Home मीडिया पुलिस वालों द्वारा राहजनी के संकेत मिलते हैं विवेक तिवारी की हत्या के पीछे

पुलिस वालों द्वारा राहजनी के संकेत मिलते हैं विवेक तिवारी की हत्या के पीछे

-सुरेंद्र ग्रोवर॥

लखनऊ में हुई विवेक तिवारी की हत्या न तो फेक एनकाउंटर है और न ही सेल्फ डिफेन्स में चलाई गई गोली से हुई मौत. इस मामले को ग़ौर से देखने  पर पता चलता है कि मामले के पीछे कुछ पुलिस वालों द्वारा रात के अंधेरे में की जाने वाली सशस्त्र राहजनी के संकेत मिलते हैं.

तथ्यों पर ध्यान दीजिये.

 दोनों हत्यारे पुलिसकर्मी उस वक़्त ड्यूटी पर नहीं थे, अगर वे उस समय गश्त पर होते तो थाने के रोजनामचे में दर्ज होता कि वे फलाने इलाक़े में गश्त पर तैनात किये गये हैं. इसके साथ ही उनकी रवानगी दर्ज होती. जोकि नहीं है..

 दोनों हत्यारे पुलिस वाले वर्दी में नहीं थे.

 ये ग़ैरक़ानूनी हथियारों से लैस थे.

यह तीन मोटे मोटे तथ्य इन दोनों हत्यारों की मंशा स्पष्ट करते हैं कि इनका इरादा लूटपाट करने का था और दोनों ने विवेक तिवारी को अपना शिकार बनाने का प्रयास किया था जिसे विवेक भाँप गया और उसने गाड़ी नहीं रोकी.. हो सकता है कि इन राहजनों से बच निकलने की कोशिश में लुटेरों की बाइक पर उसकी गाड़ी लग गई हो.. जब राहजनों ने उसे बच निकलते देखा तो उस पर फ़ायर कर दिया.. इन राहजनों के पास उस वक़्त इतना मौक़ा नहीं था कि पलक झपकने जितने समय में जेब से पिस्टल निकाल फ़ायर कर पाते यानि पिस्टल पहले से हाथ में थी जिसे दिखला कर ही विवेक तिवारी की गाड़ी रोकने की कोशिश की गई पर तिवारी के विवेक ने उसे रूकने न दिया और हत्यारों ने उस पर गोली चला दी.

स्थानीय निवासियों का भी कहना है कि यह दोनों सिपाही रोज रात को आने जाने वालों को रोक वसूली करते थे और इनके सबसे बड़े शिकार युगल जोड़ी होती थी, भले ही वे भाई बहन ही क्यों न हो.

यूपी पुलिस भी इस मसले को अलग दिशा में ले जा यही है और मीडिया भी इसे सही नज़रिये से नहीं देख पा रहा, जबकि ज़रूरत है असल तथ्यों के मद्देनज़र जाँच करने की.

इस मामले की यदि सीबीआई जाँच करवाई जाये तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जायेगा और लेखक द्वारा सामने लाये गए तथ्यों की पुष्टि भी हो जाएगी.

Facebook Comments
(Visited 8 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.