सांप्रदायिक हिंसा से जलता असम..

admin

असम के बोड़ोलैंड क्षेत्रीय जिले के बक्सा और कोकराझाड़ में बोड़ो और प्रवासी मुस्लिम समुदाय के बीच पिछले 3 दिन से जारी सांप्रदायिक हिंसा में कम-से-कम 40 लोग मारे जा चुके है, जिनमे महिलाएं और बच्चे भी शामिल है. प्रभावित क्षेत्रों से पीड़ित ग्रामीणों का पलायन जारी है और हिंसा की ख़बरें लगातार आ रही है. इन घटनाओ से पूर्व में हुए बोड़ो और मुस्लिम समुदायों के बीच हुई भयानक हिंसा की पुनरावृत्ति की आशंका बढ़ गई है.

Assam_Riots

2010 और 2012 में हुई हिंसा में 150 से अधिक लोगो की जान गई थी और तकरीबन ढाई लाख लोग प्रभावित हुए थे.

1993-94 में पहली बार हुई बोड़ो समझौते के कारन बड़ी संख्या में लोग मारे गए थे और लाखों लोगो को अपना घर बार छोड़ने के लिए विवश होना पड़ा था. वैसे हिंसा की शुरुआत हिंदुस्तान की आज़ादी के साथ ही हो गई थी. 1946-47 में कोकराझाड़, बक्सा, चिरांग और उदलगुड़ी जिले में बोड़ो आदिवाशियो और प्रवासी मुस्लिमो के बीच हिंसक झड़प की शुरुआत हो चुकी थी. बोड़ो समुदाय का आरोप है की बांग्लादेश से अवैध घुसपैठ ने उनके क्षेत्र में असुरक्षा का माहौल बना दिया है.

assam-map2003 में भारत सरकार और बोड़ो समुदाय के साथ हुए समझौते के बाद इन चार जिलो को मिला कर एक स्वयायत क्षेत्र का गठन किया गया था, जिसका प्रशासनिक अधिकार बोड़ोलैंड क्षेत्रीय परिषद् के हाथ में होता है. फ़िलहाल इस परिषद् पर बोड़ो पीपुल्स फ्रंट का कब्ज़ा है, जिसके नेता हग्राम मोहिलारी है. भारत सरकार के साथ हुए समझौते से पूर्व हग्राम मोहिलारी उग्रवादी संगठन बोड़ो लिबरेशन टाइगर्स के मुखिया रह चुके है फ़िलहाल यह फ्रंट असम की सरकार में भी शामिल है. असम सरकार के मंत्री सिद्दीकी अहमद ने आरोप लगाया है की इस हिंसा के लिए बोड़ो पीपुल्स फ्रंट ही जिम्मेदार है, क्योंकि फ्रंट की नेता प्रमिला रानी ने कुछ दिनों पहले ये बयान दिया था की प्रवासी मुस्लिमों ने कोकराझाड़ फ्रंट के प्रत्याशी चंदन को वोट नहीं दिया जिसके लिए प्रवासी मुस्लिमों को गंभीर नतीजे भुगतने होंगे. चंदन असम की सरकार में मंत्री है.

इन चार राज्यों में लगातार होती हिंसा के बाबजूद भविष्य में ऐसे हिंसा को रोकने के लिए समाधन निकलने की बजाय सत्ताधारी दल और विपक्ष मिल कर अपनी राजनैतिक रोटियां सकने में लगी हुई है. नरेंद्र मोदी अपने असम चुनाव प्रचार के दौरान अलग बोड़ो राज्य की मांग को सुलगा चुके है और बंगलादेशी शर्नाथियो/घुसपैठियों को वापस भेजने की बात भी कह चुके है. सत्ताधारी कांग्रेस की सरकार कोई कड़ा कदम उठा नहीं सकती क्योंकि बोड़ो पीपुल्स फ्रंट सरकार को समर्थन दे रही है.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

महान संघर्ष समिति ने पेड़ों पर मार्किंग के खिलाफ शांतिपूर्वक जताया विरोध..

ग्रामीणों ने जंगल में कंपनी अधिकारियों को सर्वे और पेड़ों को चिन्हित करने से रोका.. सिंगरौली, 6 मई 2014. एस्सार कंपनी ने महान जंगल क्षेत्र के ग्रामीणों के अधिकारों का एक बार फिर उल्लंघन किया. कंपनी ने सीमांकन के लिए जंगल में पेड़ों और पत्थरों को चिन्हित करना शुरु कर […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: