Home देश दबंग दुनिया और इन्‍दौर के पत्रकारों के बीच शीत युद्ध जारी..

दबंग दुनिया और इन्‍दौर के पत्रकारों के बीच शीत युद्ध जारी..

मध्‍य प्रदेश की व्‍यावसायिक राजधानी इन्‍दौर में अक्सर नये अखबार खुलते निकलते और बन्‍द होते रहते है. व्‍यावसायिक या अन्‍य हित साधने के लिए, मगर कभी-कभी अखबार गले की घन्‍टी बन जाते है तो उसे तुरन्‍त बन्‍द भी कर दिया जाता है. ऐसी स्थिति में कई प्रेसकर्मी और पत्रकार एक झटके में ही बेरोजगार हो जाते हैं मालिक को कोई फर्क नहीं पड़ता.DABANGG

यह सिर्फ इन्‍दौर ही नहीं देश के कई शहरों की स्थिति हो सकती है पर इसमें एक नया ऐतिहासिक एपिसोड, जुड़ गया है.  इन्‍दौर में इन दिनों  दबंग दुनिया अखबार और इन्‍दौर के पत्रकारों के बीच शीत युद्ध जारी है. अभी तक जितने भी अखबार खुले और बन्‍द हुए वो अखबार मालिक की मर्जी पर ही हुए है. परन्‍तु इन्‍दौर में अब एक अखबार शायद पत्रकारो और प्रेस कर्मियो के चाहने के कारण बन्‍द होगा क्‍योंकि पिछले कुछ दिनो से चल रहे संघर्ष में आये ”उबाल” के चलते उनका ये युद्ध अब निर्णायक रूप मे इन्‍दौर की सड़को पर आ गया है.

इसमें एक ओर तो दबंग दुनिया के मालिक और मैनेजमेन्‍ट के साथ वहां के कर्मचारी पत्रकार है. दूसरी ओर इन्‍दौर प्रेस क्‍लब के पदाधिकारी और सदस्‍य हैं. दोनो ही पार्टियां एक दूसरे को ”निपटाने” को ही युद्ध समाप्ति की घोषणा मान चुकी हैं. जहां दबँग दुनिया के योद्धाओं में इन्‍दौर प्रेस क्‍लब के कुछ पूर्व पदाधिकारी है तो इन्‍दौर प्रेस क्‍लब के साथ दबंग दुनिया के ही कुछ पूर्व कर्मचारी और पत्रकार भी है. आक्रमण की दबंगई के साथ दबंग दुनिया में जहां इन्‍दौर प्रेस क्‍लब के पदाधिकारियों और उनके प्रेस क्‍लब से जुडे कार्यो के खिलाफ श्रृंखलाबद्ध खबरें छप रही हैं, वही इन्‍दौर प्रेस क्‍लब के द्वारा प्रति आक्रमण स्‍वरूप दबंग दुनिया के मालिक और कर्मचारी के कार्यकलापों का कच्‍चा चिठ्ठा सोशल मिडिया और अपनी पत्रिका प्रेस क्‍लब टाईम्‍स में खोला जा रहा है.

दबंग दुनिया कोर्ट के चक्कर काट  रहा है तो प्रेस क्‍लब स्‍थानीय प्रशासन को दबंग दुनिया में चल रही अनियमितता बताकर और प्रेस एक्‍ट का सहारा ले अखबार के खिलाफ शिकायतों की बौछार कर रहा है. अख़बार दबंग दुनिया और उसके कर्मचारियों, पत्रकारो तथा इन्‍दौर प्रेस क्‍लब के पदाधिकारियों और सदस्‍यों की ये लड़ाई कोई बहुत बड़े और एतिहासिक ”निर्णायक”  फैसले पर जाकर ही खत्‍म होगी. अगर इस लड़ाई में प्रेस क्‍लब और पत्रकारों की शिकायत पर दबंग दुनिया बन्‍द होता है तो ये एक एतिहासिक बात होगी क्‍योंकि आज तक देश में जितने भी अख़बार बन्‍द हुए है वो सब मालिक की मर्जी से ही हुए हैं, दबंग दुनिया एकमात्र ऐसा अख़बार होगा जो पत्रकारों के कारण बंद होगा.

Facebook Comments
(Visited 2 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.