क्या झुंझुनू से पहली बार महिला बन पायेगी सांसद ..

admin
0 0
Read Time:8 Minute, 8 Second

-हिमा अग्रवाल||

राजस्थान में मिशन 25 लेकर चल रही भाजपा के लिए झुंझुनू की सीट जीतना एक बड़ी चुनौती है. भाजपा यहां से अब तक एक बार भी खाता नहीं खोल पाई है. झुंझुनू लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी ने सूरजगढ़ विधायक संतोष अहलावत को लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी बनाकर उन पर भरोसा जताया है. दिसंबर में विधानसभा चुनाव में पचास हजार से ज्यादा वोटों से जीत दर्ज करने वाली संतोष के नाम की घोषणा होने के साथ ही जिलेभर में उनके समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी. वे अब पूर्व केन्द्रीय मंत्री शीशराम ओला की राजनीतिक विरासत संभालने वाली उनकी पुत्र वधू व झुंझुनू की पूर्व जिला प्रमुख डॉ. राजबाला ओला से मुकाबला करेंगी जिन्हें कांग्रेस पूर्व में ही अपना प्रत्याशी घोषित कर चुकी है. आम आदमी पार्टी यहां से रिटायर्ड ले.जनरल राज कादयान को व भाकपा माले ने ओमप्रकाश झारोड़ा को अपना प्रत्याशी घोषित कर चुकी है. नवलगढ़ से निर्दलिय विधायक व पूर्व मंत्री डा.राजकुमार शर्मा ने निर्दलिय ताल ठोक कर चुनाव को दिलचस्प बना दिया है.SANTOSH AHALAWAT MLA

भाजपा जिलाध्यक्ष व 2009 में भाजपा टिकट पर झुंझुनू से लोकसभा चुनाव लड़ चुके डॉ. दशरथसिंह शेखावत भी दावेदारों में थे लेकिन जातीय समीकरण संतोष अहलावत के पक्ष में रहने से अहलावत को मैदान में उतारा गया. उन्हें प्रत्याशी बनाने का सबसे बड़ा कारण महिला और जातीय आधार माना जा रहा है. कांग्रेस ने राहुल गांधी के नव प्रयोग प्राइमरीज फार्मूले के तहत झुंझुनू के कार्यकर्ताओं ने 3 मार्च को डॉ. राजबाला को पार्टी प्रत्याशी चुन लिया था जिसकी आधिकारिक घोषणा होने के साथ ही यहां से जाट महिला नेत्री के चुनाव लडऩे की अटकलें शुरू हो गईं थी. महिला, जाति और फिर शिक्षा को देखते हुए भी संतोष अहलावत के नाम पर ही सारे कयास खत्म हो रहे थे. संतोष अहलावत को राजनीति में शीशराम ओला की पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी के रूप में पहचाना जाता है. वे उनके साथ 2004 का लोकसभा चुनाव लड़ चुकी हैं. झुंझुनू लोकसभा क्षेत्र में पहला मौका है जब दोनों प्रमुख दलों भाजपा-कांग्रेस की प्रत्याशी महिला है.

पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल राज कादयान (आप) की टिकट पर झुंझुनू से चुनाव मैदान में उतर चुके हैं. देश में सर्वाधिक सैनिक एवं पूर्व सैनिकों वाला क्षेत्र होना व हाल ही में पूर्व सैनिको को वन रैंक वन पेंशन केदिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के कारण सैनिक परिवारों में वे अपनी पकड़ मजबूत मानते हैं. उनका मानना है कि भ्रष्टाचार एवं विकास कार्यों में विफल भाजपा और कांग्रेस से नाराज मतदाताओं का झुकाव उनकी और होगा. मगर जिले में आम आदमी पार्टी का संगठन कमजोर है. झुंझुनू कांग्रेस की परंपरागत सीट है. जाट समाज के पूर्व सैनिक पारंपरिक रूप से स्थानीय जाट के पक्ष में रह सकते हैं.

RAJBALA OLA-1नरेंद्र मोदी की हवा के चलते भाजपा प्रत्याशी संतोष अहलावत पक्ष में माहौल है तथा वे निर्णायक जाट जाति से संबंधित है. पार्टी में बरसों से सक्रिय रह कर काम करना और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की विश्वास पात्र होना उनके पक्ष में जाता हैं. मगर विधायक बनने के बाद लोगों की बढ़ी अपेक्षाएं पूरी नहीं होना. पार्टी में गुटबाजी. टिकट नहीं मिलने से भाजपा का दो परंपरागत वोट बैंक राजपूत एवं सैनी जाति के उनके खिलाफ जाने की आशंका व्यक्त की जा रही है.

संतोष अहलावत ने चार महीने पहले विधानसभा चुनाव में निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस से चार बार विधायक रहे श्रवणकुमार को पचास हजार से ज्यादा वोटों से शिकस्त दी थी. उन्होंने 2004 का लोकसभा चुनाव लड़ा था. उसमें कांग्रेस के दिग्गज नेता शीशराम ओला को कड़ी टक्कर दी थी. वे महज 23355 वोटों से हारी थीं. पिछले लोकसभा चुनाव में भी उनका नाम चर्चा में था लेकिन तब डॉ. दशरथसिंह शेखावत को पार्टी ने उम्मीदवार बनाया था. डॉ. शेखावत 65 हजार वोटों से हार गए थे. उदयपुरवाटी विधायक शुभकरण चौधरी व अन्य जाट नेताओं का समर्थन संतोष अहलावत के टिकट का आधार बना.

DR.RAJKUMAR

कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. राजबाला ओला के पक्ष में पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं देश के बड़े जाट नेता रहे स्व. शीशराम ओला की पुत्रवधू होना है. उनके पति बृजेंद्र ओला झुंझुनू से विधायक हैं. 2005 से 2010 तक वे झुंझुनू की जिला प्रमुख रहते राजबाला काफी सक्रिय रहीं थी. झुंझुनू क्षेत्र जाट बाहुल्य है. ओला की इस समाज पर गहरी पकड़ थी. अल्पसंख्यकों में भी उनका अच्छा प्रभाव था. झुंझुनू कांग्रेस की परंपरागत सीट रही है. मगर शीशराम ओला के निधन के बाद कांग्रेस को पहली बार चुनाव लडऩा पड़ेगा. विधानसभा चुनाव में टिकट कटने से ओला परिवार को बागियों से चुनौती मिल रही है. लोकसभा क्षेत्र की आठ विधानसभा सीटों में से तीन पर भाजपा विधायक. तीन निर्दलीय हैं, जिनमें दो भाजपा समर्थक माने जाते हैं. केवल एक सीट कांग्रेस के पास.

पूर्व मंत्री डा.राजकुमार शर्मा भी गत दो माह से लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रहें हैं. शर्मा मूलत: कांग्रेसी रहें हैं. इसलिये उनको पूरा विश्वास है कि ओला परिवार से नाराज व गत विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से निष्कासित कांग्रेसी उनके साथ रहेंगें. कांग्रेसी व भाजपा से टिकट नहीं मिलने से राजपूत व माली समाज के मतों का झुकाव उनकी तरफ होगा. उन्हे मुस्लिम वोट मिलने का भी भरोसा है. इस तरह शर्मा के मैदान में आने से मुकाबला त्रिकोणात्मक हो गया है. अब देखना होगा की झुंझुनू से पहली बार कोई महिला संसद में पहुंचने में कामयाब हो पाती है या नहीं.

About Post Author

admin

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

ब्रेकिंग न्यूज़: क़मर वहीद नक़वी ने इंडिया टीवी से निज़ात पाई..

हिंदी पत्रकारिता के शिखर पुरुष क़मर वहीद नक़वी ने इंडिया टीवी के सम्पादकीय निदेशक (Editorial Director) पद से इस्तीफ़ा दे दिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नक़वी ने कल रविवार की सुबह ही अपना इस्तीफ़ा इंडिया टीवी के कर्ता-धर्ता रजत शर्मा को मेल कर दिया था. जिसे रात […]
Facebook
%d bloggers like this: