देश के हाई प्रोफाइल VVIP और सोशल डिस्टेंसिंग..

Desk

-विष्णु नागर।।

कल्पना करने के अपने मजे हैं। फिलहाल 15 अप्रैल तक सोशल डिस्टेंसिंग में हूँ । कामवाली बाई को हमने सवैतनिक अवकाश दे दिया है और मिलजुलकर हम काम कर रहे हैं।इतनी ‘गलती’ जरूर कर रहे हैं कि इसकी न सेल्फी ले रहे हैं, न एकदूसरे का काम करते हुए फोटू मोबाइल से ले रहे हैं- ‘हिंदी का एक पत्रकार घर की झाड़ू लगाते हुए’।’ हिंंदी का एक कवि पोंछा मारते हुए।’

इस सबसे फुर्सत मिलती है तो कुछ शैतानी कल्पनाएँ करने लगता हूँ। मसलन ये कि हमारी तरह हमारे प्रधान सेवक जी ने भी सोशल डिस्टेंसिंग के हित में अपने नौकरों- चाकरों को छुट्टी दे दी है। अब वह अकेले हैंं और 15-20 कमरों का बंगला है।समस्या यह है कि योग करें या बंगले की झाड़ू -पोंछा करें? अकेले हैं तो उनकी प्राथमिकता झाड़ूपोंछा है। वही उनका योग और व्यायाम है। समस्या यह भी है कि पूरे बंगले का झाड़ू- पोंछा लगाएँ तो शाम इसी में हो जाएगी। तब राष्ट्र के नाम संबोधन करने, ट्विटर के लिए समय नहीं मिलेगा। इसलिए दो-तीन कमरे तक खुद को सीमित रख रहे हैंं। इतने में ही कमर दर्द करने लगती है।

हिम्मत चाय बनाने की भी नहीं बची है मगर कमर दर्द सहकर भी बना रहे हैंं। खैर चाय बेची है, पिलाई है तो चाय बनाना अब भी उन्हें आता है, ऐसी उनकी कल्पना है मगर कभी दूध अधिक पड़ जाता है, कभी चाय, कभी चीनी। खैर जैसे -तैसे, जैसी- तैसी चाय बन जाती है। बदकिस्मती यह है कि चाय भी खुद बना रहे हैं और पी भी खुद रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग करनी है तो चाय पीने किसी को बुला भी नहीं सकते। पूछ नहीं सकते कि क्यों भैया या बहन जी,चाय बढ़िया बनी है न?वैसे प्रधानसेवक को मालूम है कि कोई यह कहने का खतरा नहीं उठाता कि अच्छी नहीं बनी है, जबकि वाकई बहुत खराब बनी है। फिर भी खराब चाय की झूठी तारीफ़ सुनने की हूक उनमे उठ रही है। यही नहीं चाय बनाते हुए और पीते हुए न सेल्फी ले पा रहे हैं, न किसी से कह पा रहे हैं कि फोटो ले लो। जनता का भी नुकसान हो रहा है। वह प्रधान जी को चाय बनाते और पीते देख नहीं पा रही है।

प्रधान सेवक का यह सीन यहीं कट कर देते हैं। ब्रेकफास्ट में खिचड़ी बनाकर लंच और डिनर में भी वही खाकर दिन गुजार रहे हैं। अपनी प्रिय से प्रिय चीज तीन हफ्ते तक तीनों बार खाने की कल्पना ही दहशतनाक है मगर सवाल उनके सामने देश का और अपनी यानी जान का है। अब उन्हें छोड़ कल्पना कीजिए अमित शाह की। उनकी श्रीमती जी ने उन्हें टेबल- कुर्सी, सोफे की धूल पोंछने की जिम्मेदारी दी है और डायनिंग टेबल पर लगे दाग- धब्बे की छुड़ाने की भी। उन्हें लंच के लिए कढ़ी-चावल भी बनाना है। बेटा कह रहा है पप्पा जी आपका फोटू लेकर ट्विटर पर डाल दूूँ? पप्पा जी कह रहे हैं , पहले मोदीजी के ट्विटर अकाउंट देख। उन्होंने अपनी फोटो लगाई है? नहीं लगाई हो तो फिर तू रहने देना।

उधर राजनाथ सिंह का मन बहुत दिनों बाद नाश्ते में छोले- कुल्चे खाने का हो रहा है। श्रीमती जी से कहा, तो उनका जवाब आया-‘इस उम्र में ये सब चीजें? महाराज आया नहीं है। आता हो तो खुद बना लो। वैसे भी आज का नाश्ता बनाना तुम्हीं को है।’ अंततः उन्होंने मन मारकर सैंडविच बनाए।श्रीमती जी इससे नाखुश हैं मगर क्या करें,अपने ही जाल में फँसी हैं। राजनाथ जी मुस्कुरा रहे हैं, वे राजनाथ जी को आग्नेय नेत्रों से देख रही हैं। उधर नितिन गडकरी जी बगीचे में पानी दे रहे हैंं। उन्हें हलवा- पोहे बनाने की जिम्मेदारी भी मिली है। वह चाहते तो हैं कि ईमानदारी से इस दायित्व को भी मंत्रिमंडलीय दायित्व मानकर पूरा करें मगर..।
छोड़िए उन्हें। स्मृति ईरानी’सास भी कभी बहू थी’ सीरियल का स्मरण करते हुए कमर में पल्लू खोंसकर कपड़े धो रही हैं। पति जी कह रहे हैंं, डार्लिंग जी ये छोड़ो, मैं कर लूँगा। डार्लिंग कह रही हैं, अच्छा ऐसा? तो धो तुम लेना मगर फोटू मेरा खींच लो! मंत्रिमंडल की बैठक में मोदीजी को दिखाऊँगी कि देखिए सोशल डिस्टेंसिंग करके आपके आदेशों का अक्षरशः पालन कर रही हूँ। अब तो कपड़ा मंत्रालय से मेरा पिंड छुड़ाइए। मोदी जी मंद -मंद मुस्कुरा रहे हैं।

बाकी रहे सोनिया गांधी, राहुल गांधी, अखिलेश यादव वगैरह। मंत्री, सुप्रीम कोर्ट के जज, कैबिनेट सेक्रेटरी, राज्यों के मंत्री-मुख्यमंत्री, सांसद-विधायक, मुख्य सचिव, कलेक्टर आदि -आदि पर क्या गुजर रही होगी, इसकी कल्पना करने का दायित्व आप पर छोड़ता हूँ।bदो भूतपूर्व राष्ट्रपति भी हमारे बीच हैं। बस आडवाणी जी इस समय परम सुखी हैं।उनके बेटे -बेटी ने कह दिया है, पापा आप रहने दो।bआप मोदी की चुनौती का सामना नहीं कर पाए तो इसका क्या कर पाओगे? आप बैठो,सब हो जाएगा। आडवाणी जी मन ही मन कह रहे हैं-देख मोदी, तू सुखी है या मैं? मैं-मैं-मैं।वैसे मनमोहन सिंह जी भी सुखी हैंं। आडवाणी-मनमोहन सिंह की इस बीच गपशप भी खूब होने लगी है। दो दुखियों के सुख की गप्पें।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

यह अँधेरी सुरंग अंदाज से कुछ अधिक ही लम्बी रहेगी..

-सुनील कुमार।। दिल्ली से गावों की ओर लौटते मजदूरों की तो तस्वीरें पल-पल में आ रहीं हैं, वे दिल दहला रही हैं, लेकिन पिछले दो दिनों से उनके बारे में लिखने के बाद आज फिर उसी पर लिखना ठीक नहीं, अब से कुछ देर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोलने वाले […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: