मुल्ला नसरुद्दीन और मोदी जी..

admin

-विष्णु नागर।।

मुल्ला नसरुद्दीन का नाम पहले सिर्फ़ नसरुद्दीन हुआ करता था। कुछ उसे प्यार से नसरू और कुछ मियां नसरुद्दीन कहा करते थे। नसरुद्दीन को लेकिन मुल्ला नसरुद्दीन बनने से बहुत पहले ही रोज -रोज नये -नये किस्से गढ़ने का बहुत शौक था बल्कि नशा- सा था। ताजा राजनीतिक हालात को वह फौरन किस्से में बदल देता था।

मोदी जी उस समय भी थे और प्रधानमंत्री ही थे। भारत के थे या नहीं,यह तो मोदी जी को भी याद नहीं मगर कहीं के थे जरूर, इतना उन्हें याद है।

मोदी जी को लगता था कि यह नसरुद्दीन मेरे खिलाफ रोज किस्से गढ़ता रहता है। तब इंटरनेट, टीवी,फेसबुक वगैरह तो कुछ था नहीं, नसरुद्दीन के किस्सों पर प्रतिबंध लगाने और ‘देश की सुरक्षा’ के साथ नसरुद्दीन की इस ‘छेड़छाड़’ को रोकने का उपाय भी नहीं किया जा सकता था। नसरुद्दीन एक जगह एक किस्सा सुनाता और वो कानोंकान एक से दूसरे तक पहुंचता चला जाता और लोग आनंद लेते,हँसते-हँसते लोटपोट हो जाते।दूसरे भी देखादेखी उतने ही बढ़िया किस्से गढ़ने लगे और वे किस्से भी नसरुद्दीन के नाम से मशहूर होने लगे।

मोदी जी इससे बहुत परेशान हो गए। उन्होंने अमित शाह, आदि जैसे शीर्ष नेताओं की बैठक बुलाई।

अगले दिन भाजपा (तब भी भाजपा थी। कहाँ थी, यह मोदी जी को भी अब याद नहीं ) की रैली में मोदी जी ने नसरुद्दीन को चिढ़ाने और अपनी पापुलरिटी बढ़ाने के लिए ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ करते हुए नसरुद्दीन के आगे मुल्ला शब्द भी जोड़ दिया। यह वाली ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ उनकी बुरी तरह फेल हो गई। मोदी जी के नसरुद्दीन को मुल्ला नसरुद्दीन बनाने से उसकी लोकप्रियता दिनदूनी और रात चौगुनी बढ़ गई। मोदी जी के दिए ‘मुल्ला’ शब्द को तोहफा मानते हुए खुद उसने अपने नाम के आगे मुल्ला शब्द लगाना शुरू कर दिया और वह मुल्ला नसरुद्दीन हो गया, बल्कि इससे उसकी इज्जत में इतना इजाफा हो गया कि लोग उसका आदर करने लगे। उसे उसे की बजाय उन्हें कहने लगे। मुल्ला नसरुद्दीन कहने लगे।

मुल्ला नसरुद्दीन ने एक और समझदारी दिखाई, बदले की कार्रवाई नहीं की। उसने मोदी जी के आगे पंडित शब्द नहीं जोड़ा।

तब से नरेन्द्र मोदी तो आतेजाते रहते हैं मगर मुल्ला नसरुद्दीन कहीं नहीं जाते। जहाँ -जहाँ मोदी जी प्रधानमंत्री या उस जैसे कुछ बनते हैं,वहाँ- वहाँ मुल्ला नसरुद्दीन बिना वीसा लिए आकाश मार्ग से पहुंच जाते हैं।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

संघ के एजेंडे को लागू करना विकास नहीं विनाश..

-सत्य पारीक।। 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद देश के शासन की बागडोर अघोषित रूप से संघ के निर्देश पर गृह मंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के हाथों में हैं, जो देर सवेर मोदी का स्थान लेने वाले हैं। जब ऐसा होगा तब मोदी को मार्गदर्शक मण्डल […]
Facebook
%d bloggers like this: