फैब इंडिया के प्रबंध निदेशक विलियम बिसेल से भी होगी पूछताछ..

Desk

फैबइंडिया के ट्रायल रूम में कैमरा होने के मामले में गोवा पुलिस की अपराध शाखा कंपनी के प्रबंध निदेशक विलियम बिसेल सहित अन्य शीर्ष अधिकारियों से पूछताछ कर सकती है. फैबइंडिया के शोरूम में कथित तौर पर सीसीटीवी कैमरा होने के मामले में गोवा पुलिस ने इसके चार कर्मचारियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस अधीक्षक (अपराध) कार्तिक कश्यप ने शुक्रवार देर शाम बताया, “हम शीर्ष अधिकारियों से पूछताछ करेंगे.”fabindia

फैबइंडिया के शोरूम में कैमरा होने का खुलासा शुक्रवार को केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने किया था, जब वह कपड़े पहनकर देख रही थीं. उनके एक सहायक की नजर कैमरे पर पड़ी, जिन्होंने उन्हें इस बारे में बताया.

मामले की जांच से जुड़े एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि फैबइंडिया के शीर्ष अधिकारियों से पूछताछ जरूरी है, ताकि इसके स्टोर में सीसीटीवी प्रोटोकॉल के अनुपालन और अन्य सुरक्षा व्यवस्था के बारे में जानकारी जुटाई जा सके.

इस सिलसिले में शुक्रवार को गिरफ्तार चार लोगों की पहचान करीम लखानी, प्रशांत नाईक, राजू पंचे और परेश भगत के रूप में की गई है. उनके खिलाफ सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 354 सी, 509 और धारा 66 ई के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ये है पूरा मामला

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी शॉपिंग कर रही थीं. उन्होंने कपड़े बदलने के लिए चेंजिंग रूम का इस्तेमाल किया. इसी बीच उनके किसी सहायक की नज़र सीसीटी कैमरे पर पड़ी जिसका मुंह ट्रायल रूम की ओर था.

उन्होंने इस बात की जानकारी स्थानीय पुलिस को दी. पुलिस ने कार्रवाई करते हुए स्टोर को सील कर दिया और जांच के लिए एक विशेष टीम गठित की है.

पुलिस अधीक्षक (उत्तरी गोवा) उमेश गांवकर ने कहा कि मामले के संबंध में भारतीय दंड संहिता की धारा 354 और 509 के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई है. स्मृति ईरानी ने भी कलांगुते पुलिस थाने में अपना बयान दर्ज कराया.

कैलंगुट से भाजपा विधायक मिसेल लोबो ने कहा कि राज्य की भाजपा नेतृत्व वाली सरकार ने मामले को गंभीरता से लिया है. लोबो ने कहा, “मैं पुलिस के साथ फिलहाल हार्ड डिस्क की छानबीन कर रहा हूं. कैमरा बहुत ही गलत जगह लगाया गया था, और पिछले तीन से चार महीनों की फुटेज मिली है जिसमें महिलाएं कपड़े बदल रही हैं.”

कांग्रेस ने इसी बीच दावा किया कि ‘चेंजिंग रूम कांड’ गोवा का सबसे बड़ा राज है, खास तौर पर पर्यटन केंद्रित तटीय इलाकों में. कांग्रेस के प्रवक्ता दुर्गादास कामत ने कहा, “केवल यही बुटीक नहीं, इस तरह की सुविधाओं वाली सभी बुटीकों की जांच की जानी चाहिए. एक केंद्रीय मंत्री कम से कम अधिकारियों को सचेत कर सकता है, लेकिन ज्यादातर लोग ऐसा नहीं कर सकते.”

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

फर्जी आईडी पर ट्रेनिंग लेने वाली IAS रूबी खुदकुशी की धमकी के बाद गिरफ्तार..

देहरादून. आईएस अफसरों को ट्रेनिंग देने वाले संस्थान लालबहादुर शास्त्री नेशनल एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (एलबीएसएए) में फर्जी दस्तावेज के आधार पर करीब छह महीने ट्रेनिंग लेने वाली रूबी चौधरी को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस रूबी को किसी अज्ञात स्थान पर ले गई है. गिरफ्तार होने से पहले रूबी […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: