नितिन गडकरी के दिल्ली नहीं बल्कि मुंबई वाले घर से मिले जासूसी उपकरण..

admin

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कथित जासूसी से इनकार करने के बाद अब बीजेपी के आला नेताओं को बताया है कि दिल्ली वाले घर से नहीं, बल्कि उनके मुंबई वाले घर से जासूसी के उपकरण मिले थे. खुद गडकरी ने पार्टी के बड़े नेताओं को जासूसी को लेकर जानकारी दी है. हालांकि, सूत्रों का कहना है कि गडकरी फिलहाल मीडिया के सामने इसे कबूल करने से अभी बच रहे हैं.nitin gadkari

गौरतलब है कि, इससे पहले गडकरी ने अपने घर की कथित ‘जासूसी’ का खंडन किया था. गडकरी ने कहा था कि उनके घर में टैपिंग के उपकरण लगाए जाने की बात सरासर गलत है.

बीजेपी नेता नीतिन गड़करी  से जब मीडिया ने उनसे जासूसी को लेकर सवाल किया तो वो कुछ नहीं बोले, लेकिन उन्होंने ट्विट करके जासूसी की खबरों का खंडन किया है.

एक मीडिया की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि गडकरी के दिल्ली स्थित 13 तीन मूर्ति लेन स्थित निवास के बेड रूम से उच्च शक्ति वाला सुनने का उपकरण पाया गया था. इसमें कहा गया है कि इस उपकरण की जानकारी अचानक मिली और इसे तुरंत हाटने के आदेश दिये गए.

गडकरी ने अपने ट्विटर एकाउंट पर टिप्पणी में कहा ‘‘मीडिया के एक वर्ग में आई ये खबरें सरासर काल्पनिक हैं कि मेरे नयी दिल्ली स्थित निवास से बातें सुनने वाला उपकरण पाया गया है.’’

केन्द्रीय मंत्री के करीबी सूत्रों ने भी इस तरह का कोई उपकरण पाये जाने से इंकार किया है. इस उपकरण के बारे में खबरों में कहा गया है कि यह उच्च क्षमता का है और सामान्य तौर पर इस तरह के उपकरण का इस्तेमाल पश्चिमी एजंसियों द्वारा किया जाता है.

सुब्रमण्यम का दावा, मिले उपकरण

नितिन गडकरी के घर की जासूसी पर बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि उनके घर से जासूसी के उपकरण मिले हैं.

सुब्रमण्यम ने कहा, “किसी विदेशी एजेंसी का काम है और अमेरिका पहले से ही बीजेपी को टारगेट करता रहा है.”

स्वामी ने नितिन गडकरी के घर पर मिले जासूसी उपकरण मामले की जांच एनआईए से कराने की मांग की है.

सूत्रों के मुताबिक गडकरी की सफाई पर बीजेपी ने कहा है कि पूरे मामले पर पार्टी का भी पक्ष यही है. गडकरी की कथित ‘जासूसी’ की खबर पर कांग्रेस समेत कई दलों ने गडकरी और सरकार से सफाई देने को कहा था.

कांग्रेस के एक अन्य नेता मनीष तिवारी ने इस मामले में प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि अगर कोई जांच का आदेश दिया जाता है तो इसके पूरे तथ्यों को संसद के पटल पर रखा जाना चाहिए ताकि देश को यह पता चले कि क्या इसमें कोई सच्‍चाई है. भाकपा के डी राजा ने कहा कि यह एक गंभीर मुद्दा है और इस बात पर आश्चर्य जताया कि कोई कैसे अवैध तरीके से गडकरी के निजी कक्ष तक पहुंच सकता है.

उधर, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के निवास पर खुफिया उपकरण मिलने की रिपोर्ट की जांच होनी चाहिए तथा उन्होंने सरकार से संसद में इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण देने मांग की. उन्होंने यहां कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी में संवाददाताओं से कहा कि यदि मंत्रियों के निवास की जासूसी होती है तो यह शुभ संकेत नहीं है. इसकी जांच होनी चाहिए. यह कैसे हो सकता है? सरकार को इस पर संसद में स्पष्टीकरण देना चाहिए.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

नए गवर्नर के भय से हुड्‌डा ने संडे को गुपचुप में दिलाई कमिश्नर्स को शपथ..

चंडीगढ़,  हरियाणा के सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने अपने पॉलिटिकल एडवाइजर प्रो. बीरेंद्र की पत्नी समेत पांच लोग आयोगों के कमिश्नर बना दिए. उन्हें शपथ भी दिलवा दी. वो भी अपने घर पर और रविवार को छुट्‌टी के दिन. नए कमिश्नर्स को शपथ दिलवाने के लिए प्रशासनिक सुधार विभाग का […]
Facebook
%d bloggers like this: