धारा 144 जमानती अपराध है लेकिन पुलिस बना रही पोस्टर बॉय..

admin

-पंकज चतुर्वेदी।।

बीस दिसम्बर को देश के कई हिस्सों के साथ गाज़ियाबाद में हुयी दुर्भाग्यपूर्ण अशांति अब यहाँ की पुलिस के लिए सोने का अंडा देने वाली मुर्गी बन गयी है , जिले के विभिन्न थानों में दर्ज सात एफ़आईआर में कोई सात सौ नामज़द और कई हज़ार अज्ञात लोग दर्ज कर लिए गये हैं।

उस दिन के प्रदर्शन में पुलिस के अलावा पत्रकारों द्वारा खींचे फोटो और वीडियो से लोगों के चित्र बना कर उन्हें फरार घोषित किया जा रहा है। पसोंडा गाँव में पुलिस ने कई घरों में तोड़ फोड़ की , लूटा, सीसीटीवी कैमरे तोड़े।

एक बात और पुलिस हिरासत में गए लोगों में कई हिन्दू भी हैं, कई अल्प आयु भी और बहुत से बूढ़े भी — पुलिस शाम को पकडती है, रात भर मारती है- न खाना- ना पानी और ना ही कडाके की ठण्ड से बचने के उपाय – जिसके घर से माल आ गया उसे छोड़ दिया , गरीब जेल भेजे जा रहे हैं — आतंक इतना है कि किशोर- युवा घर छोड़ कर भागे हुए हैं।
हालांकि मद्रास हाई कोर्ट के एक फैसले के अनुसार पुलिस किसी को शक के आधार पर मुजरिम घोषित कर उसका फोटो नहीं चस्पा आकर सकती, एक बात और क्या किसी विरोध प्रदर्शन में शामिल होने और हिंसा करना एक ही बात है ?

पुलिस तो प्रदर्शन में शामिल सभी लगों के फोटो लगा कर गैर क़ानूनी काम खुद कर रही है – लोगों को मारना, साम्प्रदायिक गाली देना, घर से सामन लूटना और तोड़ फोड़ करना — यह तो जाहिर है किसी कानून में दर्ज है ही नहीं।
इसका जवाब किसी अफसर के पास नहीं कि- किसी प्रतिरोध में शामिल होने पर किस धारा के तहत मामला दर्ज़ हो रहा है ? महज दफा १४४ तोड़ने का ? यह तो जमानती है ? महज प्रदर्शन में शामिल होने को तोड़ फोड़ में शामिल मान लेना भारतीय नागरिकों के संवैधानिक अधिकार का हनन है।

काश: उस दिन शान्ति से प्रदर्शन में शामिल सारे लोग एक साथ, अपने हाथ पीछे बाँध कर थानों में पहुँच जाएँ– काश जिन लोगों के फोटो पुलिस चिपका रही है, यदि वे खुद एक साथ थाणे जाएँ और सवाल करें कि हम तो नारे लगा रहे थे, हमने कहाँ हिंसा की ??
बहरहाल “अज्ञात ” लोगों की इतनी बड़ी संख्या गाज़ियाबाद पुलिस को इतनी जाड़े में भी जम कर गर्मी का अहसास करवा रही है , जुम्मे की नमाज़ शान्ति से निकले इस लिए गुरूवार और शुक्रवार के दिन में पुलिस ने मुस्लिम मुहालों में उधम नहीं काटा — वरना यह उनका प्रिय शगल बन गया है —
गाजियाबाद जिले में दर्ज मामले, उनमें ज्ञात और अज्ञात की संख्या और पुलिस द्वारा घोषित नाम – इनमें पसोंडा के समाजवादी पार्टी के नेता के शामिल होने पर सपा ने कल पुलिस को ज्ञापन भी दिया है कि इस नाम का उनका कोई नेता नहीं है

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

लालू यादव: चारा, बेचारा और सियासत..

अंग्रेजी अखबार के वरिष्ठ पत्रकार ए जे फ़िलीप का लालू के नाम पत्र प्रिय श्री लालू प्रसाद यादव जी, मैं भारी मन से आपको यह चिट्ठी लिख रहा हूं. मुझे यह तक नहीं मालूम कि यह चिट्ठी रांची जेल में, जहां आप अभी बंद हैं, आपको मिल भी पायेगी या […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: