दिवालिया होने कगार पर मगर निवेशकों का पैसा लुटाने में कोई शर्म नहीं..

Desk
Read Time:2 Minute, 51 Second

-कुमार सौवीर।।

पूरे पांच महीने हो गये हैं, मगर ऐयाश सुब्रत राय के सहारा इंडिया के कर्मचारियों को वेतन के नाम पर एक धेला तक नहीं थमाया गया है। मगर सहारा इंडिया के आला अफसरों ने अपनी एेश और कम्‍पनी की रकम को दोनों हाथों से लुटाने में कत्‍तई शर्म नहीं दिखायी है। पिछले तीन दिन पहले सुरेश रैना और प्रियंका की शादी दिल्‍ली में हुई तो सहारा इंडिया ने अपना खजाना खोल दिया। खबर है कि इस शादी का पूरा खर्चा सहारा इंडिया ने ही लुटाया है। यह है सुरेश रैना की शादी का मंजर, जिसमें सुब्रत राय के बेहद करीबी और सहारा मीडिया के प्रमुख अभिजित राय की मौजूदगी आश्‍चर्यजनक रही। खबर है कि यह पूरी सारी शादी ही सुब्रत राय के इशारे पर आयोजित की गयी है।11082568_10204073544423127_2988422239067834095_n

यह हालत तब है जब कंगाली पर खड़े और लगातार दीवालिया होते जा रहे सहारा इंडिया के कर्मचारियों ने अपने परिवार की दुर्दशा से घबरा कर आत्‍महत्‍या तक जैसे कदम उठाने का फैसला उठा लिया है। अकेले लखनऊ में ही पिछले हफ्ते ही तीन कर्मचारियों ने आत्‍महत्‍या कर अपनी इहलीला खत्‍म कर दी। लेकिन सहारा इंडिया प्रबंधन पर इसकी तनिक न तो कोई शर्म है और न ही कोई चिन्‍ता।

उधर सहारा इंडिया मैनेजमेंट के आला अफसर लगातार यही रोना-धोना कर रहे हैं कि सुब्रत राय की जमानत की रकम जुगाड़ करने के लिए कर्मचारियों और उनके परिवारीजनों-बच्‍चों के हिस्‍से की रोटी में कटौती की जा रही है। प्रबंधन ने ऐलान कर दिया है कि हालात बहुत खराब हैं, जिसके चलते एक कर्मचारियों को एक छदाम तक नहीं दिया जा सकता है। जिसे नौकरी करनी हो, वो करें, वरना अपना रास्‍ता नापें। कहा गया है कि कर्मचारीगण अपना पुराना हिसाब-किताब को भूल करके नये सिरे से कम्‍पनी को मजबूत दिलानी देने की कवायद में जुटें।

ताजा खबर है कि लखनऊ में बनी सारी सहाराई इमारतों की हालत बिलकुल धराशायी होने को है। वेतन तो दूर की बात है, अब तो इन इमारतों में बनें इमारतों में बने चाय-नाश्‍ते की दूकान तक बंध बन गयी हैं।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments
No tags for this post.

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

गृह मंत्रालय द्वारा फिर से फंड रोकने को ग्रीनपीस देगा कोर्ट में चुनौती..

देशवासियों ने ग्रीनपीस को इस वित्त वर्ष में दिया अभूतपूर्व समर्थन, वर्ष 2014-15 में 77,768 भारतीयों ने दिया 20.76 करोड़ का चंदा.. नई दिल्ली, 7 अप्रैल 2015. 31 मार्च 2015 को खत्म हुए वित्त वर्ष में ग्रीनपीस इंडिया को देश की जनता का अभूतपूर्व समर्थन मिला है. ग्रीनपीस को मिले […]
Facebook
%d bloggers like this: