ट्रम्प बंकर राष्ट्रपति है..

Desk

-नारायण बारेठ।।

उसे मास्क से परहेज था
क्योंकि मुँह छुप जाता है
लेकिन वक्त ने पलटा खाया ,
उसे बंकर में छिप कर पनाह लेनी पड़ी


अभी फ़्रांस में मैक्रॉन राष्ट्रपति है ,वे बैंकर है
अमेरिका में अब एक ‘बंकर राष्ट्रपति’ है !
अमेरिका में जगह जगह हिंसा हो रही है ,कर्फ्यू निस्तेज हो गया है
लोग सड़को पर है ,लेकिन ट्रम्प के शिकन तक नहीं है। अब भी वे प्रदर्शनकरियो को फौज उतारने की धमकी दे रहे है।
वाइट हाउस लॉक डाउन में है। विरोध में हुजूम जमा है। राष्ट्रपति को लगा एक ऐसी फोटो जाये जिसमे लगे सब कुछ सामान्य है। पड़ोस में सेंट जॉन चर्च है। अमेरिकन राष्ट्रपति वहां जाते रहे है। मगर मार्ग में

प्रदर्शनकारी जमा थे। पुलिस ने आंसू गैस छोड़ी, रबर की गोलिया दागी। ताकि ट्रम्प का रास्ता निरापद हो जाये। ट्रम्प चर्च तक तक गए। हाथो में बाइबल,भावशून्य चेहरा। इस पर तीखी प्रतिक्रिया हुई।
वाशिंगटन की बिशप मरियन कहती है ‘ यह बहुत दुखद है। लोगो पर बल प्रयोग किया गया। वाइट हाउस ने इतनी शिष्टता भी नहीं दिखाई कि उन्हें फोन करते। सिर्फ फोटो के लिए ऐसे करना ठीक नहीं है। फादर एडवर्ड बेक एक अख़बार से कहते है ‘ क्या कभी पहले भी किसी को ऐसे धूर्तता से बाइबल का इस्तेमाल करते देखा है।


डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बाइडन ने कहा ‘ ट्रम्प को बाइबल नहीं ,सविंधान का फर्स्ट अमेंडमेंट पढ़ने की जरूरत है। बहुत दुःख की बात है ,वे अपने लोगो पर फौज उतारने की बात कर रहे है। ट्रम्प को किसी की परवाह नहीं है। डेमोक्रेटिक उनके विरोधी है। ट्रम्प कहते है ‘ सिर्फ वो ही डेमोक्रेटिक डेमोक्रैट अच्छा हो जाता है जो दिवंगत हो गया।
कमला हैरिस कहती है बहुत अफ़सोस की बात है ट्रम्प ने फ्लॉयड के साथ हुई घटना पर एक शब्द नहीं कहा। कमला भारतीय मूल की है। मियामी और न्यूयॉर्क में पुलिस को जरूर अहसास हुआ कि उनके साथ ने गलती की है। पुलिस वाले बावर्दी में अवाम के सामने घुटनो पर बैठे और रंज जाहिर किया। पर ट्रम्प इन सबसे अब भी बेखबर है। अफ बी आई के मुताबिक अमेरिका में पिछले कुछ सालो में हेट क्राइम यानि नफरत से जुड़े अपराध बढ़े है। 2018 में ऐसी 4571 घटनाये हुई है।
अमेरिका में जगह जगह ‘ सांस नहीं ले पा रहा हूँ ‘ की तख्तियां लिए लोग विरोध कर रहे है। क्योंकि जब पुलिस ने घुटनो में फंसा कर अश्वेत फ्लॉयड को मारा था ,यही उसके आखिरी शब्द थे। साथ ही अश्वेत की जिंदगी भी मायने रखती जैसे नारे गूंज रहे है। भारतीय मूल के कई बड़े नाम है ,जो इस नारे का साथ देने खड़े हुये है। ट्रम्प ने मारे गए युवक के भाई को फोन किया। उसके भाई ने मीडिया से कहा ‘ बेकार। वो खुद ही बोलते रहे। मैं क्या कहना चाहता हु ,एक नहीं सुनी। द गेट कीपर्स के लेखक क्रिस कहते है ‘ वाइट हाउस में ऐसा कोई नहीं है जो उन्हें सच बता सके।


ट्रंम्प अमेरिका के 45 वे राष्ट्रपति है। जॉर्ज वाशिंगटन पहले राष्ट्रपति थे। वो कहते थे ‘ अगर तुम्हे अपनी प्रतिष्ठा से प्यार है तो कभी बुरी संगत में मत रहे। बेशक तन्हा रहना पड़े। लेकिन अब उसी धरती पर ट्रम्प है और उनकी संगत है। लिंकन 16 वे राष्ट्रपति थे। राजनीतिक विज्ञानी और लोकतंत्र प्रेमी आज भी लिंकन को पढ़ते है। उनके शब्दों में ‘ “Nearly all men can stand adversity, but if you want to test a man’s character, give him power’ विपरीत हालात में सभी खड़े रह सकते है। मगर इंसान का चरित्र का देखना चाहते हो तो उसे सत्ता दे दो। जैफरसन तीसरे राष्ट्रपति थे। वे पते की बात कह गए। बोले ‘ ताकत का जितना कम प्रयोग करोगे ,उतना ही उत्थान होगा। शक्ति के साथ विवेक भी समृद्ध होते रहना चाहिए।


ट्रम्प की निगाहे इस साल होने वाले चुनाव पर है। कदाचित उन्हें लगता है ‘ वाइट सुप्रीमेसी ‘ श्वेत अश्वेत में धुर्वीकरण मदद कर दे। ट्रम्प हो सकता है फिर से जीत भी जाए। मगर स्व वाजपेयी कहते थे ‘ छोटे मन से कोई बड़ा नहीं होता ,टूटे मन से कोइ खड़ा नहीं होता।
यह इत्तेफाक है दो दिन पहले ही कुमार शिव साहब ने अपने भावो को शब्दों में यूँ बांधा –
ऊँची करके एड़ियाँ क़द ऊँचा ना होय
छूता है आकाश वो झुकता है जो कोय !
कोई पद बड़ा हो सकता है लेकिन यह कद बड़ा होने की जमानत नहीं दे सकता।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

आत्मनिर्भर भारत का ई मन्त्र..

कोरोना के मरीजों की संख्या देश में दो लाख के करीब जा पहुंची है, लेकिन देश के प्रधानमंत्री का कहना है कि कोरोना से लड़ने के लिए हमने सही समय पर सही कदम उठाए हैं। इस कारण लॉकडाउन का भारत को फायदा हुआ है। आज सीआईआई (कन्फेडेरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री) […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: