माफियाओं व ठेकेदारों की सरपरस्त पुलिस..

admin

10884812_10153525612235639_246443884_n

मलेथा में चल रहे स्टोन क्रेशर के खिलाफ के आन्दोलन के दौरान कल रात क्रेशर मालिक द्वारा एक आंदोलनकारी को पीटा गया.
पुलिस गाँव वालों की बात सुनने के बजाय उल्टा ग्रामीणों के हड़का रही है. पुलिस ठेकेदार की भाषा का प्रयोग कर रही है.
आन्दोलन अभी भी जारी.

क्रमिक अनशन तीसरे दिन भी जारी.

देर रात 100 नंबर की सहायता लेके SHO को मजबूर किया मेडिकल करवाने को. तब जाके रिपोर्ट लिखी गयी.
धमकाने के दौर में व्यक्तिगत रूप से डराया जा रहा था.
चूँकि ग्रामीणों का विश्वास मुझ पर है तो ग्रामीणों के सामने व्यतिगत मुझे मेरे साथ कुछ बुरा होने की बात से भपका दिया जा रहा था.
SHO : तुम्ही ही समीर रतूड़ी
मै: जी मेरा नाम ही है.
SHO : तुमसे अलग से बात करूँगा.
मै : बिलकुल जब चाहें जरुर जी.

कुछ देर ग्रामीणों से बातचीत के दौरान जब SHO अनदेखी कर रहे थे तब मैंने उनसे कहा की घायल व्यक्ति आपके सामने पड़ा है और आप उल्टा गाँव वालों को हड़का रहे है तो वो बोले :
SHO : ज्यादा मत बोलो बहुत कुछ हो सकता है.
मै : आप सिर्फ मुझे मार सकते हो, 1995 के टिहरी आन्दोलन का संज्ञान ले लीजिये जितनी मार मैंने उस समय खाई थी उससे ज्यादा तो नहीं पड़ेगी.
SHO: (इन्कार करते हुए) कुछ और भी हो सकता है
मै : जेल भेजेंगे – तैयार हूँ मै

कुछ देर ग्रामीणों के साथ और बहस के बाद मैंने फिर SHO से कहा की ठेकेदारों की भाषा मत बोलिए
SHO : गाँव में आग मत लगवाइये
मै : मै सिर्फ सच का साथ दे रहा हूँ. न मेरी जमीन है न मेरा खेत है लेकिन देश का नागरिक हूँ इसलिए यहाँ के लोगों के लिए लड़ना मेरा कर्तव्य है.

सारी प्रकरण ग्रामीणों के सामने हुआ.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

पीके फिल्म का विरोध, आखिर क्यों..

-डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’|| सुप्रसिद्ध फिल्मी नायक आमिर खान अभिनीत की “पीके” फिल्म से पाखंडी और ढोंगी धर्म के ठेकेदारों की दुकानों की नींव हिल रही हैं. इस कारण ऐसे लोग पगला से गये हैं और उलजुलूल बयान जारी करके आमिर खान का विरोध करते हुए समाज में मुस्लिमों के […]
Facebook
%d bloggers like this: