Home मेरे सम्पादक – मेरे संतापक..

मेरे सम्पादक – मेरे संतापक..

-राजीव नयन बह्गुणा||

राजेन्द्र माथुर अपनी धुन में रहते थे . अपने अंग्रेजी ज्ञान पर उन्हें दर्प था . हो भी क्यों नहीं , अंग्रेजी के प्रोफ़ेसर जो रह चुके थे . लेकिन अपने बारे में उन्हें ग़लत फहमी थी . बेसिकली वह एक ठेठ देसी , बल्कि देहाती आदमी थे . अपने शहर इंदौर से बे पनाह मोहब्बत करते थे , और इन्दौरियों को प्रश्रय भी देते थे . अपने समकालीन और वाग्मी प्रभाष जोशी से एकदम उलट अंतर मुखी थे .rajendra mathur
राजेन्द्र माथुर मूलतः एक संत लेकिन आत्म विमुग्ध व्यक्ति थे । इतने आत्म विमुग्ध कि खुद की ही सुध – बुध भूल जाते थे । इसी लिए जल्दी निपट लिए । अपनी बिमारी के प्रति लापरवाह रहे । एक दिन जब सीने में दर्द उठा तो पडोस के लघु चिकित्सक से चेक अप कराने चल दिए । उसने व्यवसाय पुछा तो बोले कि नव भारत टाइम्स में नौकरी करता हु । डॉक्टर बोला – तुम्हारे सम्पादक राजेन्द्र माथुर को खूब पढ़ता हूँ । इस पर बोले कि मैं ही राजेन्द्र माथुर हूँ । सुनते हैं कि इस पर डॉक्टर हडबडा गया और उसके हाथ से आला छुट गया । मित्रो ,मैं चरण स्पर्श संस्कृति के प्रतिकूल हूँ , लेकिन जिन गिने चुने पुरुषों के चरणों में मैं अवनत हुआ उनमें एक माथुर भी थे.

पिछली कड़ी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें..

Facebook Comments
(Visited 2 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.