Home देश पढ़ी लिखी लड़की, रोशनी है स्लोगन नदारद..

पढ़ी लिखी लड़की, रोशनी है स्लोगन नदारद..

लक्ष्मीपुर खुर्द/महराजगंज, निचलौल विकास खंड के क्षेत्र के परिषदीय विद्यालयों में पढ़ी लिखी लड़की, रोशनी है घर की, शिक्षा है अनमोल रतन, पढ़ने का कुछ करो जतन.. जैसे स्लोगन सर्व शिक्षा अभियान को मुंह चिढ़ाते नजर आ रहे हैं. आलम यह है कि शासन के निर्देश के बावजूद विद्यालयों में कहीं शिक्षक नदारद हैं तो कहीं बच्चों की उपस्थिति ही नगण्य.

school chalo

इसका जीता जागता उदाहरण शुक्रवार भरवलिया गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में देखने को मिला. विद्यालय में लगभग १०० बच्चों का नामांकन किया गया है. नामांकन के सापेक्ष बच्चों की उपस्थित हालांकि कम ही रही किंतु विद्यालय में तैनात शिक्षा मित्र अपने कार्य के प्रति सचेत दिखे. प्रधानाध्यापक का कहीं अता-पता नहीं था. पूछने पर विद्यालय के बच्चों ने बताया कि सर जी कभी-कभार ही आते हैं.

उन्हें कौन पढ़ाता है के सवाल पर कहा कि शिक्षा मित्र सर पढ़ाते हैं. बच्चों का कहना रहा कि दूसरी कक्षा में पढ़ाने के कारण उन्हें कक्षा में बैठकर इंतजार करना पड़ता है. दोपहर के भोजन के सवाल पर कहा कि भोजन समय से मिलता है. अभिभावकों ने बताया कि शिक्षा मित्र नहीं होते तो स्कूल ही बंद हो जाता. और तो और नियम का कोई यहा पर को महत्व नहीं दिया जाता है जब चाहे विद्यालय खोले जब चाहे बंद करके घर चले जाये ऐसी है यहा के नियम अध्यापक महोदय का मोबाइल नम्बर विद्यालय के दीवार पर अंकित नही है .

सहायक बेसिक शिक्षा अधिकारी महेंद्र प्रसाद के दूरभाष पर बात करने पर बात नहीं हो पायी.

Facebook Comments
(Visited 32 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.