Home देश इस बार हज पर न जाएं मुस्लिम..

इस बार हज पर न जाएं मुस्लिम..

-ताबिश सिद्दीकी।।

मुझे नहीं पता कि मेरी ये बात कितने मुसलमान भाई मानेंगे.. मगर फिर भी कोशिश कर रहा हूँ

इस बार अगर आप हज/उमरह पर जाने वाले थे, तो उसे कैंसिल कर दीजिये.. जो एडवांस पेमेंट करी है आपने उसे वापस ले लीजिये.. ये वक़्त हज करने का नहीं है जब आपके आसपास हजारों लोगों के आशियाने उजड़ चुके हों

हज से भारत सऊदी को लगभग 5600 (पांच हज़ार छः सौ करोड़ रुपये) सऊदी को देता है.. ये किसी एक छोटे मोटे प्रदेश के बजट के बराबर की रकम है.. आप अगर चाहें तो दिल्ली में उजड़े अपने “भारतीयों” के आशियाने फिर से बसा सकते हैं.. ये बिलकुल भी बड़ी बात नहीं है.. आप जिस रकम से हज करने वाले थे वो सारी रकम किसी एक घर को बसाने के लिए कर सकते हैं

बस ध्यान ये रहे कि जब आप मदद दें तो आप “पीड़ित” का नाम न पूछें.. उसकी धर्म/जाति न पूछें.. क्यूंकि ऐसे ही लोगों ने “नाम” पूछ पूछ कर एक दूसरे को मारा है और अगर आप भी “नाम” पूछ कर ही मदद करेंगे तो ये उन्हें दुबारा मारने के बराबर है.. जो पीड़ित आपके सामने आये चुपचाप उसकी सहायता कर दीजिये.. “नाम” पूछ कर उन्हें और दर्द न दीजिये

मैं आने वाले कई महीनों अपने पर्सनल खर्चे कम करूँगा और पैसे बचाकर जितना कर पाऊं उतनी दिल्ली वालों की मदद करने की कोशिश करूंगा.. हम आप मिलकर कुछ ही दिनों में चाहें तो सबके आंसू पोछ सकते हैं

ये सबसे बड़ा हज होगा.. ये सबसे बड़ी इबादत होगी

Facebook Comments
(Visited 2 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.