धूर्तो के विरोध से भी ठग लेते मुर्खजन..

admin

-सत्य पारीक।।

फिल्मों से लेकर व्यक्ति विशेष का किसी भी मुद्दे पर विरोध करने वाले धूर्त लोग होने का खिताब पाये होतें है, जबकि विरोध का शिकार होने वाला भी कम धूर्त नहीं होता है। जिसका सीधा लाभ मूर्ख उठाते हैं और ठगी जाती है जनता भोली भाली , जो भेड़चाल की शिकार होती है। ऐसे कितने ही दृष्टांत भारत देश में देख सकते हैं, धूर्त्तता की बड़ी बातों पर गौर बाद में करेंगें , सबसे पहले ताजातरीन घटना फ़िल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ( जिसे  विवादों की रानी भी कहा जा सकता है ) की है जिसने अपनी नई फ़िल्म प्रमोट करने के लिए झगड़ा स्थल जे एन यू का भ्रमण किया ।

संयोग ऐसा बना कि एक तरफ जे एन यू में झगड़ा हुआ दूसरी तरफ निर्भया कांड के आरोपियों को फांसी की सज़ा के ब्लैक वारंट जारी करने के आदेश हुए।

उन्ही दिनों दीपिका अभिनीत फिल्म ‘ छपाक ‘ जो तेजाब फेंक कांड पर बनी है रिलीज़ के लिये तैयार हुई।

दीपिका के जे एन यू के पग फेरे को देख भाजपा वालों ने धूर्त्तता दिखाते हुए ऐलान कर दिया कि छपाक का विरोध किया जाएगा। कांग्रेस वाले कौनसे कम धूर्त हैं, उन्होंने तपाक से जवाब ठोक दिया कि हमारी पार्टी द्वारा प्रशासित राज्यों में छपाक टैक्स फ्री होगी , ऐसे में फ़िल्म देखने वाले मुर्खजन धड़ाधड़ फिल्म की और बढ़ने लगे और फ़िल्म के साथ दीपिका पादुकोण रातों रात चर्चित हो गई ।

 ऐसे ही दीपिका की फ़िल्म ‘ पद्मावती ‘ की धूर्तो ने विरोध कर उसका नाम पद्मावत करा कर सैंकड़ो करोड़ से फ़िल्म की कमाई करा दी। अब जरा राजनीतिक धूर्तताओं पर ध्यान दीजिए। नरेंद्र मोदी ने चुनावों में धूर्तता की सारी सीमा लांगते हुए मूर्ख जनता के सामने वायदे की आड़ में जुमले परोसे परोसे , जिनमें काला धन आएगा , 15 लाख प्रत्येक व्यक्ति के खाते में , अच्छे दिन , एक के बदले पाकिस्तानियों के दस सिर , छप्पन इंच की छाती जैसे धूर्त बातें कही बस झांसों में आकर मुरखजन लूट गये , ऐसी कितनी ही राष्ट्रीय स्तर की धूर्तताओं की चर्चा की जाए जिससे भाजपा राजनीति में बल्ले बल्ले करा रही है और मुरखजन ठगे जा रहें हैं ।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष..

-राजीव मित्तल।। बात को आगे बढ़ाने से पहले कुछ बताना चाहता हूं..जनसत्ता चंडीगढ़ में रहते संपादकीय में अनुज गुप्ता की आमद हुई..बंदा मध्यप्रदेश के नवभारत का दिल्ली संवाददाता रह कर आया था.. लेकिन ज़्यादा रुका नहीं और पुरानी जगह लौट गया..कुछ साल बाद मिला दिल्ली में बड़े ठाठ के साथ..चकाचक […]
Facebook
%d bloggers like this: