Home देश भोपाल में एम्स के दो डॉक्टर्स को पुलिस ने पीटा..

भोपाल में एम्स के दो डॉक्टर्स को पुलिस ने पीटा..

-पंकज चतुर्वेदी।।

भोपाल में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के दो डॉक्टरों को पुलिस ने लाठियों से पीट डाला। इनमें एक महिला डॉक्टर भी शामिल है। बुधवार शाम करीब 6.30 बजे इमरजेंसी ड्यूटी के बाद घर जाते समय पुलिस ने उनकी पिटाई की। मामला सामने आने के बाद डीआईजी ने एक कॉन्स्टेबल को लाइन अटैच कर दिया है

डॉ. रितुपर्ना और डॉ. युवराज सिंह ने डायरेक्टर को की गई शिकायत में कहा कि बुधवार शाम को वे अपनी शिफ्ट पूरी करने के बाद एम्स के गेट नंबर एक से बाहर निकल रहे थे। उसी समय गेट के पास तैनात पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोककर अभद्र भाषा में बाहर घूमने का कारण पूछा। इस पर दोनों डॉक्टर्स ने उन्हें अपने पहचान पत्र दिखाए और अस्पताल से ड्यूटी खत्म होने के बाद घर जाने की बात कही। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने उनसे मारपीट शुरू कर दी और गाली-गलौज करते हुए कहा- ऐसे डॉक्टर ही कोरोना फैला रहे हैं और देश का बंटाढार कर रहे हैं।


भोपाल की बाग सेवनिया पुलिस का कहना है कि लॉकडाउन के बावजूद, एम्स के पास कुछ दुकानें खुलने और सामान खरीदने के लिएभीड़ मिलने पर पुलिस ने लोगों को खदेड़ा था। इसी दौरान कुछ लोगों को चोट पहुंची होंगी। पुलिस का यह भी कहना है कि संबंधित डॉक्टर अपनी परिचित के साथ बगैर मॉस्क के सामान खरीदने दुकान पर गए थे। जबकि डॉक्टरों का कहना है कि वे मॉस्क लगाए हुए थे। गुरुवार को मामला सुर्खियों में आने के बाद डीआईजी इरशाद वली ने आरोपी कॉन्स्टेबल को लाइन अटैच कर दिया।

पुलिस की मारपीट में डॉ. रितुपर्ना के पैर और डॉ. युवराज सिंह के हाथ में चोट आई। इसके बाद भोपाल एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन (आरडीए) ने घटना को लेकर नाराजगी जताई। संगठन ने डायरेक्टर को लिखे पत्र में कहा- डॉक्टर्स मुश्किल हालात में काम कर रहे हैं। ड्यूटी से घर जा रहे दो डॉक्टर्स से मारपीट करने वाले पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की जानी चाहिए। पुलिस का गैरजिम्मेदार व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
यह खबर बस इशारा है कि पुलिस द्वारा नाजायज बल प्रयोग पर यदि खुश होंगे तो अगले दिन आपको भी वर्दी वाले सड़क पर कोहनी के बल घिसटने पर मजबूर करेंगे।

Facebook Comments
(Visited 5 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.