ज़रा याद करो कुर्बानी..

admin 1

-सिकंदर शैख़||

जैसलमेर, शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले,वतन पर मरनेवालों का यही बाक़ी निशाँ होगा…..

देश की सीमाओं की हिफाज़त करने वाले जवानों की शहादत में लिखी गयी ये पंक्तियाँ आज के इस काल खंड में बेमानी सी लगती है ..कहने को हम एक बार फिर आज़ादी का जश्न मना रहे हैं मगर हम उन शहीदों को भूलते जा रहे हैं जिनकी वजह से हमें ये आज़ादी मिली है…एक तरफ जहाँ पूरा देश आज़ादी के जश्न में डूबा है वहीँ शहीदों के स्मारक और उनके विजयी स्तम्भ भारतियों की बाट जोहते नज़र आ रहे हैं और साथ ही साथ अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहे हैं ,,जैसलमेर में सन 1971 की भारत-पाक युद्ध की याद दिलाता विजय स्तम्भ भी उनमे से ही एक है ….अपनी टूटी फूटी व्यथा गाता ये विजय स्तम्भ हम देश वाशियों के लिए शर्म की बात है और उन शहीदों की कुर्बानी को बेजा बता रहा है जो उन्होंने हमारी आज़ादी की लड़ाई के लिए दी थी.jaisalmer vijay stambh

ए मेरे वतन के लोगों , ज़रा आँख में भर लो पानी, जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी….कहते हैं जब स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने ये गीत गाया था तब तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु की आँखों में आंसू आ गए थे….वो आंसू उन शहीदों की याद में आये थे जिन्होंने इस देश की रक्षा के लिए हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी थी, मगर आज जब हम अपने देश की आज़ादी का जश्न मना रहे हैं तब कोई भी भारतीय उन शहीदों की याद में आंसू नहीं बहा रहा है वरण उन शहीदों की याद में भारत सरकार द्वारा बनाये विजय स्तम्भ अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहे हैं, और उनकी तरफ देखने वाला उनकी सार संभाल करने वाला भी कोई नहीं है.

कहने को तो हम आजाद हिन्दुतान में सांस ले रहे हैं मगर उन साँसों पर भी उन्ही शहीदों का हक है जिन्होंने हमारी आज़ादी के लिए अपनी जान तक दे दी, मगर हम आज़ादी के 65 साल बाद इतने निष्ठुर हो गए हैं की उनको याद करना तो दूर उनके स्मारकों पर फूल चदना भी भूल गए हैं, जैसलमेर में सन 1971 के भारत- पाक युद्ध की गाथा गाता ये विजय स्तम्भ, याद दिलाता है की किस तरह भारत के 120 जवानों ने पाकिस्तान के 3000 सैनिकों के दांत खट्टे कर दिए थे, किस तरह उन 120 जवानों ने पाकिस्तान के सैनिकों की भारत पर कब्ज़े की मंशा को नेस्तोनाबुत कर दिया था, उस विजय की याद में यहाँ स्थापित ये विजय सतम्भ आज टूट फूट चुका है कोई नहीं है जो इस तरफ भी देख ले. इस पर लिखे उन वीरों के नाम भी वक़्त की बेरहम मार से हट चुके हैं , मगर ना तो प्रशासन और न ही भारत माता की जय बोलने वाले किसी लीडर की नज़र इस पर पड़ती है की इक बार इस तरफ भी देख ले…ये वही विजय स्तम्भ है जो हमें पाकिस्तान पर हमारी विजय को दर्शाता है. जैसलमेर की जनता से जब बात की गयी तो सभी ने एक स्वर में इसकी भरपूर निंदा की तथा कहा की हमें इन पर नाज़ होना चाहिए की हमें आज़ादी इनकी वजह से ही मिली है मगर हम धीरे धीरे इतने स्वार्थी हो गए की जिन्होंने हमें आज़ादी दिलाई हम उनको ही भूलते जा रहे हैं.
दूसरी तरफ जैसलमेर के म्यूजियम में एक तरफ रखे इस लड़ाकू विमान ने दुश्मनों के दांत खट्टे कर दिए थे. ये विमान रात को उड़ान नहीं भर सकता था, एक तरफ जहां पाकिस्तान के 3000 सैनिकों को भारत के मात्र 120 सैनिक सीमा पर रोक कर इसी विमान का इंतज़ार कर रहे थे सीमा पर सैनकों को पता था की ये विमान रात को उड़ नहीं सकते हैं अगर हमने उनको रात भर के लिए रोक लिया तो सुबह ये विमान आ जायेंगे और दुश्मनों के टेंकों को नेस्तो नाबुत कर देंगे और यही हुआ. 120 भारतीय सैनिकों ने बहादुरी के साथ दुश्मनों को सीमा पर सुबह तक रोके रखा और सुबह होते ही इस विमान ने सीमा पर जाकर दुश्मनों के टेंकों को एक एक कर ज़मीन डोज़ कर दिया साथ ही पाक की इतनी बड़ी सेना को भागने पर मजबूर कर दिया था. उस 1971 की लड़ाई का ये हीरो आज एक कोने में खड़ा यही सोच रहा है की मैं आज यहाँ क्यों खड़ा हूँ, लोगों की उदासीनता का जीता जागता उदहारण ये लड़ाकू विमान बात जोह रहा है उन देश भक्तों की जो उसके पास आये उसे छुए उसके साथ फोटो खिंचाये, हर आज़ादी के जश्न में उसे भी शामिल किया जाय, मगर आज कोई भी नहीं है जो इसकी तरफ एक आँख भी उठा कर देखे और इसका शुक्रिया भी अता करे.

देश की सीमाओं की हिफाज़त करने वाले जवानों की शहादत को आम नागरिकों के साथ पूरा सम्मान मिलना चाहिए … क्योंकि आम लोगों के सुख चैन की खातिर अपनी जिंदगी न्योछावर करने वाले शहीद भी किसी के बेटे, किसी के पति, किसी के भाई तो किसी के बाप रहे होंगे…कम से कम हम देश पर शहीद हुए जवानों के परिवार वालों को न भूले यही किसी भी जीत के जश्न को मनाने का वाजिब और सही अंदाज़ होगा.

Facebook Comments

One thought on “ज़रा याद करो कुर्बानी..

  1. आज तो जगह जगह चौराहों पर खड़े नेताओं के खड़े बुत सुरक्षित हैं , उन पर कोई स्याही भी डाल दे तो मार काट मच जाती है पर उन शहीदों की याद किसे है , सरकार को न नागरिकों को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

कुशल खेल प्रशासक थे पुरूषोत्तम रूंगटा..

-रमेश सर्राफ धमोरा|| झुंझुनू, भारतीय क्रिकेट कंटोल बोर्ड एवं राजस्थान क्रिकेट संघ के पूर्व अध्यक्ष पुरूषोतम रूंगटा का दो वर्ष पूर्व मुम्बई में निधन हो गया था. उनके स्वर्गवास के साथ क्रिकेट प्रशासन के एक युग का अन्त हो गया. अपने परिजनो, मित्रों प्रशंसको व क्रिकेट जगत में भाई जी […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: