बच्चे मर रहे थे और चिकित्सा मंत्री टेंडर घोटाले में व्यस्त थे..

-सुरेंद्र ग्रोवर।।

कोटा के जेके लोन अस्पताल जिस वक्त लगातार बच्चे मरने की खबरें आ रही थी तब राजस्थान के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा कोटा पहुँच हालातों पर काबू पाने की जगह एक कंपनी को चिकित्सा विभाग में सेनेटरी पेड का ठेका दिलाने मेँ जुटे थे। चिकित्सा विभाग में इस साल का यह सबसे बड़ा ठेका कोई 240 करोड़ रुपये का था

नाम न बताने की शर्त पर विभाग के एक बड़े अधिकारी से खबर मिली है कि जब कोटा में बच्चे मर रहे थे, तब मंत्री जी और विभाग राजस्थान सरकार का सबसे बड़ा टेंडर सेटल करने में लगे थे। करीब 240 करोड़ के टेंडर की टेक्निकल बिड 30 दिसम्बर को निकाली गई और 31 को फाइनेंशियल बिड हुई।

कहा तो यह भी जा रहा है कि सेनेट्री नेपकिन के इस टेंडर में अपनी पसंदीदा कंपनी को फायदा देने के लिए मंत्री महोदय ने टेंडर अपलोड होने की प्रक्रिया के दौरान ही नियम बदलवा दिए थे। बड़ी खबर है यह भी है कि रघु शर्मा इस 240 करोड़ रुपये के ठेके को सुचारू रूप से निपटान करवा भुगतान करवाने के लिए चिकित्सा विभाग में अपने किसी खास अफसर को लगवा इस घोटाले मूर्त रूप देने में लगे रहने से समय पर कोटा नहीं गया!

,

Facebook Comments
Share This

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )