3 लॉकडाउन से भी क्या हासिल हुआ.?

Desk
0 0
Read Time:6 Minute, 9 Second

-विष्णु नागर।।

इस वाले लाकडाउन के अब सात दिन बचे हैं। मेरे खयाल से अब लाकडाउन और कोरोना से होनेवाले लाभ- हानि का आंशिक विवेचन का समय आ चुका है। गरीबों पर लाकडाउन में क्या बीती, मजदूरों-किसानों, पटरी पर सामान बेचनेवालों, छोटे व्यापारियों, सड़क के रास्ते हजारों किलोमीटर चल कर अपने घर पहुँचने का हौसला रखने वालों के साथ क्या बीती, ये सब मामूली बातें हैं। ये इस आकलन में नहीं आतीं।मोदीजी का कहना है,’न्यू इंडिया’ बनाना है,तो इनकी तरफ से मुँह -आँख- सब मोड़ना है, योग करके खुश रहना है।आँँखें मूँदकर उनके पीछे -पीछे चलना है। सवाल पूछने की गंदी आदत से छुटकारा पाना है।भक्तिभाव बढ़ाना है। मोदी- मोदी करना है। ये वोटर हैं और अगला चुनाव अगर होना है तो अभी वह बहुत दूर है। हाँ बड़े- बड़े पूँजीपतियों, मॉलवालों, फिल्मवालों का कितना नुकसान हुआ,यह राष्ट्रीय चिंता एवं चिंतन का विषय है। यही बनाएँगे- ‘ एमडीएच वाला ‘असली न्यू इंडिया’।ये वोटर तो हिंदुत्व के खिलौने हैं।जब चाहेंगे, इनसे जैसा चाहेंगे, खेल लेंगे,बेच देंगे,तोड़ देंगे।

हाँ इस देश के प्रधानमंत्री का क्या नुकसान, इस पर विचार करना आवश्यक है।इस बार तो हम उन्हें हुए नुकसान का आकलन भी सम्यक रूप से नहीं कर पाएँँगे,तो उन्हें हुए लाभ की बात क्या करें!सबसे पहले दिन में अट्ठारह-अट्ठारह घंटे काम करने की उनकी क्षमता का इस बीच सदुपयोग नहीं हो सका है और न अभी इसकी संभावना है।इसका हमें भारी खेद होना चाहिए।सच्चे ‘देशभक्त’ की यह सबसे बड़ी पहचान है और मैं देशभक्त हूँ,इसलिए मुझे केवल खेद नहीं हुआ बल्कि गहरा सदमा भी लगा।इस सदमे को मैंं झेल कैसे गया, यह मैं ही जानता हूँ।मोदी मंत्र ने ही इसे सहनीय बनाया है।

उनका और देश का दुर्भाग्य कि इस बीच सौ से भी अधिक दिनों से वह विदेश यात्रा पर नहीं जा सके हैं।यह अपने आप में इतना बड़ा और इतना शोचनीय रिकार्ड है कि वह स्वयं भी इस पर चकित हैं और अपने भाग्य को कोस रहे हैं।कोरोना की समस्या भारत तक सीमित होती तो चिंता की कोई बात नहीं थी मगर यूरोप -अमेरिका की हालत खस्ता हो गई, यह अधिक दुखद है।गर्मियाँ आ चुकी हैं, लपक कर विदेश यात्राएँ करने का मौसम आ चुका है और वह इस देश में बंदी बने बैठे हैं!यह मौसम,यह कोरोना, देश- भाषण यात्रा के लिए भी बेहद अनुपयुक्त है वरना यहाँ स्वागत-सत्कार से कुछ भरपाई हो जाती।विधि की विडंबना देखिए कि उन्हें हमारे बीच रहना पड़ रहा है। यह कलेजा चीर देनेवाली बात है।विदेश जाने की संभावना अभी दूर दूर तक नजर नहीं आ रही।यूरोप-अमेरिका मंगल ग्रह बन चुके हैं । एसी में उनकी साँसें घुट रही हैं।उधर विशेषज्ञ कह रहे हैं कि कोरोना के चलते एसी से भी दूर रहो।बड़ी आफत है!उनके सामने ऐसी विपत्ति कभी नहीं आई।उनकी इस विवशता को कोई संवेदनशील व्यक्ति तो देख भी नहीं सकता और मैं वह हतभाग्य हूँ कि यह सब देख- सह रहा हूँ।धरती फटती भी नहीं कि मैं उसमें समा जाऊँ!

आप्रवासी भारतीय वहाँ मोदीजी को सुनने- देखने के लिए जब तरसा करते हैं,तब बेचारे वहाँ मौत के खतरे से जूझ रहे हैं। इधर ह्रदय उनके पास जाने को आकुल- व्याकुल है,उधर नो एंट्री का बोर्ड लगा है।वो भी क्या दिन थे कि उन्हें सुनने के लिए बड़े- बड़े स्टेडियम भर जाते थे।आएँगे वे अच्छे दिन भी।कोरोना का सर्वनाश हो।इसने विशेषकर भारत -अमेरिका संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के लिए एक बार वहाँ जाकर ‘अगली बार,ट्रंप सरकार’ का नारा लगाने की दिली इच्छा से उन्हें वंचित कर दिया है।एक नुकसान यह भी हुआ है कि विदेश यात्राएँ करके आपसी संबंधों को हानि पहुँचाने की संभावनाओं पर भी इधर पानी फिर चुका है।

लंबे लाकडाउन से प्रधानमंत्री की भाषण देने की क्षमता पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा होगा शायद।राष्ट्र के नाम संदेश देने और मन की बात कहने से उसकी क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती। यह कहना छोटे मुँह बड़़ी बात होगी कि अधसर मिले तो मैं भी संदेश -फंदेश देने जैसे काम कर सकता हूँ मगर भाषण देना-वह भी मोदीजी जैसा-असंभव है। चार- पाँच महीने तक उनकी इस क्षमता का समुचित उपयोग नहीं हो पाया तो पता नहीं उनका,देश का और विदेश का क्या हो! एक डर यह है कि इतने लंबे अरसे तक भाषण न दे पाने का असर उनके फिटनेस पर भी पड़ सकता है।उम्मीद है कि वह आईने के सामने भाषण देकर इसकी क्षतिपूर्ति कर लेते होंगे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

राष्ट्रवाद के जमाने में सेना का विमान और तानाशाही

-संजय कुमार सिंह।।आपको याद होगा कि कैंसर से हार गए शौर्य चक्र विजेता कर्नल नवजोत सिंह बल को बंगलूर में अंतिम विदाई देने के लिए उनके बूढ़े माता-पिता को कार से दिल्ली से बंगलौर की यात्रा करनी पड़ी। बेशक इसे लंबे समय तक याद किया जाएगा। नवजोत का निधन 9 […]
Facebook
%d bloggers like this: