कोरोना वायरस एक मार्केटिंग स्ट्रेटजी तो नहीं.?

admin

-रचित दीक्षित।।

कोरोना वायरस एक मार्केटिंग स्ट्रेटजी है, कारपोरेट फंडा है। विश्व की डूबती अर्थव्यवथा को तिनके का सहारा है। मेड इन चाइना का सबसे सबसे नया उत्पाद है। सच्चाई यह है कि यह वायरस उतना ही खतरनाक है जितना जुकाम का वायरस। कोरोना से कितने लोग मरे यह तो खबरों में है ही आप बाकी गूगल सर्च से पता कर लीजिये इसी बीच जुकाम से कितने लोग मरे हैं आप चौंक जाएंगे।

याद रखिये सबसे सफल बिजनेस डर का होता, सबसे खतरनाक संक्रमण भय ही है क्योंकि इसे फैलने के लिए 6 फ़ीट नजदीक आने की जरूरत भी नहीं होती। सोशल मीडिया और मुख्यधारा का मीडिया पूरी मेहनत से जुटा है इस डर की मार्केटिंग में। अरबों, खरबों डॉलर के मास्क बिक जाएंगे, सेनेटाइजर जैसे उत्पाद को भारतीय बाज़ार में हमेशा के लिए एक बूम मिल जाएगा, स्थापना मिल जाएगी। अभी सिर्फ शहरी जीवन में ही लोकप्रिय यह हाथ साफ करने वाला उत्पाद अब गाँव-कस्बों तक में घुस जाएगा और हमेशा के किये स्थापित हो जाएगा भारतीय समाज में। जल्द ही टीवी पर ऐड आने शुरू हो जाएंगे, अखबारों में इसके फायदों पर लेख आने लगेंगे और आप एक स्थायी नया उत्पाद अपने राशन में बढ़ा लेंगे। एक बिना जरूरत वाली पूरी इंडस्ट्री खड़ी हो जाएगी। दुनिया के सारे देश अपने बजट का कुछ हिस्सा इस वायरस के लिए भी लगाने लगेंगे। जिसका पैसा उस देश को जाएगा जिसने इस वायरस का डिटेक्टर पेटेंट कराया है। जी हाँ कोरेना वायरस के बारे में नया कुछ नहीं है। हम में से शायद ही कोई ऐसा हो जिसे कभी न कभी इस तरह के वायरस का संक्रमण न हुआ हो। फिर नया क्या है जो इतनी हायतौबा मची है, नई है वो डिवाइस हो हाल ही पेटेंट कराई गई है जिसकी मार्केटिंग लिये चीन ने अपने नागरिक मारे है कोरेना के नाम पर।कम्युनिस्ट चीन के लिये यह कोई बड़ी बात नहीं हम सब जानते हैं। हालांकि यह काम अमेरिका, रुस समेत बाकी देश पहले भी करते रहे हैं लेकिन इस बार हाथ चीन ने मारा है।

एक और बात खाली बैठी किसी फिल्मी हस्ती, किसी सेलेब्रिटी को अगर कोरोना वायरस हो जाएगा तो समझ जाइयेगा वो भारत में इसके ब्रांड अम्बेसडर बने हैं मोटी डील हुई है। याद करिए 2011 वर्ड कप का मैन ऑफ सीरीज प्लेयर 15 दिन बाद किमियोथेरेपी की लाइन में था, अपना पूरा कैरियर जी चुकी अभिनेत्री किमियो के लिए केशदान करके फ़ोटो सेशन कराती है। एक बड़ा अभिनेता किमियो के लिये देश से बाहर चला जाता है जिसके मरने तक कि अफवाह उड़ती है लेकिन मज़े की बात यह कि उसकी कोई फ़िल्म नहीं अटकती उसके बिजनेस पर कोई फर्क नहीं पड़ता।

इन शार्ट सब मोहमाया है। बीड़ी पिओ और स्वदेशी कैंसर से मरो वो बेहतर है। ( मजाक है)

अपना ध्यान रखें। साफ-सफाई रखें ज्यादा तनाव न लें। चीन यह चाहता भी नहीं है कि वो आपको कोरोना संक्रमण हो उसकी मासूम ख्वाहिश सिर्फ इतनी है की आप मास्क और सेनेटाइजर खरीद लें जो शायद आपने खरीद भी लिया होगा अबतक। बस बस हो गया काम।

बाकी ‘ए वेडनेसडे’ के नसिरुद्दीन शाह याद हैं न “राठौर साहब कोई मा—— ये तय नही करेगा की मेरी मौत कैसे होगी।”

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

उत्तर आधुनिक महाभारत के मायने :05 (दिल्ली हिंसा)

-चंद्र प्रकाश झा।। भारत के लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित सर्वप्रथम कम्युनिस्ट मुख्यमंत्री, ईएमएस नम्बूदरिपाद की लिखी एक किताब याद आती है।किताब का शीर्षक है: क्राइसिस इन टू केओस। यह शीर्षक भारत के मौजूदा उन हालात में बिल्कुल सटीक लगता है, जिनमें भारतीय संघ गणराज्य और उसकी राजसत्ता के संकटों के […]
Facebook
%d bloggers like this: