Home राजेन्द्र माथुर मूलत एक चाटुकारिता पसंन्द इंसान थे..

राजेन्द्र माथुर मूलत एक चाटुकारिता पसंन्द इंसान थे..

-राजीव नयन बहुगुणा||

मेरे सम्पादक – मेरे संतापक

इसी लिए कोई भी उनको ठग लेता था. अपनी ज़रा सी श्लाघा पर खुश हो जाते और विपरीत वाक्य पर क्रोधित. अंग्रेजी के पत्रकार उनसे अतिशय भयभीत रहते थे, क्योकि जब क्रोधित होते तो माथुर बाबा उनकी हज़ार गलतियाँ निकाल लेते थे.Rajendra-Mathur

राजेन्द्र माथुर अजब ढंग के अकडू आदमी थे . उस दौर में हिंदी पत्रकारिता का दबदबा था और नव भारत टाइम्स उसका सिरमौर . सुनते हैं कि एक बारतत्कालीन पी एम राजीव गांधी ने उन्हें डिनर का न्योता भेजा . माथुर ने कहलाया कि भोजन के लायक अनुकूल वेतन मुझे मिलता है . यद्यपि वह राजीव गांधी के हित में निरंतर लेखन करते थे.

राजेन्द्र माथुर स्वयम को अंग्रेज़ी दां सिद्ध करने का अभिक्रम करते थे , लेकिन मूलतः इस उपक्रम में खुद को ही छलते थे . अंग्रेज़ी के पारंगत अवश्य थे पर मन से ठेठ देहाती . एक शाम मुझे दफ्तर के बाहर ढाबे पर मिले . बोले – कहीं छोड़ दूँ क्या ? और फिर मेरे प्रत्युत्तर की प्रतीक्षा किये बगैर कार का पट खोल मुझे साथ ले चले . मैं पहले ही अन्यत्र उल्लेख कर चुका हूँ कि कार खुद हांकते थे . अम्बेसेडर कार खुद चलाने वाले मैंने सिर्फ दो बड़े लोग देखे . एक मन मोहन सिंह और दूजे माथुर बाबा.

पिछली कड़ी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें..

Facebook Comments
(Visited 3 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.