्होंने अपने पत्रकारिता धर्म से कोई समझौता नहीं किया। एक रात कुछ बात हुई और एक झटके में विनोद ने एनडीटीवी को सलाम बोल दिया।

न्यूजट्रैक, ऑब्जर्वर न्यूज चैनल और सहारा चैनल से भी उन्होंने कुछ ऐसे ही अंदाज में विदाई ली। पत्रकारिता के मूल्यों को उन्होंने कभी नहीं छोड़ा, लाखों की नौकरियां पल भर में छोड़ते रहे।

विनोद दुआ के नेतृत्व में टीवी में आए थे रजत शर्मा

कम लोग यह जानते हैं कि ‘इंडिया टीवी’ के सर्वेसर्वा रजत शर्मा ने विनोद दुआ के नेतृत्व में ही टीवी की पारी शुरू की थी। टीवी का ककहरा रजत शर्मा ने परख में ही सीखा था। वह पंजाब और हरियाणा से रिपोर्टिंग करते थे और मैं मध्य प्रदेश (उन दिनों छत्तीसगढ़ नहीं बना था) महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तर प्रदेश से रिपोर्टिंग करता था। आज जो लोग विरोध कर रहे हैं, वे रजत शर्मा से विनोद दुआ की पत्रकारिता के बारे में पूछ सकते हैं। जाने माने पत्रकार और संपादक रहे दिलीप पडगांवकर आज इस दुनिया में नहीं हैं मगर उन्होंने भी विनोद दुआ के दफ्तर में बैठकर टीवी की बुनियादी बातें जानी थीं। बाद में उन्होंने अपनी टीवी कंपनी बनाई, जिसने दूरदर्शन पर लोकप्रिय ‘सुबह सवेरे’ कार्यक्रम प्रारंभ किया था।

यह भी लोग नहीं जानते कि परख की टीम में संघ और बीजेपी की नब्ज समझने वाले विजय त्रिवेदी शामिल थे, तो वामपंथ की ओर झुके मुकेश कुमार भी थे। लेकिन पत्रकारिता के दरम्यान कभी वैचारिक प्रतिबद्धताएं आड़े नहीं आईं।

गायक भी हैं विनोद दुआ

अंत में बता दूं कि खाने-पीने के शौकीन विनोद दुआ बहुत अच्छे गायक भी हैं। पुरानी फिल्मों के गीत जब वह और उनकी दक्षिण भारतीय डॉक्टर पत्नी डूबकर गाते हैं तो सुनने वाले दंग रह जाते हैं। यह पीड़ादायक है कि अपने ही देश में पत्रकारिता के इस महानायक के साथ यह बर्ताव हो रहा है। विनोद दुआ यूरोप या पश्चिम के किसी देश में होते तो देवता की तरह पूजे जाते। जैसे कि कार्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण को संसार भर के कार्टूनिस्ट एक देवता जैसा मानते हैं और अपने देश में ही लक्ष्मण गुमनामी में खोये रहे और इस संसार से विदा हो गए। लेकिन हम भारतीय इतने कृतघ्न हैं कि अपने इन हस्ताक्षरों का उपकार मानना तो दूर, उन्हें व्यर्थ के विवादों में उलझाते हैं। किसी को उत्तर देना है तो विनोद दुआ के आंकड़ों और जानकारी को झूठा साबित करके बताए। इससे अधिक मैं क्या कहूं।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram