Home देश इच्छामृत्यु पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया राज्य सरकारों को नोटिस

इच्छामृत्यु पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया राज्य सरकारों को नोटिस

उच्चतम न्यायलय ने परोक्ष इच्छा मृत्यु को कानूनी मान्यता दिए जाने के सम्बन्ध में आई एक याचिका पर कदम महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों को नोटिस भेज कर जवाब माँगा है कि युथेनेशिया यानी इच्छा मृत्यु को क्यों न कानूनन मान्यता दे दी जाये.Euth

मुख्य न्यायाधीश आरएम लोढ़ा की अगुवाई में हुयी बैठक में पांच सदस्यीय पीठ ने गैर सरकारी संगठन कॉमन कॉज की याचिका पर सुनवाई करते हुए सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों को नोटिस जारी करते हुए आठ सप्ताह के भीतर जवाब माँगा है. संविधान पीठ के अन्य सदस्य न्यायाधीश जे एस केहर, न्यायाधीश जस्ती चेलमेश्वर, न्यायाधीश ए के सिकरी और न्यायाधीश रोहिंगटन एफ नरीमन हैं.

हालांकि केंद्र सरकार ने इच्छा मृत्यु को कानूनी मान्यता दिए जाने का यह कहते हुए विरोध किया कि यह आत्महत्या के समान है और इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती. लेकिन इच्छा मृत्यु की पैरवी करने वालों ने ये कह कर इस कदम का स्वागत किया है कि अगर जीने की आजादी और अधिकार है तो मरने का क्यों न हो? कुछ विशेष परिस्थितियों में जीवन मृत्यु से भी बदतर हो जाता है. ऐसा अरुणा शानबाग और दिल्ली की दो बहनों के मामले में देख चुके हैं जिन्होंने अपना आधा से ज्यादा जीवन कृत्रिम उपकरणों के भरोसे बिस्तर पर बिताया था. ऐसे बहुत से चिकित्सकीय मामले हैं जिनमें इच्छामृत्यु की मांग की जाती रही है.

न्यायालय ने पूर्व सॉलिसिटर जनरल टी आर अंध्यार्जुन को मामले में न्याय मित्र बनाया है. कॉमन कॉज ने कुछ पश्चिमी देशों की तरह यहां भी जीवन संबंधी वसीयत एवं प्रतिनिधि के अधिकार (लिविंग विल एंड ऑथराइजेशन राइट) दिए जाने की वकालत की है. हालांकि उसकी दलील है कि इसे इच्छा मृत्यु की संज्ञा नहीं दी जानी चाहिए. इसलिए आज सुप्रीम कोर्ट ने इच्छा मृत्यु और अपनी मृत्यु के सम्बन्ध में वसीयत लिखे जाने में नोटिस जारी किया है.

Facebook Comments
(Visited 8 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.